मुकाम पर ही रहे ताजिये, अकीदतमंदों ने रखे रोजे

शहादत की याद में अकीदत से मनाया मोहर्रम का पर्व

By: Jitesh kumar Rawal

Published: 30 Aug 2020, 09:49 PM IST

नागौर. पैगम्बर हजरत मोहम्मद साहब के नवासे इमाम हुसैन व उनके साथियों की करबला में हुई शहादत की याद में मोहर्रम का पर्व रविवार को अकीदत से मनाया गया। हालांकि कोरोना संक्रमण को देखते हुए इस बार शहर में भ्रमण के कार्यक्रमों पर रोक रही। इससे ताजिया जुलूस भी नहीं निकला जा सका। ताजियों को निर्धारित मुकाम पर रखा गया, जहां इबादत की गई। मोहर्रम के अवसर पर ताजियों का जुलूस नहीं निकलने से अखाड़ा पहलवानों के करतब व ढोल-ताशों की गूंज भी नहीं सुनाई दी। सुबह निर्धारित समय पर नमाज अदा की गई। इसके बाद ताजिया जुलूस की अन्य रस्मों का निर्वहन किया गया। अकीदतमंदों ने दो दिन के रोजे भी रखे।

दस जगहों से निकलते हैं ताजिया जुलूस
शहर काजी ताजे मोहम्मद मिराज उस्मानी ने बताया कि संक्रमण के जोखिम को देखते हुए इस बार कोरोना गाइड लाइन की पूरी पालना की गई। वैसे शहर में दस जगहों से ताजिया जुलूस निकालता है। शहर में भ्रमण के बाद ताजियों को करबला में ठंडा करने की रस्म अदा की जाती है, लेकिन बार सभी ताजिया अपने मुकाम पर ही रहे। अकीदतमंदों ने घरों में ही नमाज अदा करते हुए इबादत की। शहर में मुख्य रूप से दरगाह डोडी शरीफ, नकास गेट, लुहारपुरा, पिंजारो का मोहल्ला, दड़ा मोहल्ला, अजमेरी गेट, दरगाह बड़े पीर साहब आदि दस जगहों से ताजिया निकाला जाता है।

सादगी से मनाया मोहर्रम
कलंदरी मस्जिद के ईमाम मौलाना मोहम्मद इमरान अशफाकी ने बताया कि कोरोना महामारी को देखते हुए ताजिये नहीं निकाले गए। लोगों ने फातिहा पढ़कर मोहर्रम पर चढ़ावा चढ़ाया। मोहर्रम पर लोगों ने शनिवार और रविवार को दो रोजे रखे। घरों में हलीम व हलवा बनाया गया। नकास गेट, दरगाह बड़े पीर साहब, काजियों का चौक, बाजरवाड़ा, लोहारपुरा, न्यारों का मोहल्ला, पिंजारों का मोहल्ला में मोहर्रम इस बार अपने-अपने मकाम पर ही रखा गया। जहां लोगों ने आकर मन्नत मांगी और जियारत की।

इस साल रद्द कर दिए कार्यक्रम
सैयद सैफुददीन जीलानी रोड पर स्थित दरगाह बड़े पीर साहब में इस बार बड़े ताजिये का निर्माण नहीं हुआ। दरगाह के सज्जादा नशीन सैयद सदाकत अली जीलानी ने बताया कि कोविड 19 के खतरे के चलते इस बार छोटा सा ताजिये का एक प्रतीकात्मक रूप ही बनाया गया, जो दरगाह के अन्दर रखा गया। दरगाह में हर साल मोहर्रम पर होने वाले सभी कार्यक्रम भी इस साल रदद कर दिए गए। इस दौरान प्रशासन की ओर से जारी गाइड लाइन का पूरा ख्याल रखा गया।

Jitesh kumar Rawal
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned