नए एग्रीमेंट पर भी खरा नहीं उतरा ठेकेदार, अधूरे आरओबी पर उगे आकड़े व अंग्रेजी बबूल

शहर के दोनों ओवरब्रिज : ठेकेदार की लेटलतीफी से सब परेशान, कल हाईकोर्ट में पेश करनी है निर्माण कार्य पूरा करने की अनुपालना रिपोर्ट
- नागौर शहर के फाटक संख्या सी-61 व सी-64 पर आरओबी निर्माण का मामला

By: shyam choudhary

Published: 20 Sep 2021, 10:19 PM IST

नागौर. शहर के बीकानेर रोड रेलवे फाटक पर पिछले चार साल से चल रहा ओवरब्रिज का काम आज भी 40 फीसदी अधूरा है। आठ महीने पहले सरकार के साथ नए एग्रीमेंट का हवाला देकर हाईकोर्ट में 31 अगस्त 2021 तक काम पूरा करने का दावा करने वाला ठेकेदार जनवरी से अब तक 10 फीसदी काम भी नहीं करवा पाया है, जबकि 21 सितम्बर को ठेकेदार को हाईकोर्ट में अपने ‘वादे’ की अनुपालना रिपोर्ट पेश करनी है।

गौरतलब है कि नागौर शहर के बीकानेर फाटक पर बन रहे आरओबी के निर्माण कार्य में ठेकेदार द्वारा बरती जा रही लापरवाही व लेटलतीफी को लेकर शहर के रूपसिंह पंवार व अजय सांखला ने करीब दो साल पहले एडवोकेट एनआर चौधरी के माध्यम से रिट याचिका लगाई थी। काम पूरा करने की तिथि बीतने के बावजूद बार-बार तारीख आगे बढ़ाने पर हाईकोर्ट ने ठेकेदार व सरकार को लताड़ लगाई तो ठेकेदार ने काम को गति दी थी। इसके बाद ठेकेदार को कोरोना महामारी का बहाना मिल गया। कोरोना महामारी के चलते सरकार द्वारा लगाए गए लॉकडाउन के चलते ठेकेदार व सरकार के बीच नया एग्रीमेंट तैयार हुआ। रिट याचिका को लेकर 12 जनवरी 2021 को हुई सुनवाई में ठेकेदार व सरकार के अधिवक्ता ने कोर्ट में अंडरटेकिंग दी थी कि नए एग्रीमेंट के अनुसार आरओबी का काम 31 अगस्त 2021 तक पूरा कर दिया जाएगा। इस पर हाईकोर्ट ने ठेकेदार के बयान को रिकॉर्ड पर लेकर रिट याचिका का निस्तारण करते हुए निर्देश दिए कि काम पूरा करने के बाद प्रतिवादी सितम्बर 2021 में न्यायालय के समक्ष अनुपालना रिपोर्ट पेश करें। हालांकि हाईकोर्ट ने अनुपालना रिपोर्ट का अवलोकर करने के लिए पहले 13 सितम्बर की तारीख तय की थी, लेकिन अब इस प्रकरण को 21 सितम्बर के लिए सूचीबद्ध किया गया है। अब ठेकेदार हाईकोर्ट की कार्रवाई से बचने के लिए नया बहाना ढूंढ़ रहा है।
गौरतलब है कि मानासर रेलवे फाटक पर ओवरब्रिज का निर्माण कार्य पी.आर.एल कंस्ट्रक्शन कंपनी तथा बीकानेर रेलवे फाटक पर बन रहे ओवरब्रिज का निर्माण कार्य गुरु नानक कंस्ट्रक्शन कंपनी के जिम्मे है।

एक नजर : शहर के दोनों आरओबी
बीकानेर रेलवे क्रॉसिंग सी-61 का आरओबी
लागत - करीब 19.37 करोड़
लम्बाई - 1063 मीटर
शिलान्यास - मई, 2017
काम शुरू किया - सितम्बर 2017

मानासर रेलवे क्रॉसिंग सी-64 आरओबी
लागत - 29.23 करोड़ रुपए
लम्बाई - 1173 व 11 मीटर चौड़ा
शिलान्यास - 7 जून 2018
काम शुरू किया -अक्टूबर 2018

मानासर फाटक आरओबी के काम की भी मंथर गति
शहर के मानासर फाटक पर बन रहे ओवरब्रिज का काम भी मंथर गति से चल रहा है। ठेकेदार छह महीने में एक पिलर खड़ा कर पाया है। निर्माण कार्य के चलते सडक़ पर निर्माण सामग्री होने व बारिश के दौरान सर्विस सडक़ क्षतिग्रस्त होने से लोगों का निकलना मुश्किल हो रहा है। इसी प्रकार बीकानेर फाटक पर रामद्वारा के पीछे एक तरफ का रास्ता बंद होने से वाहन चालकों को निकलने में परेशानी होती है, वहीं दुकानदार भी परेशान हो रहे हैं।

गुमराह कर रहा है ठेकेदार
12 जनवरी को हाईकोर्ट में नए एग्रीमेंट का हवाला देकर 31 अगस्त 2021 तक काम पूरा करने का दावा करने वाला ठेकेदार काम को गति देने की बजाए सरकारी अधिकारियों व कोर्ट को गुमराह करने का काम करने रहा है। 21 मार्च को शहर के दोनों आरओबी के निर्माण कार्य का निरीक्षण करने आए केन्द्रीय सडक़ परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय के अतिरिक्त महानिदेशक एवं नागौर कलक्टर को को कंस्ट्रक्शन कंपनी के प्रतिनिधियों ने ओवरब्रिज का संपूर्ण निर्माण 31 जुलाई 2021 तक पूरा करने की बात कही थी। इसके बाद 21 अक्टूबर तक काम पूरा करने की बात करने लगा। जबकि धरातल की स्थिति को देखते हुए दोनों आरओबी का काम अगले छह माह में भी पूरा होता नजर नहीं आ रहा है। क्योंकि दोनों ओवरब्रिज का काम 35 से 40 फीसदी बाकी है।

अगस्त में ही करना था काम पूरा
नागौर शहर के बीकानेर रेलवे फाटक पर बन रहे आरओबी के निर्माण को लेकर ठेकेदार व सरकार ने 12 जनवरी को हाईकोर्ट में अंडरटेकिंग दी थी कि 31 अगस्त को काम पूरा कर देंगे। जिसे कोर्ट ने रिकॉर्ड में लेते हुए सितम्बर 2021 में अनुपालना रिपोर्ट पेश करने के निर्देश देते हुए रिट याचिका का निस्तारण किया।
- एनआर चौधरी, याचिकाकर्ता के अधिवक्ता, जोधपुर हाईकोर्ट

shyam choudhary Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned