scriptThe crisis of biological danger looming large due to the garbage collected from millions of tons | VIDEO...लाखों टन एकत्रित हुए कचरे से मंडरा रहा जैविक खतरे का संकट | Patrika News

VIDEO...लाखों टन एकत्रित हुए कचरे से मंडरा रहा जैविक खतरे का संकट

Nagaur.
कचरो के ढेर बने बच्चों व पर्यावरण की सेहत पर खतरा
शिक्षण संस्थानों के नजदीक ही डाला जा रहा शहर का कचरा
-विवेकानंद राजकीय मॉडल स्कूल एवं केन्द्रीय विद्यालय के नजदीक ही बना दिया अघोषित कचरा डंपिग यार्ड
-कचरा लगातार डाले जाने से डंपिंग यार्ड के आसपास के इलाकों का पानी कठोर जल में तब्दील होने का बढ़ा संकट
-कचरा जल्द नहीं हटा तो जमीन हो जाएगी जहरीली

नागौर

Updated: June 17, 2022 10:22:16 pm

नागौर. जिला मुख्यालय पर स्थित विवेकानंद राजकीय मॉडल स्कूल एवं केन्द्रीय विद्यालय के नजदीक ही अघोषित रूप से बने कचरा यार्ड के कारण बच्चों के साथ जमीन की सेहत भी खतरे में हैं। जिम्मेदारों ने बच्चों के दो प्रमुख शिक्षण संस्थानों के नजदीक ही अघोषित रूप से कचरा का डंपिग यार्ड बना दिया गया है। यहां पर पड़े लाखो टन कचरे की उठती दुर्गन्ध से स्कूल में अध्ययनरत बच्चे जहां ठीक से पढ़ाई नहीं कर पाते, वहीं इनकी सेहत पर भी कचरे का खतरा मंडराने लगा है। कचरा यार्ड होने के कारण इस क्षेत्र में वायु प्रदूषण के साथ ही भू-जल के भी अब संक्रमित होने की आशंकाएं बढ़ गई है।

_dsa0065.jpg

यूपी की सुमन तो पकड़ी गई, पुणे का राजू अब तक फरार
शहर के रीको एरिया में प्रवेश करने पर विवेकानंद मॉडल स्कूल एवं केन्द्रीय विद्यालय की ओर जाने पर महज थोड़ी ही दूरी पर कचरा यार्ड नजर आ जाता है। स्थिति यह है कि यह कचरा यार्ड शिक्षण संस्थानों में मुख्य रूप से विवेकानंद स्कूल के लगभग ठीक सामने पड़ जाता है। स्थिति का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि विद्यालय के अंदर प्रवेश करने के बाद भी कचरे से उठती दुर्गन्ध पीछा नहीं छोड़ती है। मॉडल स्कूल से इसकी दूरी महज 25-30 मीटर की दूरी पड़ती है। वर्तमान में यहां पर एकत्रित हो चुके लाखों टन कचरे के कारण न केवल इस पूरे मार्ग के आधा किलोमीटर एरिया में दुर्गन्ध बनी रहती है, बल्कि इसकी वजह से अक्सर स्कूल में पढऩे के दौरान बच्चे भी उल्टी करने लग जाते हैं। विद्यालय प्रशासन की माने तो इसी कचरे के कारण पूरे क्षेत्र में विषैले मच्छरों की अधिकता होने के कारण आए दिन अब बच्चों की सेहत बिगडऩे लगी है।

वीडियो : सेना में संविदा भर्ती के खिलाफ उतरी आरएलपी
पशुओं का रहता है जमावड़ा
अषोषित रूप से बने कचरा यार्ड में हर समय लावारिश पशुओं का जमावड़ा लगा रहता है। जैविक रूप से इसमें कचरे में कई प्रकार के जहरीले माने-जाने वाले तत्वों का सेवन भी यह पशु कर लेते हैं। इसके साथ ही इस कचरे को इधर से उधर फैलाने का काम भी पशुओं की ओर से किया जाता है। इसकी वजह से यह कचरा कई जगहों पर फैल जाता है। ऐसे में पशुओ की जिंदगी व सेहत न केवल खतरे में रहती है, बल्कि इसके फैलने से जैविक बीमारियों का भी संंकट बढ़ जाता है।

प्रेम विवाह करने के बाद नवविववाहित जोड़े ने कोर्ट से मांगी सुरक्षा, जानिए क्या हुआ
बच्चों के साथ जमीन व पानी की सेहत भी कर रहा खराब
विशेषज्ञों का कहना है कि डंपिंग यार्ड के आसपास के इलाकों में भू-जल बुरी तरह से प्रदूषित हो जाता है। इस वजह से इन इलाकों में संक्रामक बीमारियों के फैलने की आशंका हमेशा बनी रहती है। कचरे की वजह आसपास की हर चीज जहरीली होने लगती है। वैज्ञानिक शोधों से स्पष्ट है कि कचरा यार्ड होने से पानी और हवा तक में जहर घुल जाता है। शोधों में ऐसे कई स्थानों की जांच में भी पाया गया कि पानी के प्रदूषण का स्तर बहुत भयावह स्थिति में पहुंच जाता है। पानी में खतरनाक स्तर पर सल्फेट, नाइट्रेट, कैल्शियम, मैगनीशियम पाए गए हैं। डंपिंग यार्ड के आसपास के इलाकों का पानी कठोर जल में तब्दील हो जाता है। इसे किसी भी सूरत में पीया नहीं जा सकता। इस पानी को नहाने-धोने के लिए इस्तेमाल में लाने पर त्वचा संबंधी रोगों से ग्रसित होने की आशंकाएं बढ़ जाती है। प्रदूषित पानी के उपयोग की वजह से इन इलाकों के लोगों को आंत संबंधी बीमारियों से लगातार जूझना पड़ता है। कई बार शरीर में निर्जलीकरण की समस्या से लोगों की हालत खराब हो जाती है।

बहुत सह लिया, अब और नहीं, दूसरा ठेकेदार ही करेगा अधूरे आरओबी को पूरा
इनका कहना है...
शिक्षण संस्थानों के नजदीक कचरा यार्ड होने की जानकारी नहीं है। इसे नगरपरिषद की टीम भेजकर देखवा लिया जाएगा। जांच के बाद यथायोग्य आवश्यक कदम उठाए जाएंगे। बच्चों व पर्यावरण की सेहत से कोई समझौता नहीं किया जाएगा।
मीतू बोथरा, सभापति नगरपरिषद नागौर
मॉडल स्कूल के ठीक सामने बड़े मैदान में लाखों टन कचरा पड़ा हुआ है। पूरे शहर का कचरा यहीं डाला जा रहा है। इस संबंध में नगरपरिषद व प्रशासन से लिखित में भी अनुरोध किया जा चुका है। इसके कारण बच्चों की सेहत खराब होने के संदर्भ में जिम्मेदारों को अवगत कराया जा चुका है।
प्रमिला यादव, संस्था प्रधान, विवेकानंद राजकीय मॉडल स्कूल नागौर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मीन राशि में वक्री होंगे गुरु, इन राशियों पर धन वर्षा होने के रहेंगे आसारइन राशियों के लोग काफी जल्दी बनते हैं धनवान, मां लक्ष्मी रहती हैं इन पर मेहरबानभाग्यवान होती हैं इन नाम की लड़कियां, मां लक्ष्मी रहती हैं इन पर मेहरबानऊंची किस्मत वाली होती हैं इन बर्थ डेट वाली लड़कियां, करियर में खूब पाती हैं सफलताधन को आकर्षित करती है कछुआ अंगूठी, लेकिन इस तरह से पहनने की न करें गलतीपनीर, चिकन और मटन से भी महंगी बिक रही प्रोटीन से भरपूर ये सब्जी, बढ़ाती है इम्यूनिटीweather update news..मौसम की भविष्यवाणी सटीक, कई जिलों में तूफानी हवा के साथ झमाझमस्कूल में 15 साल के लड़के से बनाए अननेचुरल संबंध, वीडियो भी बनाया

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: जेपी नड्डा के आवास पर पहुंचे देवेंद्र फडणवीस, इस मुद्दे पर हो सकती है चर्चाMaharashtra: ईडी ने शिवसेना नेता संजय राउत को फिर भेजा समन, जमीन घोटाले के मामले में 1 जुलाई को पेश होने के लिए कहाUdaipur में नूपुर शर्मा के सपोर्ट में पोस्ट करने पर युवक की गला काटकर हत्या, सोशल मीडिया पर जारी किया वीडियोPunjab: सीएम भगवंत मान का ऐलान, अग्निपथ के खिलाफ विधानसभा में लाएंगे प्रस्ताव, होगा किसान आंदोलन जैसा विरोध!Jammu Kashmir: कुपवाड़ा में LoC के पास भारतीय जवानों ने दो आतंकियों को किया ढेर, भारी मात्रा में गोला-बारूद जब्तहाईकोर्ट ने ब्यूरोक्रैसी को दिखाया आईना, कहा- नहीं आता जांच करना, सरकार को भी कठघरे में किया खड़ाMumbai Building Collapse: कुर्ला कॉम्प्लेक्स हादसे के बाद एक्शन में BMC, इलाके के 3 जर्जर इमारतों को गिराने का आदेशजानिए क्यों ' मुंबई के फैंटम' के नाम से मशहूर थे अरबपति कारोबारी पालोनजी मिस्री
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.