नागौर में राजमार्ग 89 पर रात में सन्नाटे को भगाती है भजनों की सुर लहरियां

नागौर में  राजमार्ग 89 पर रात में सन्नाटे को भगाती है भजनों की सुर लहरियां

Dharmendra Gaur | Publish: Sep, 03 2018 11:04:49 AM (IST) Nagaur, Rajasthan, India

नागौर में जातरुओं की सेवा चाकरी में जुटे श्रद्धालु , जगह-जगह शामियाने लगा कर रहे सेवा ,भक्तों के लिए चाय, पानी व दवा की सुविधा
नागौर. लोक देवता बाबा रामदेव के भजनों की सुर लहरियां, दूर-दूर तक सुनाई देते बाबा के जयकारे, अल सुबह बाबा की आरती में खड़े श्रद्धालु। कमोबेश ऐसे ही नजारे इन दिनों राष्ट्रीय राजमार्ग 89 पर देखने को मिल रहे हैं। हाथों में पचरंगी ध्वजा, जुबां पर बाबा के जयकारे, कहीं टेंट में घाव पर मरहम लगा रहेभक्त तो कहीं चाय-नाश्ते की मनुहार। राजमार्ग पर इन दिनों बाबा रामदेव के भक्तों की भारी चहल-पहल नजर आ रही है। हर तरफ यात्रियों के जत्थे ही दिख रहे हैं। बाबा रामदेव के दर्शन करने के लिए प्रतिदिन हजारों की संख्या में श्रद्धालु रामदेवरा जा रहे हैं।


दूर-दूर से आते हैं जातरू
बाबा के भक्त रात करीब 3-4 बजे से यात्रा पर रवाना हो जाते हैं और सुबह 10-11 बजे तक पैदल दुपहिया वाहन साइकिल पर सफर करते हैं। दिन में आराम करने के बाद शाम 5 बजे से फिर इनका सफर शुरू हो जाता हैं। बाबा के दर्शन करने कई राज्यों से जातरु पैदल, दुपहिया व चौपहिया वाहनों पर सवार होकर जाते हैं। ऐसे में नागौर-जोधपुर बाइपास, बीकानेर रोड, मूण्डवा रोड, डेह रोड, चेनार रोड पर कई समाजों व संगठनों की ओर से नि:शुल्क भोजन व ठहरने की व्यवस्था की गई है। रात में भजन मंडलियोंं द्वारा भजनों की प्रस्तुति दी जाती है।


चाय-नाश्ते की सुविधा भी

जातरुओं की भीड़ देखने को मिल रही है। रामसा पीर के दर्शन करने रामदेवरा जाने वाले जातरुओं की सेवा के लिए भक्त भी पीछे नहीं हैं। राम रसोड़ा में रामदेवरा जातरुओं के लिए भोजन, चाय-नाश्ता, दवाइयां, ठहरने की सुविधाएं आदि नि:शुल्क उपलब्ध करवाई जा रही है। पैदल चलकर आने वाले जातरूओं को पैर दर्द, कमर दर्द आदि होने पर हाथ-पैर दबाने, मोच निकालने, मालिश करने, मरहम पट्टी करने, दवाई आदि देने की व्यवस्था की जाती है। भंडारों में देर रात तक जातरुओं की सेवा की जाती है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned