scriptएडमिशन में लॉटरी का “खेल’ हुआ फेल…! तय सीटों से कम आए नामांकन, अब सामान्य प्रक्रिया से दाखिला शुरू | Patrika News
नागौर

एडमिशन में लॉटरी का “खेल’ हुआ फेल…! तय सीटों से कम आए नामांकन, अब सामान्य प्रक्रिया से दाखिला शुरू

मेड़ता सिटी (नागौर). प्रदेश में कांग्रेस सरकार के शासन में शुरू किए गए महात्मा गांधी राजकीय अंग्रेजी माध्यम विद्यालयों में कक्षा 1 से 8वीं तक प्रवेश को लेकर चली लॉटरी प्रक्रिया फीकी नजर आई।

नागौरJul 09, 2024 / 12:04 am

Ravindra Mishra

nagaur nagaurnews

प्रवेश प्रक्रिया

– “पहले आओ-पहले पाओ’ की तर्ज पर कक्षावार सीधे ही मिल सकेगा ऑफलाइन प्रवेश ताकि बढ़ सके नामांकन

मेड़ता सिटी (नागौर). प्रदेश में कांग्रेस सरकार के शासन में शुरू किए गए महात्मा गांधी राजकीय अंग्रेजी माध्यम विद्यालयों में कक्षा 1 से 8वीं तक प्रवेश को लेकर चली लॉटरी प्रक्रिया फीकी नजर आई। नतीजन जिन कक्षाओं में जितनी सीटों पर एडमिशन अलॉट किए गए थे उसके अनुरूप आधे या इससे भी कम नामांकन मिले हैं। रिक्त रही सीटों पर एडमिशन को लेकर अब सामान्य तरह से ऑफलाइन “पहले आओ-पहले पाओ’ की तर्ज पर आवेदन लिए जा रहे हैं। जो अभिभावक अपने बच्चे को उच्च प्राथमिक शिक्षा इंग्लिश मीडियम में दिलवाना चाहते हैं, वो स्कूल में जाकर प्रवेश दिलवा सकते हैं।
महात्मा गांधी राजकीय अंग्रेजी मीडियम विद्यालयों में एडमिशन को लेकर बेरूखी इससे ही साफ होती है कि मेड़ता मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारी कार्यालय के अंतर्गत आने वाले इन 8 विद्यालयों में अभी भी सभी कक्षाओं की सीटें आधी और इससे ज्यादा रिक्त पड़ी है। जबकि लॉटरी सिस्टम से प्रवेश देने की प्रक्रिया 18 जून को ही पूरी हो गई। दरअसल, लॉटरी सिस्टम की जरूरत तब पड़ती जब कक्षा 1 से 5वीं तक 40-40 से अधिक और 6 से 8वीं तक 35-35 से ज्यादा आवेदन मिलते। लेकिन यहां अधिकांश स्कूलों में तो सभी क्लासों में नामांकन की निर्धारित सीटों से आधे ही आए हैं। जहां लॉटरी सिस्टम का कोई तुक ही नहीं निकलता। अब जब लॉटरी ऑनलाइन सिस्टम फेल हो चुका है तो शिक्षा विभाग की ओर से ऑफलाइन रूप से “पहले आओ, पहले पाओ’ की तर्ज पर कक्षा 1 से 8वीं तक प्रवेश दिया जा रहा है।
बेरूखी क्यों : भौतिक संसाधन-सुविधाएं नहीं, केवल नाम के अंग्रेजी माध्यम!

दरअसल, महात्मा गांधी राजकीय अंग्रेजी माध्यम विद्यालयों को इस स्थिति का सामना क्यों करना पड़ रहा है, इसके पीछे कुछ प्रमुख कारण है। एक तो इन स्कूलों में स्टाफ की कमी सहित भौतिक संसाधनों का टोटा है। वहीं अपने बच्चों को अंग्रेजी माध्यम में एडमिशन दिलवाने वाले अभिभावकों के पांव नहीं पड़ रहे हैं। वहीं सालों तक हिंदी मीडियम में पढ़ने वाले बच्चे भी अब अंग्रेजी मीडियम में पढ़ने के नाम पर टीसी लेकर जा रहे हैं।
मेड़ता ब्लॉक में इन जगह संचालित है महात्मा गांधी विद्यालय

मेड़ता मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारी कार्यालय के अंतर्गत आने वाले मेड़ता रोड में 2 सहित रेण, डांगावास, गोटन, मोकलपुर, टालनपुर, आकेली-ए गांवों में महात्मा गांधी अंग्रेजी मीडियम विद्यालय संचालित है। इनमें से आकेली-ए बालिका, गोटन व रेण विद्यालयों में नामांकन की संख्या ठीक है क्योंकि यहां पहले से स्कूल संचालित थी। लेकिन दूसरे जगहों पर विद्यालयों में केवल नाममात्र के बच्चे अध्यनरत्त हैं।
स्कूलेंबढ़ाए संपर्क, झोंके ताकत : अंग्रेजी मीडियम के प्रवेश के लिए हो प्रचार

मेड़ता ब्लॉक के अंतर्गत आने वाले इन महात्मा गांधी विद्यालयों में एडमिशन के लिए एक योजनाबद्ध तरीके से कार्य करने की जरूरत है। इसके लिए स्कूलें अभिभावकों को इंग्लिश मीडियम में दाखिले के फायदे बताते हुए सामाजिक संगठन, जनप्रतिनिधियों का सहयोग लेकर के जागरूक करें। प्रचार-प्रसार के लिए रैली, डोर-टू-डोर संपर्क जैसी गतिविधियां आयोजित हो। जिससे इन महात्मा गांधी विद्यालयों का बेड़ा पार हो सके।

Hindi News/ Nagaur / एडमिशन में लॉटरी का “खेल’ हुआ फेल…! तय सीटों से कम आए नामांकन, अब सामान्य प्रक्रिया से दाखिला शुरू

ट्रेंडिंग वीडियो