rajexcise:आसानी से खपा सकेंगे गारंटी पूर्ति का माल, पुलिस नहीं फटकार पाएगी डंडा

शराब ठेकों से माल स्थानांतरित करने के लिए ठेकेदार को मिलेगा परमिट, अभी तक ठेकेदारों को अपनाने पड़ रहे थे अवैध तरीके, अब होगी आसानी, आबकारी नीति में किए पुलिस हस्तक्षेप कम करने के प्रयास

नागौर. नई आबकारी नीति में शराब ठेकेदारों को फायदा मिलने की उम्मीद है। इस बार किए गए नवाचार के तहत गारंटी पूर्ति का माल आसानी से खपाने की सुविधा मिलेगी, जिससे ठेकेदारों को पहले की तरह अवैध रूप से माल पार करने जैसे तरीकों से मुक्ति मिल जाएगी। ऐसे में शराब परिवहन के मामले में सीधे तौर पर होने वाला पुलिस का हस्तक्षेप भी लगभग खत्म हो जाएगा।
आबकारी महकमे ने शराब व्यवसाइयों को लुभाने के लिए इस बार कुछ इसी तरह का प्रावधान किया है। इसके तहत एक से दूसरी दुकान के बीच माल ले जाने के लिए परिवहन परमिट (टीपी) जारी करने का प्रावधान किया है। पहली बार हुए इस तरह के प्रावधान से शराब व्यवसाइयों को फायदा मिलेगा तथा पुलिस का हस्तक्षेप भी कम होगा। नई नीति के तहत ठेकेदार अपनी गारंटी मात्रा को अन्य अनुज्ञाधारी को स्थानांतरित कर सकेगा। इसके लिए बकायदा उसे टीपी जारी की जाएगी। ऐसे में एक दुकान से दूसरी दुकान तक स्थानांतरित होने वाली यह खेप वैध तरीके से परिवहन की जा सकेगी। पूर्व में इस तरह का प्रावधान नहीं था, जिससे ठेकेदार को अपनी गारंटी पूर्ति का माल खपाने के लिए अवैध तरीके अपनाने पड़ रहे थे। चोरी-छिपे माल परिवहन के कारण आबकारी व पुलिस के डंडे का भी डर रहता था, लेकिन टीपी जारी होने से इस तरह के मामलों पर अब पुलिस भी डंडा नहीं फटकार पाएगी।


समूह क्षेत्र में लगा सकेंगे गोदाम
दुकान में माल खत्म होने पर तत्काल ही सरकारी दुकान से खेप लाने की माथापच्ची से भी मुक्ति मिल गई है। अब समूह क्षेत्र में रिटेल ऑफ दुकान के साथ ही गोदाम लगाने का प्रावधान किया गया है, जिससे अपने स्टॉक के अनुसार ठेकेदार पहले से ही माल जमा कर सकेगा। इससे बार-बार सरकारी गोदाम के चक्कर लगाने के झंझट से मुक्ति मिल जाएगी।


अवैध मामलों में कर सकते हैं कार्रवाई
आबकारी नियमों के तहत वैसे भी शराब की दुकानों पर पुलिस का सीधे तौर पर हस्तक्षेप नहीं होता है। जांच के लिए दुकानों में जाना पड़े तो पुलिस में उप अधीक्षक स्तर से नीचे के अधिकारी को प्रवेश की अनुमति ही नहीं है। इसमें भी आबकारी निरीक्षक का साथ होना आवश्यक है। लेकिन, अवैध रूप से माल परिवहन जैसे मामलों में पुलिस सीधे ही कार्रवाई कर सकती है।

आबकारी में राजस्व बढऩे का अनुमान
नए प्रावधान के तहत इस बार समूह क्षेत्र में गोदाम लगाया जा सकेगा। वहीं गारंटी पूर्ति का माल अन्य दुकान में खपाने के लिए टीपी दी जा सकेगी। ऐसे में ठेकेदारों को इस बार काफी सहूलियत मिलने की उम्मीद है। माना जा रहा है कि इससे नए लोग भी शराब व्यवसाय की ओर से आकर्षित होंगे तथा आबकारी महकमे को आवेदन से मिलने वाला राजस्व भी काफी हद तक बढऩे का अनुमान है।


अच्छे प्रावधान किए हैं...
नई आबकारी नीति में इस बार अच्छे प्रावधान किए हैं। गोदाम व टीपी का प्रावधान होने से ठेकेदारों को सहूलियत मिल सकेगी। वहीं नए लोग इस व्यवसाय से जुड़ेंगे तो आवेदन से आने वाला राजस्व भी बढ़ेगा।
- गेमराराम, जिला आबकारी अधिकारी, नागौर

Jitesh kumar Rawal
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned