शिक्षिका ने समझा छात्रा का दर्द, ऑपरेशन करवा की देखभाल

Sandeep Pandey

Publish: Feb, 15 2018 12:25:01 PM (IST)

Nagaur, Gandhi Chowk, Nagaur, Rajasthan, India
शिक्षिका ने समझा छात्रा का दर्द, ऑपरेशन करवा की देखभाल

इसे एक शिक्षिका का अपनी छात्रा के प्रति लगाव ही कहेंगे। जिसको अपनी शिष्या के अपेंडिक्स के दर्दकी पीड़ा देखी नहीं गई। दर्द से कराहते देख उसने बिना कुछ

महावीर टेलर

लाडनूं. इसे एक शिक्षिका का अपनी छात्रा के प्रति लगाव ही कहेंगे। जिसको अपनी शिष्या के अपेंडिक्स के दर्दकी पीड़ा देखी नहीं गई। दर्द से कराहते देख उसने बिना कुछ सोचे समझे छात्रा का अपने स्तर पर ही ऑपरेशन करवा दिया गया। ऐसा कर उसने सबके सामने एक अनूकरणीय उदाहरण पेश किया है। इतना ही नहीं अब वह उसकी अपनी बच्ची की तरह दिनरात अस्पताल में देखभाल भी कर रही है। वहीं छात्रा भी ऑपरेशन के बाद सकुशल है। उन्होंने ऐसा कर छात्रा के दर्दपर हमेशा के लिए मरहम लगाने का काम किया है। जानकारी के अनुसार कस्बे स्थित कस्तूरबा गांधी बालिका आवासीय विद्यालय की छात्रा दुर्गा गत करीब दो वर्ष से अपेंडिक्स के दर्दसे परेशान थी। बिना मां-बाप की यह बच्ची दवाईयां लेकर दर्द को सहन कर रही थी। चार फरवरी को अचानक तेज दर्द होने लगा। जो कम नहीं हो रहा था। अध्यापिका परवीना भाटी से इसकी तकलीफ देखी नहीं गई। उन्होंने इसकी सूचना दुर्गाके चाचा व अन्य परिजनों को दी। लेकिन वहां से उसे कोईसकारात्मक जवाब नहीं मिला। इस पर उसने बिना कुछ सोच विचार किए दुर्गा को कस्ब के राजकीय अस्पताल के डॉ. केआर पूनिया को दिखाया। जिन्होंने उसका उपचार शुरू कर दिया। लेकिन तकलीफ कम नहीं होने व इंफेक्शन बढऩे पर चिकित्सक ने उसका ऑपरेशन करने की बात कही। अध्यापिका परवीना भाटी ने साक्षी के रूप में हस्ताक्षर कर ऑपरेशन के लिए तुरंत हां कर दी। 10फरवरी को उसका ऑपरेशन किया गया। जहां पर वह अब सकुशल है। उसे दर्दसे हमेशा के लिए निजात मिल गई। अध्यापिका परवीना भाटी की ओर से किए गए इस साहसिक निर्णय की हर कोईसहराना कर रहा हैं। ऑपरेशन के बाद अस्पताल में वह दुर्गा की पूरी तरह देखभाल भी कर रही है। उनके इस कार्यमें विद्यालय की प्रधानाचार्य शबाना खान भी उनके सहयोग के लिए साथ खड़ी रही। दोनों बारी-बारी से दिन व रात के समय छात्रा के पास रहती है। बतौर परवीना भाटी छात्रा दुर्गा को अस्पताल से डिसचार्जकरने पर उसको हॉस्टल ले जाया जाएगा। वहां पर भी दुर्गा को किसी तरह से परेशान नहीं होने दिया जाएगा। उसकी देखभाल में कोईकमी नहीं आने दी जाएगी। उन्होंने बताया कि छात्रा के उपचार पर जो भी खर्चाहुआ है उसका भुगतान विद्यालय के फंड से दिया जाएगा।
पढ़ाई में है अव्वल
छात्रा दुर्गा पढ़ाई के साथ-साथ खेलकूद में भी होशियार है। उसने स्कूली प्रतियोगिताओं में राज्य स्तर पर फास्ट साइक्लिंग में द्वितीय व तश्तरी फेंक में तृतीय स्थान पर रह चुकी है। वहीं पढ़ाई में भी वह अव्वल है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned