नगर परिषद के भूखंड पर किए कब्जे को समझाइश से हटाया

बख्तासागर के पास विकसित किए हैं व्यवसायिक भूखंड, एक पर हो गया अवैध कब्जा, अतिक्रमण निरोधी दस्ते की समझाइश के बाद अतिक्रमी ने उठाया सामान, फिर ध्वस्त किया कब्जा

By: Jitesh kumar Rawal

Published: 25 Nov 2020, 10:36 PM IST

नागौर. शहर में बख्तासागर के समीप नगर परिषद की ओर से विकसित व्यवसायिक योजना के भूखंड से बुधवार को अतिक्रमण हटाया गया। अतिक्रमी ने समझाइश के बाद अपना सामान हटा लिया।

आयुक्त मनीषा चौधरी ने बताया कि बख्तासागर के समीप एक भूखंड पर किसी ने कब्जा कर लिया था। अवैध निमाण हटाने के लिए नगर परिषद का दस्ता मौके पर पहुंचा। इस दौरान लोग एकत्र हो गए तथा अतिक्रमण हटाने का विरोध किया। मामले की नजाकत को देखते हुए दस्ते ने अतिक्रमी माजिद अकरम से समझाइश की। इस पर वह मान गया तथा अपना सामान हटा लिया। इसके बाद दस्ते ने अवैध निर्माण को ध्वस्त किया। इस दौरान सहायक अभ्ज्ञियंता मकबूल अहमद, सहायक नगर नियोजक शैदीन खान, जेइएन दीपक गेंदवाल, स्वच्छता निरीक्षक चंदूलाल चांगरा, अशोक बारासा आदि मौजूद रहे।

लोगों ने विरोध किया तो समझाया
नगर परिषद ने इस जगह व्यवसायिक योजना के तहत पच्चीस भूखंड विकसित किए हैं। इनमें सें एक भूखंड पर अतिक्रमी काबिज हो गया था। इसे हटाने के लिए दस्ता मौके पर पहुंचा, लेकिन लोगों का विरोध झेलना पड़ा। इसके बाद दस्ते में शामिल कार्मिकों ने अतिक्रमी से ही समझाइश की, जिस पर वह सामान हटाने के लिए मान गया।


बिना नोटिस कार्रवाई का लगाया आरोप
उधर, दुकान को तोड़े जाने के मामले में माजिद अकरम ने नगर परिषद कार्मिकों पर आरोप लगाया है। बताया कि उसने नगर परिषद में आठ लाख रुपए जमा करवाकर यह दुकान आवंटित करवाई थी, लेकिन उसे दस्तावेज मुहैया नहीं करवाए गए। परिषद के अधिकारियों व कर्मचारियों पर रिश्वत मांगने का आरोप लगाया। बिना नोटिस दिए नगर परिषद ने यह कार्रवाई की गई है। इस दुकान को लेकर कोर्ट से स्थगन आदेश ले रखा था, लेकिन उसकी दुकान तोड़ दी गई।

Jitesh kumar Rawal
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned