सर्वर की समस्या से बढ़ाया समय, दो के बजाय सात घंटे का आकलन

शिक्षक अभिरुचि दिवस: शिक्षकों के कौशल एवं क्षमता संवर्धन का आकलन, शाम तक भरे गए फॉर्म

By: Jitesh kumar Rawal

Published: 06 Jun 2020, 01:55 PM IST

नागौर. शिक्षकों के कौशल एवं क्षमता संवर्धन के लिए शुक्रवार को आयोजित शिक्षक अभिरुचि दिवस का समय दो घंटे का था, लेकिन सर्वर की समस्या से इसे बढ़ाकर सात घंटे करना पड़ा। सुबह दस से बारह बजे तक ही इसे निपटना था, लेकिन एक साथ ही लोड बढऩे से सर्वर डगमगाने लगा। ऐसे में न तो शिक्षक समय पर अपना आकलन फॉर्म नहीं भर पाए। इनको समय देने के लिए लगातार समय बढ़ाया गया। प्रदेशभर में कमोबेश ऐसी ही स्थिति रही। नागौर में शाम पांच बजे तक लिंक कार्यरत रख गया। इसके बाद शिक्षकों के फॉर्म कंपलीट हो पाए। सुबह निर्धारित समय पर शिक्षकों को ऑनलाइन टेस्ट को लेकर पीइइओ ग्रुप से लिंक तो मिल गया, लेकिन सर्वर डाउन हो गया। लिंक बंद करने का निर्धारित समय दोपहर बारह बजे तक ही था, लेकिन सर्वर की समस्या के कारण इसे बढ़ाया गया। किसी जिले में दोपहर दो बजे तक तो कहीं चार से पांच बजे तक भी फॉर्म सबमिट किए गए।

तैयार करेंगे प्रशिक्षण की प्लानिंग
प्रशिक्षण रुचि आकलन उन सभी शिक्षकों ने भरा, जो कक्षा पहली से आठवीं में अंग्रेजी, हिंदी, गणित या विज्ञान विषय को पढ़ाते हैं। आकलन फॉर्म भरने से भविष्य की प्रशिक्षण जरूरतों को समझा जा सकेगा। प्रशिक्षण के परिणामों को केवल डिजिटल प्रशिक्षण तैयार करने और उसकी योजना बनाने के लिए ही उपयोग में लिया जाएगा।

शिक्षकों से पूछे 50 प्रश्न
प्रशिक्षण रुचि आकलन में कक्षा पहली से पांचवीं तक पढ़ाने वाले शिक्षकों के लिए अंग्रेजी, हिंदी व गणित विषय से संबंधित प्रश्न पूछे गए। इसमें करीब 30 प्रश्न विषय से संबंधित और 20 प्रश्न शिक्षण शास्त्र से संबंधित थे। कक्षा छह से आठवीं तक पढ़ाने वाले शिक्षकों को अंग्रेजी, हिंदी या गणित एवं विज्ञान में से कोई एक विषय चुनना था। चुने हुए विषय पर करीब 30 प्रश्न विषय से संबंधित और 20 प्रश्न शिक्षण शास्त्र से संबंधित पूछे गए। शिक्षकों से प्रशिक्षण जरूरतों के बारे में भी पूछा गया।

इसलिए अवसर दिया गया...
प्रदेश के सभी शिक्षक एक साथ जुडऩे से सर्वर पर लोड बढ़ गया था। ऐसे में लिंक बंद करने का समय भी बढ़ाया गया। प्रशिक्षण की जरूरतों का आकलन करने का कार्यक्रम था इसलिए समय बढ़ाकर शिक्षकों को अवसर दिया गया।
- बस्तीराम सांगवा, एडीपीसी, समसा, नागौर

Jitesh kumar Rawal
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned