ग्रामीणों ने बाजार बंद रखकर किया प्रदर्शन

ग्रामीणों ने बाजार बंद रखकर किया प्रदर्शन

Dharmendra gaur | Publish: Sep, 07 2018 06:18:28 PM (IST) Nagaur, Rajasthan, India

प्रशासन ने दिया पांच दिन में कार्रवाई का आश्वासन

आलनियावास. कस्बे की एक महिला के साथ अश्लील क्लिप बनाकर यौन शोषण करनेके मामले में बीस दिन बाद भी पुलिस द्वारा कोई ठोस कार्रवाई नहीं करने के विरोध में शुक्रवार को कस्बे के बाजार पूरी तरह से बंद रहे। सर्व समाज की ओर से कस्बे के मुख्य मोहल्लों, बाजार, बस स्टैण्ड पर पुलिस प्रशासन के खिलाफ आक्रोश रैली निकाल कर जमकर नारेबाजी की। ग्रामीणों के प्रदर्शन की सूचना मिलने पर उपखण्ड अधिकारी गौरीशंकर शर्मा के निर्देश पर तहसीलदार सांवरमल अबासरा मौके पर पहुंचे तथा प्रदर्शनकारियों को समझाने का प्रयास किया, लेकिन वे नहीं माने। गामीणों का कहना था कि मामले को लेकर 17 अगस्त को पुलिस थाने में मामला दर्ज कराया गया, उसके बावजूद पुलिस ने आज तक किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं की। प्रदर्शनकारी ग्रामीण पुलिस अधीक्षक को मौके पर बुलाने की बात पर अड़ गए। इसके बाद थांवला थानाधिकारी राकेश कुमार मीना मय जाप्ते के मौके पर पहुंचे तथा उच्चाधिकारियों से वार्ता के बाद कार्रवाई के लिए पांच दिन का समय मांगा। गांव के मुख्य लोगों के बीच आश्वासन देने पर प्रदर्शनकारी सहमत हो गए।

कलक्टर के नाम सौंपा ज्ञापन

प्रदर्शनकारियों ने मौके पर पहुंचे अधिकारियों को जिला कलक्टर के नाम ज्ञापन सौंपा, जिसमें ब्लैकमेल कांड से जुड़े सभी आरोपियों की गिरफ्तारी कर कड़ी सजा दिलवाने की मांग की गई।

परिवार के लोगों ने जताया रोष
पीडि़त महिला के परिवार के लोगों ने पुलिस प्रशासन के सामने रोष प्रकट करते हुए बताया कि आरोपियों ने अश्लील फोटो सोशयल मीडिया पर वायरल कर दिए, जिससे परिवार वालों को गहरा आघात लगा। इस वजह से बच्चे भी विद्यालय नहीं जा पा रहे हैं। इस दौरान सरपंच नवरतन चौधरी, मंडल सदस्य छोटू अहमद, गिरधारीलाल शर्मा, केदारमल शर्मा, रामज्ञवरूप विश्राई, जितेन्द्र गौड़, नवयुवक मंडल, व्यापार संघ सहित सर्व समाज के लोग उपस्थित रहे।

एसपी को सूचना दी है
अश्लील वीडियो क्लिप से ब्लैकमल करने के मामले को लेकर ग्रामीणों ने जिला कलक्टर के नाम ज्ञापन दिया है, जिसकी सूचना जिला कलक्टर व पुलिस अधीक्षक को दे दी है। - गौरी शंकर शर्मा, उपखण्ड अधिकारी

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned