scriptfuture of 33 children of martyr's family Naxal violence is at stake | नक्सल हिंसा पीड़ित सहित शहीद परिवार के 33 बच्चों का भविष्य दांव पर | Patrika News

नक्सल हिंसा पीड़ित सहित शहीद परिवार के 33 बच्चों का भविष्य दांव पर

नक्सल हिंसा पीड़ित शहीद परिवार के बच्चों गुणवत्ता पूर्ण शिक्षा प्रदान करने के लिए शासन ने बाल भविष्य सुरक्षा भाग- 2 निष्ठा घटक योजना की शुरुआत की थी। इस योजना के तहत नक्सल हिंसा सहित शहीद परिवार के बच्चों को उत्कृष्ट विद्यालय में प्रवेश देंकर गुणवत्ता पूर्ण शिक्षा प्रदान की जाती थी। लेकिन कोरोना काल के बाद शासन की बाल भविष्य सुरक्षा भाग -2 निष्ठा घटक योजना पर ग्रहण लगते नजर आ रहा है।

नारायणपुर

Published: July 01, 2022 12:13:48 pm

नारायणपुर . जानकारी के अनुसार नक्सल हिंसा में पीड़ित होने के साथ शहीद परिवार के बच्चों को निशुल्क गुणवत्ता पूर्ण शिक्षा प्रदान करने के लिए शासन ने 2017 में बाल भविष्य सुरक्षा भाग-2 निष्ठा घटक योजना की शुरुआत की थी। इस योजना के तहत नक्सल हिंसा सहित शहीद परिवार के चयनित बच्चो को उत्कृष्ट विद्यालय में नि:शुल्क शिक्षा प्रदान कर शासकीय छात्रावास में आवासीय सुविधा प्रदान की जाती थी। इससे नारायणपुर जिले के चयनित 33 बच्चो को राजनादगांव गांव के उत्कृष्ट विद्यालय सेंटर विसेंट पोलोटी इंटरनेशनल स्कूल में दाखिला करवाकर नि:शुल्क शिक्षा के साथ शासकीय छात्रावास में आवासीय सुविधा प्रदान की जाती थी। यहां 2017 एवं 2018 तक दो साल तक 33 बच्चों को उत्कृष्ट विद्यालय में गुणवत्ता पूर्ण शिक्षा का लाभ लेकर अपना भविष्य गढ़ने में लगे हुए थे। लेकिन 2019 में कोरोना काल के चलते स्कूल बंद होने के कारण बच्चो को वापस अपने गृहग्राम भेज दिया था।

.

इसके बावजूद कोरोना काल मे 2 साल 33 बच्चो की शिक्षा ऑनलाइन के माध्यम से चल रही थी। लेकिन कोरोना काल खत्म होने के बाद सभी स्कूलों का संचालन इस सत्र से शुरू होगा गया है। इससे बाल भविष्य सुरक्षा भाग-2 निष्ठा घटक योजना के तहत उत्कृष्ट विद्यालय में शिक्षा ग्रहण करने वाले 33 बच्चों को सहायक आयुक्त नारायणपुर के माध्यम से 4 दिन पूर्व राजनादगांव भेजा गया था। सभी छात्र शासकीय छात्रावास में निवासरत थे। यहां से छात्र अपने स्कूल पहुचे थे।

लेकिन उत्कृष्ट विद्यालय सेंटर विसेंट पोलोटी इंटरनेशनल स्कूल प्रबंधन ने बच्चों का प्रवेश लेने से मना कर दिया। इससे विभिन्न उत्कृष्ट विद्यालय सेंटर में बच्चों के प्रवेश के लिए राजनादगांव शासकीय छात्रावास प्रबंधन ने पतासाजी की थी। लेकिन सभी उत्कृष्ट विद्यालय सेंटर छात्रों के प्रवेश को लेकर हाथ खड़े कर दिए। इससे शासकीय छात्रावास प्रबंधन ने 4 दिन बाद गुरुवार को बच्चो वापस अपने गृह ग्राम भेज दिया है। इससे नक्सल हिंसा सहित शहीद परिवारों को अपने बच्चों के भविष्य की चिंता संताने लगी है।

सवालों के घेरे में आदिवासी विकास विभाग की कार्यप्रणाली
बाल भविष्य सुरक्षा भाग-2 निष्ठा घटक योजना के तहत राजनादगांव के उत्कृष्ट विद्यालय में शिक्षा ग्रहण करने वाले 33 बच्चों को सहायक आयुक्त आदिवासी विकास विभाग के माध्यम से 4 दिन पूर्व शिक्षा ग्रहण करने के लिए राजनादगांव भेजा गया था। लेंकिन बच्चो के राजनादगांव पहुचने के बाद योजना बंद होने की जानकारी राजनादगांव सहायक आयुक्त द्वारा दी जा रही है। इससे नारायणपुर जिले सहायक आयुक्त विकास विभाग को योजना की जानकारी नहीं होना समझ से परे है। इस योजना की जानकारी लिए बिना सहायक आयुक्त द्वारा बच्चो राजनादगांव भेजना कई सवालों को जन्म देते नजर आ रही। इससे नारायणपुर सहायक आयुक्त आदिवासी विभाग की कार्यप्रणाली सवालों के घेरे में नजर आती है। इस मामले को लेकर सहायक आयुक्त से जानकारी ली गई, टी वो इस मामले में कुछ भी कहने से बचते नजर आए।

योजना बंद होने से नहीं हो पाया प्रवेश
नक्सल हिंसा सहित शहीद परिवारो ने अपनी व्यथा मीडिया को बताते हुए राजनादगांव सहायक आयुक्त का नंबर प्रदान किया था। इससे राजनादगांव सहायक आयुक्त एसके वाहने ने मोबाइल पर चर्चा में बताया कि योजना बंद होने से उत्कृष्ट विद्यालय सेंटर ने बच्चो का एडमिशन नही लेने की बात कही है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

आरएसएस नेता इंद्रेश कुमार का बड़ा बयान, बापू की छोटी सी भूल ने भारत के टुकड़े करा दिएHimachal Pradesh: जबरदस्ती धर्म परिवर्तन करवाने पर होगी 10 साल की जेल, लगेगा भारी जुर्मानाDGCA ने एयरपोर्ट पर पक्षियों के हमले को रोकने के लिए जारी किया दिशा-निर्देश'हर घर तिरंगा' अभियान में शामिल हुई PM नरेंद्र मोदी की मां हीराबेन, बच्‍चों के संग फहराया राष्‍ट्रीय ध्‍वज7,500 स्टूडेंट्स ने मिलकर बनाया सबसे बड़ा ह्यूमन फ्लैग, गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज हुआ नामबिहारः सत्ता गंवाते ही NDA के 3 सांसद पाला बदलने को तैयार, महागठबंधन में शामिल होने की चल रही चर्चा'फ्री रेवड़ी ' कल्चर व स्कूल के मुद्दे पर संबित्र पात्रा ने AAP को घेरा, कहा- 701 स्कूलों में प्रिंसिपल नहीं, 745 स्कूलों में नहीं पढ़ाया जाता विज्ञानPM मोदी ने कॉमनवेल्थ गेम्स में हिस्सा लेने वाले दल से मुलाकात की, कहा- विजेताओं से मिलकर हो रहा गर्व
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.