आरआई और पटवारी ने मुआवजे के बदले मांगा कुछ ऐसा कि किसानों की हो गई बोलती बंद

आरआई और पटवारी ने मुआवजे के बदले मांगा कुछ ऐसा कि किसानों की हो गई बोलती बंद
patwari and R.I.

किसानों का कहना, परियोजना के प्रभावित किसानों को मुआवजा दिलाने के बाद आरआई और पटवारी ब्लैंक चेक की मांग कर रहे हैं।

नारायणपुर. देवगांव परियोजना के प्रभावित किसानों ने क्षेत्र के आरआई व पटवारी पर रिश्वतखोरी का आरोप लगाया है। किसानों का कहना, परियोजना के प्रभावित किसानों को मुआवजा दिलाने के बाद आरआई और पटवारी ब्लैंक चेक की मांग कर रहे हैं। सोमवार को प्रभावित किसानों ने कलक्टर टोपेश्वर वर्मा से मिलकर शिकायत करते हुए भ्रष्ट अधिकारियों पर कार्रवाई की मांग की है।

162 हेक्टेयर में प्रस्तावित योजना में 55 किसान प्रभावित

मुख्यालय से करीब दस किलोमीटर दूर देवगांव में 162 हेक्टर भूमि पर जलाशय परियोजना प्रस्तावित है। इस परियोजना का डीजीपीएस सर्वे के साथ ही नहर कार्य का सर्वेक्षण कार्य पूरा कर लिया गया है। वन प्रकरण की आनलाइन पंजीयन की प्राथमिक कार्रवाही भी पूरी कर ली गई है। परियोजना में करीब 55 किसानों की 55.10 हेक्टर जमीन डूबान क्षेत्र में आने के कारण प्रभावित हो रही है। इसके कारण राजस्व विभाग द्वारा प्रभावित किसानों की जमीन का सर्वेक्षण कार्य पूरा कर मुआवजा के लिए भू-अर्जन कार्यालय को भेजा है।


Read More : प्री मानसून की बौछार से किसानों के अच्छे दिन आ गए



अमले के रवैये से किसान परेशान

डूबान क्षेत्र में प्रभावित होने वाले किसानों ने राजस्व अमला आरआई, पटवारी एंव अन्य कर्मचारियों पर रिश्वत मांगने का आरोप लगाते हुए कहा है कि जलाशय परियोजना के निर्माण के लिए सर्वे कार्य राजस्व अमला कर रहा है। सर्वे कार्य करने के दौरान राजस्व अमले के कर्मचारियों ने जमीन, पेड़-पौधों की ठीक से नाप व गिनती नहीं की है। इससे प्रभावित किसान शासन से मिलने वाले मुआवजे को लेकर चिंतित है। राजस्व अमले के कर्मचारी सर्वे कार्य व मुआवजा के नाम पर प्रभावित किसानों के घर पहुंचकर लाखों रूपए की रिश्वत की मांग कर रहे हैं। ब्लैक चेक भी मांगा है।
Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned