21 साल पुराने मारपीट के मामले में हुआ राजीनामा

21 साल पुराने मारपीट के मामले में हुआ राजीनामा

Ajay Khare | Publish: Sep, 08 2018 08:42:13 PM (IST) Narsinghpur, Madhya Pradesh, India

नरसिंहपुर। राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण जबलपुर के निर्देशानुसार जिला एवं सत्र न्यायाधीश, अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण नरसिंहपुर आरके नागपुरे के मार्गदर्शन में नेशनल लोक अदालत मे न्यायाधीश अजय कुमार चौहान की खंडपीठ में दोनो जीते न कोई हारा लोक अदालत बढाये भाईचारा की तर्ज पर पर आधारित लोक अदालत में पिछले 21 वर्ष से चल रहे एक मामले का पटाक्षेप राजीनामा करवाकर किया गया।

नरसिंहपुर। राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण जबलपुर के निर्देशानुसार जिला एवं सत्र न्यायाधीश, अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण नरसिंहपुर आरके नागपुरे के मार्गदर्शन में नेशनल लोक अदालत का आयोजन किया गया। लोक अदालत मे दोनो जीते न कोई हारा लोक अदालत बढाये भाईचारा की तर्ज पर पर आधारित लोक अदालत में पिछले 21 वर्ष से चल रहे एक मामले का पटाक्षेप राजीनामा करवाकर किया गया।
न्यायाधीश अजय कुमार चौहान की खंडपीठ में भारतीय दंड विधान की धारा 294, 324 के प्रकरण में आपसी सुलह के आधार पर निराकरण किया गया। 14 जनवरी 1997 में सिनेमाघर में फिल्म की टिकट को लेकर हुए विवाद में आरोपी राकेश उर्फ छोटे ने लोहे की राड एवं चेन से हमला कर दिया था। आरोपी वर्तमान में केन्द्रीय कारागार में बंद था। न्यायाधीश के आदेश पर आरोपी को जेल से बुलाकर नेशनल लोक अदालत के माध्यम से आपसी निराकरण कर दिया गया। जिससे दोनो पक्ष संतुष्ठ नजर आए एवं 21 वर्ष पुराने प्रकरण में समझौता के आधार पर केस का निराकरण किया गया। दोनों पक्षकारों को न्याय वृक्ष प्रदान किया तथा भाईचारे के साथ रहते हुए पर्यावरण संरक्षण के लिए भी जागरूक किया गया।

लोहे की राड एवं चेन से हमला कर दिया था। आरोपी वर्तमान में केन्द्रीय कारागार में बंद था। न्यायाधीश के आदेश पर आरोपी को जेल से बुलाकर नेशनल लोक अदालत के माध्यम से आपसी निराकरण कर दिया गया। जिससे दोनो पक्ष संतुष्ठ नजर आए एवं 21 वर्ष पुराने प्रकरण में समझौता के आधार पर केस का निराकरण किया गया। दोनों पक्षकारों को न्याय वृक्ष प्रदान किया तथा भाईचारे के साथ रहते हुए पर्यावरण संरक्षण के लिए भी जागरूक किया गया।

लोहे की राड एवं चेन से हमला कर दिया था। आरोपी वर्तमान में केन्द्रीय कारागार में बंद था। न्यायाधीश के आदेश पर आरोपी को जेल से बुलाकर नेशनल लोक अदालत केजिससे दोनो पक्ष संतुष्ठ नजर आए एवं 21 वर्ष पुराने प्रकरण में समझौता के आधार पर केस का निराकरण किया गया। दोनों पक्षकारों को न्याय वृक्ष प्रदान किया तथा भाईचारे के साथ रहते हुए पर्यावरण संरक्षण के लिए भी जागरूक किया गया।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned