करोड़ों का आसामी पंचायत सचिव निलंबित, ईओडब्लू ने 20 जून को मारा था छापा

करोड़ों के आसामी जनपद पंचायत चीचली के हीरापुर पंचायत सचिव भागचंद कौरव को जिला पंचायत के सीईओ ने निलंबित कर दिया है।

नरसिंहपुर/गाडरवारा। करोड़ों के आसामी जनपद पंचायत चीचली के हीरापुर पंचायत सचिव भागचंद कौरव को जिला पंचायत के सीईओ ने निलंबित कर दिया है। सीईओ ने मध्य प्रदेश पंचायत सेवा आचरण अधिनियम 1998 के नियम (3) के तहत कदाचरण के चलते निलंबित किया है। अपने आदेश में जिला पंचायत सीईओ ने उल्लेख किया है कि पंचायत राज संचालनालय भोपाल के पत्र दिनांक 09.07.2019 के अनुसार भागचंद कौरव सचिव ग्राम पंचायत हीरापुर के विरुद्ध आर्थिक अपराध प्रकोष्ठ द्वारा प्रकरण दर्ज किए जाने के आधार पर निलंबित किया गया है।भागचंद कौरव तत्कालीन सचिव ग्राम पंचायत हीरापुर की वर्तमान पदस्थापना ग्राम पंचायत चोर बरहटा थी। निलंबन की अवधि में कौरव का मुख्यालय जनपद पंचायत चीचली नियत किया गया है। निलंबन अवधि में नियमानुसार जीवन निर्वाह भत्ते की पात्रता रहेगी। उक्त आदेश तत्काल प्रभावशील बताया गया है।

फैक्ट फाइल
ईओडब्ल्यूू मध्यप्रदेश के पत्र दिनांक 04.06.2019 द्वारा शिकायत क्रमांक 298/12 की जांच में प्रथम दृष्टया अपराध कारित होना पाए जाने पर भागचंद कौरव के विरुद्ध अपराध क्रमांक 23/19 धारा 109, 409, 120बी भादवि एवं 13 (1) डी,13 (1) ई, सह पठित 13 (2) भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम 1988,उपं भ्रनि. (संशोधन) अधिनियम 2018 की धारा 7(सी), 13(1)ए, 13(1)बी, 13(2), दिनांक 27.05.2019 को पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया है।


यह था मामला
20 जून 2019 की सुबह करीब 5-6 बजे आर्थिक अपराध अन्वेषण ब्यूरो जबलपुर (ईओडब्ल्यू) की 52 सदस्यीय टीम ने जनपद चीचली के अंतर्गत ग्राम हीरापुर निवासी पंचायत सचिव भागचंद कौरव के मकान सहित दो अन्य जगहों पर छापामार कार्रवाई की थी। हीरापुर के पू्र्व संरपच कपिल लमानिया ने इस मामले में वर्ष 2012 में आय से अधिक संपत्ति की शिकायत की थी, जिस पर जांच में आरोप सही पाए जाने पर टीम ने सर्च कार्रवाई की थी। उल्लेेखनीय है कि आरोपी का मकान हीरापुर गांव में बाहर खेत में बना है, जहां बंद कमरे में घंटों जांच चली। सूत्रों के अनुसार इस दौरान टीम ने बारीकी से चीजों की पड़ताल की थी। वहीं मिली जानकारी के मुताबिक टीम ने 30 एकड़ जमीन के दस्तावेज बरामद किए थे। इसमें एनटीपीसी के पास रायपुर मौजा में बेटों के नाम से करीब 50 लाख की 3 एकड़ जमीन खरीदी के भी दस्तावेज मिले थे। साथ ही विभिन्न बैंक पासबुकें, कुछ नगदी रुपए, तीन बाइक, एक चार पहिया वाहन, करीब एक किलो सोने चांदी के जेवरात भी टीम ने बरामद किए थे। सूत्रों के अनुसार लगभग एक करोड़ रुपए से अधिक की संपत्ति बरामद हुई थी। जांच टीम ने सचिव की वर्तमान पदस्थापना वाली चोरबरहटा पंचायत भवन को भी सील किया था। जांच दल की सीनियर इंस्पेक्टर शशिकला मर्सकोले के अनुसार विभागीय अनियमितता की शिकायत पर जांच में अपराध पाए जाने पर सर्च कार्रवाई की गई । जांच दल ने आरोपी के विरुद्ध भ्रष्टाचार अधिनियम की धारा 13-1ए, 13-1बी, 13-2 के तहत कार्रवाई की।
-----------------------------------------------------------

ajay khare
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned