अपनी शिक्षा का किया उपयोग जेल को बना दिया चमन

शिक्षा कभी व्यर्थ नहीं जाती भले ही आप किसी दूसरे क्षेत्र में नौकरी कर रहे हों। इसे साबित किया है
शिल्पा ने जो सेंट्रल जेल नरसिंहपुर में सहायक जेल अधीक्षक हैं

By: ajay khare

Published: 02 Aug 2020, 08:13 PM IST

नरसिंहपुर. शिक्षा कभी व्यर्थ नहीं जाती भले ही आप किसी दूसरे क्षेत्र में नौकरी कर रहे हों। इसे साबित किया है
शिल्पा ने जो सेंट्रल जेल नरसिंहपुर में सहायक जेल अधीक्षक हैं। 2017में पीएससी से चयनित शिल्पा ने एग्रीकल्चर इन वेजीटेबल में पालमपुर हिमाचल प्रदेश से एमएससी किया है। पेड़ पौधों के प्रति अपनी रुचि और जूनून के चलते उन्होंने 2 साल में जेल को चमन बनाने की दिशा में सार्थक पहल की। जहां बंदियों से काम लिया जा सकता है वहां सब्जियां लगवाईं जहां बाहर नहीं निकला जा सकता वहां कटहल, नीबू, सहजन, मीठी नीम लगाई, जेल के भीतर खुशनुमा माहौल के लिए खूबसूरत फूल भी लगाए । उन्होंने इनके बॉटनिकल नाम भी कुछ बंदियों को भी बोलना सिखा दिया है । सफेद गुलाब में गुलाबी गुलाब कि ग्राफ्टिंग भी की और गौशाला को हरे चारे के लिए आत्मनिर्भर बनाने नेपिएर ग्रास और बरसीम की फसल लगवाई । वे हर्बल प्लांट्स का बगीचा और ताईवानी पपीते भी लगाना चाहती हैं। शासकीय सेवा में केवल सरकारी काम करके समय काटना अलग बात है और अपने जूनून से अपने कार्यक्षेत्र को बेहतर बनाना एक अलग बात है।

ajay khare Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned