कोरोना का कहरः सब्जी विक्रेताओं ने भी किया समर्थन, नहीं निकले बाहर

-दवा की दुकानों को छोड़ सब कुछ बंद

By: Ajay Chaturvedi

Published: 16 Sep 2020, 04:52 PM IST

नरसिंहपुर. केंद्र और राज्य सरकार स्तर पर भले ही अनलॉक पर जिसे अपने और परिवार के जीवन की चिंता सता रही है, उन्होंने टोटल स्वैच्छिक लॉकडाउन का पालन कर रहे हैं। आलम है कि जिले में चारों तरफ सन्नाटा है। यहां तक कि सब्जी वाले भी नहीं निकले। हर कोई डरा सहमा है। दूर तलक कहीं कोई नहीं दिख रहा। दवा की दुकानें जरूर खुली हैं पर वहां भी दुकानदार ही दिख रहे हैं।

ये कोरोना का खौफ ही है कि लोगों ने स्वतःस्फूर्त लॉकडाउन घोषित और उस पर पूरी तरह से अमल भी कर रहे हैं। हर किसी की कोशिश है कि कोरोना वायरस का कम्यूनिटी स्प्रेड न होने पाए। इसी सोच के साथ ये स्वैच्छिक लॉकडाउन शुरू हुआ है। ऐसा नहीं कि यह केवल नरसिंहपुर में है, बल्कि जिले के व्यापारियों ने प्रदेश भर के लोगों के समक्ष मिसाल पेश की है। इसके तहत मंगलवार से शुरू लॉकडाउन में केवल दवा की दुकानें ही खुली नजर आईँ। सड़कों पर सन्नाटा पसरा रहा। व्यारारियों ने तय किया है कि सभी दुकानें 22 सितंबर तक बंद रहेंगी।

कोरोना संक्रमण का भय इस तरह है कि कपड़ा, हार्डवेयर, किराना, फुटवेयर, इलेक्ट्रॉनिक्स, इलेक्ट्रिकल्स, सीमेंट, खाद-बीज आदि की दुकानों में भी ताला लटकता मिला। सभी ने तय किया है कि कोरोना संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए वो आत्म संयम बरतेंगे। घरों में रहेंगे। कोरोना प्रोटोकॉल का पूरी तरह से पालन करेंगे।

इस बाबत महाकोशल व्यापारी कल्याण परिषद के तत्वावधान में सभी छोटी-बड़ी दुकान, प्रतिष्ठान संचालकों ने ऑनलाइन बैठक कर एक सप्ताह के लॉकडाउन का निर्णय लिया। परिषद के पदाधिकारियों हरिशचंद्र अग्रवाल, अमरजीत भाटिया, प्रमोद जैन, संतोष अवधिया, नरेंद्र अवधिया, अजय श्रीराम नेमा, अनिल राठी ने अपेक्षा जताई कि जनस्वास्थ्य के लिए व्यापारियों के इस लॉकडाउन में जनता, शासन-प्रशासन सभी सहयोग करेंगे। इसके साथ ही परिषद ने आम लोगों से आह्वान किया कि वे बढ़ते मरीजों व संक्रमण को देखते हुए अनावश्यक घर से बाहर न निकलें। बार-बार साबुन से हाथ धोते रहें। शारीरिक दूरी के नियम का पालन करते रहें, घर से बाहर निकलते वक्त मास्क जरूर लगाएं, ताकि संक्रमण का प्रसार न हो सके। महाकोशल व्यापारी परिषद के पदाधिकारियों ने बताया कि 23 सितंबर से वे अपनी-अपनी दुकानें निश्चित अवधि के लिए ही खोलेंगे। सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया है कि अनलॉक के बाद सुबह 9 से शाम 6 बजे तक बाजार खुला रहेगा।

करेली तहसील की बात करें तो यहां पर व्यापारी संघों ने पहले ही हफ्ते में दो दिन का लॉकडाउन घोषित कर रखा है। करेली शहर समेत आसपास के गांवों में व्यापारी शनिवार व रविवार को स्वेच्छिक रूप से टोटल लॉकडाउन करेंगे। यहां के व्यापारियों के अनुसार यदि आने वाले दिनों में कोरोना मरीजों की संख्या और बढ़ती है तो स्वेच्छिक लॉकडाउन को लेकर नए सिरे से रणनीति बनाई जाएगी।

Show More
Ajay Chaturvedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned