कांग्रेस नेता का एक करोड़ का आलीशान भवन ढ़हाया

- 24 घंटे पहले दिया नोटिस
- नर्मदा परिक्रमा पथिकों के लिए भवन दान देने का अनुरोध भी ठुकराया
- सरकारी भूमि पर बना था भवन

By: Hitendra Sharma

Published: 13 Jan 2021, 09:05 AM IST

नरसिंहपुर. बरमान में प्रशासन ने 15 हजार वर्ग फीट पर बनाए गए कांग्रेस नेता राव चंद्र प्रताप सिंह का आलीशान भवन ढहा दिया। भवन अतिक्रमण कर सरकारी जमीन में बनाया गया था। प्रशासन ने अतिक्रमण हटाने के लिए व्यापक तैयारी की थी। जिसके तहत बरमान चौकी में भारी संख्या में पुलिस बल एकत्र किया गया था। एसपी अजय सिंह और कलेक्टर वेद प्रकाश की मौजूदगी में हैवी अर्थमूवर मशीनों से देखते ही देखते मकान जमींदोज कर दिया गया।

भवन मालिक राव चंद्र प्रताप सिंह को कार्रवाई से 24 घंटे पहले नोटिस दिया गया था । मंगलवार सुबह जिसके बाद भवन मालिक राव चंद्र प्रताप ने भवन से अपना सामान हटा लिया। भवन तोडऩे के दौरान किसी तरह की कोई अप्रिय स्थिति निर्मित नहीं हुई। बताया गया है कि गिराए गए भवन की कीमत करीब 1 करोड़ थी। जिस स्थान पर कार्रवाई की गई है उसी जमीन में से राव चंद्र प्रताप सिंह के पिता राव नेतराज सिंह ने कई साल पहले करीब 2 एकड़ भूमि स्कूल को दान की थी। कार्रवाई के दौरान अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सुनील शिवहरे, एसडीएम राधेश्याम बघेल, एसडीओपी महंती मरावी, करेली थाना प्रभारी अनिल सिंघई, तहसीलदार पंकज मिश्रा, चौकी प्रभारी अनिल भगत, पुलिस विभाग के साथ अन्य संबंधित अधिकारी उपस्थित रहे।

भवन गिरता देख दिया दान का प्रस्ताव
कार्रवाई से हड़बड़ाए राव नेतराज सिंह ने प्रशासन से शासन के पक्ष में दान पत्र लिखने का प्रस्ताव रखा ताकि यह भवन नर्मदा परिक्रमा वासियों के ठहरने के काम आ सके पर प्रशासन ने उनकी मांग ठुकरा दी

पूर्व गृह मंत्री के हैं रिश्तेदार
गौरतलब है राव नेतराज सिंह मध्यप्रदेश के पूर्व गृह राज्य मंत्री रहे चौधरी चंद्रभान सिंह के मामा हैं । इनके रिश्तेदार राव शैलेंद्र सिंह ने पिछले लोकसभा चुनाव में वर्तमान सांसद राव उदय प्रताप सिंह के खिलाफ चुनाव लड़ा था

पुलिस ने जारी की अपराधों की सूची
वहीं पुलिस ने राव चंद्रप्रताप सिंह लोधी के खिलाफ पूर्व में दर्ज किए गए 7 प्रकरणों की सूची जारी की है जिसमें उनके विरुद्ध अलग अलग प्रकरणों में मामला कायम होने की जानकारी दी गई है।
एसडीएम आरएस बघेल ने कहा कि भवन मालिक राव चंद्र प्रताप सिंह को पूर्व में सीमांकन का नोटिस दिया था। अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई के 24 घंटे पहले भी नोटिस दिया गया और फिर हमने नियमानुसार कार्रवाई की। अतिक्रमण कर शासकीय भूमि में बनाए गए भवन को नियमानुसार गिरा दिया गया है।

कलेक्टर वेद प्रकाश ने बताया कि राव चंद्र प्रताप सिंह के कब्जे से पुलिस प्रशासन ने 80 एकड़ सरकारी जमीन मुक्त कराई है जिसका बाजार मूल्य करीब 6 करोड़ रुपए है। आरोपी के विरुद्ध पूर्व में पुलिस में कई पुलिस प्रकरण दर्ज किए जा चुके हैं। इस तरह की कार्रवाई जारी रहेंगी।

Congress leader
Hitendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned