फसलों में गिरी आफत, किसान बेहाल

बुधवार सुबह हुई बारिश से गेहूं की फसल हुई खराब, खरीदी केंद्रों में रखे बारदाने भीगे

गोटेगांव. क्षेत्र में बुधवार सुबह अचानक तेज बारिश ने गेहूं खरीदी केन्द्र में रखी फसल को तबाह कर दिया। नवीन कृषि उपज मंडी में खरीदी संस्था के परिवर्तन के बाद तुलाई का कार्य रूका होने से जो गेहूं के ढेर किसान शेड के बाहर लगाए हुए थे। उसको पनी से किसानों ने ढंक दिया इसके बाद भी फर्स से बहने वाला पानी गेहूंं के ढेर में पहुंच गया। इसके कारण गेहूं के ढेर गीले हो गए हैं। वहीं जो गेहूं की तुलाई पूर्व समय में हो गई थी उनके ढेर शेड के बाहर लगे थे वह गीले हो गए। वहीं छल्ली लगे बारदानों के नीचे के बारदाने बारिश से पूरी तरह से तरबतर हो जाने पर हम्मालों ने ऊपर के बारदानों को शेड के अंदर रखा। नीचे के गीले बारदानों को अलग किया। किसानों ने मांग की है कि जो किसानों के ढेर शेड के बाहर रखे हैं ऐसे किसानों के गेहूं की तुलाई का कार्य मौसम को देखते हुए शीघ्र किया जाए।

खुले आसमान के नीचे केन्द्र
क्षेत्र के अन्य गेहंू खरीदी केन्द्र पूरी तरह से खुले आसमान के नीचे हैं। मंडी में शेड की व्यवस्था है मगर अन्य गेहूं खरीदी केन्द्र पर ऐसी कोई व्यवस्था नहीं है। बगासपुर मिनी स्टेडियम में सैकड़ों बोरे खुले आसमान के नीचे रखे हैं। उमरिया गेहूं खरीदी केन्द्र में भी ऐसे बारदाने रखे हैं मगर परिवहन का कार्य नहीं होने से बारिश से गेहूं के बारदाने गीले हो गए हैं। सिमरिया, सर्रा, श्रीनगर, आदि गेहूं खरीदी केन्द्र में भी शेड की व्यवस्था नहीं है।

परिवहन प्रारम्भ कराया जाए
जिन गेहूं खरीदी केन्द्र में व्यापक स्तर पर गेहंू की खरीदी का कार्य हो गया है और खुले आसमान के नीचे बारदाने रखे हुए हैं ऐसे केन्द्रों में मौसम को देखते हुए तत्काल परिवहन की व्यवस्था करवाई जाए ताकि गेहूं का भंडारण वेयर हाउस में हो सके खरीदा गया गेहूं गीला होने से बच जाए।

देवनगर में गिरे सूखे ओले
आज दोपहर के समय देवनगर नया गांव में अचानक बादल गरजे और सूखी ओलावृष्टि होती रही। जिसके कारण मार्ग पर ओले बिछ गए। वहीं रात के समय कई जगह पर बारिश होने से किसानों की खेत में रखी फसल गीली हो गई। वहीं कटाई का कार्य प्रभावित हो गया है। उमरिया गांव के पास मौजूद सलैया और भामा गांव में ओले गिरने की खबर मिली है। यहां पर कई किसानों की फसल कटने के बाद गाहनी के लिए खलिहान में पड़ी हुई है। वहीं कई किसानों की फसल कटने के बाद खेत में मौजूद है जो ओलावृष्टि के कारण गीली हो गई है।

Show More
narendra shrivastava Desk
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned