11 गांवों में 17 एकड़ की फसल आग में जल कर राख

-शार्ट सर्किट बना बड़ा कारण, किसानों की मेहनत हुई राख

By: Ajay Chaturvedi

Published: 01 Apr 2021, 03:37 PM IST

नरसिंहपुर/ गोटेगांव/तेंदूखेड़ा. साल भर की कड़ी मशक्कत के बाद फसल तैयार हुई तो किसान और उसका पूरा परिवार खुश था। खड़ी लहलाती फसल को देख कर बच्चे और बूढ़े सभी खिलखिला रहे थे, कि अचान लगी आग ने सारे अरमानों को स्वाहा कर दिया। 11 गांवों में 17 एकड़ की फसल जल कर राख हो गई। इस आग ने किसानों की सारी मेहनत पर पानी फेर दिया है।

दरअसल फसल तैयार हो गई है, अब कटाई का वक्त आ गया है। कटाई शुरू भी हो गई है, लेकिन कुछ लोग इस मामले में पिछड़ गए हैं। अब जैसे-जैसे खेतों में गेहूं की कटाई के काम में तेजी आ रही है तो कहीं शार्ट सर्किट तो कहीं नरवाई जलने से खेतों में खड़ी फसलें देखते ही देखते राख हो जा रही हैं। नगरपरिषद के दमकलकर्मियों ने बताया कि उन्होंने पहली बार सुबह से शाम तक एक दिन में लगभग 11 स्थानों पर जाकर आग पर काबू पाया है। कर्मचारियों के अनुसार सबसे बड़ी आग चरगुवां रोड पर नगवारा गांव में किसान तुलसीराम मुड़िया व समल मुड़िया के करीब 35 एकड़ में लगी। हालांकि स्थानीय ग्रामीणों की मदद से समय रहते इस आग को बेकाबू होने से बचा लिया गया। फिर भी इस हादसे में किसान का करीब 3 एकड़ का गेहूं जल कर राख हो गया। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार यदि फायर ब्रिगेड की टीम समय पर नहीं पहुंचती और स्थानीय लोग मदद के लिए आगे नहीं आते तो किसानों के 35 एकड़ के साथ-साथ यहां की आग अन्य किसानों के खेत को भी अपने आगोश में ले लेती। ऐसे में बड़ी क्षति होती। हालांकि आग किन कारणों से लगी, इसका सही-सही पता नहीं चल सका है।

इसी तरह गोटेगांव में जमुनिया मार्ग पर 2 एकड़ का गेहूं भी भयंकर आग की चपेट में आकर स्वाहा हो गया। ठेमी में सुलभ जैन व नवीन जैन की 6 एकड़ के खेत में लगा गेहूं जलकर राथ हो गया। हालांकि यहां भी ग्रामीणों ने आग बुझाने की भरकस कोशिश की लेकिन वो आग पर पूरी तरह से काबू नहीं पा सके और फसल जल कर नष्ट हो गई। सबसे अधिक क्षति तहसील अंतर्गत गौरतला गांव में हुई। यहां के किसान फारुख खान के 6 एकड़ खेत में आग लगने से गेहूं की फसल स्वाहा हो गई। वहीं एक किसान की झोपड़ी समेत करीब 60 नोजल पाइप जल कर राख हो गए। क्षेत्र के कुंडा, श्रीनगर , बिछिया, बढ़ैयाखेड़ा में स्थित खेतों में लगी नरवाई व झोपड़ी जलकर राख हो गई है। शाम के समय नगवारा के जंगल में आग लग गई लेकिन ग्रामीणों ने इस पर काफी मशक्कत के बाद काबू पा लिया।

उधर कमोबेश यही हाल तेंदूखेड़ा का है। तेज हवा के चलते बिजली के झूलते तार आपस में चिपक रहे हैं जिससे शॉर्ट सर्किट हो रही जिसका खामियाजा किसानों को अपनी फसल गंवा कर देना पड़ रहा है। ग्राम मदनपुर में ताराचंद पटेल के खलिहान में रखी कटी हुई गेहूं की फसल में विद्युत तारों की चिंगारी से आग लग जाने से पूरी फसल राख हो गई है। इसमें 50 क्विंटल का नुकसान बताया जा रहा है। वहीं दूसरी तरफ ग्राम हीरापुर में दो एकड़ के खेत में खड़ी फसल में शॉर्ट सर्किट से आग लग जाने से पूरी फसल जल कर नष्ट हो गई। आग लगते ही सूचना पुलिस थाने में दी गई। फायर ब्रिगेड व स्थानीय संसाधनों के माध्यम से आग पर काबू पाया गया।

Show More
Ajay Chaturvedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned