सीनियर सिटीजन को जेल भेजने के मामले में जांच शुरू

सीनियर सिटीजन को जेल भेजने के मामले में जांच शुरू

Ajay Khare | Publish: Sep, 06 2018 08:42:56 PM (IST) Narsinghpur, Madhya Pradesh, India

मानव अधिकार आयोग के निर्देश पर एसपी कार्यालय में दर्ज किए गए पुरोहित के बयान

 

पत्रिका लगातार

नरसिंहपुर। जन सुनवाई में कलेक्टर द्वारा खुरपा निवासी सीनियर सिटीजन पीके पुरोहित को जेल भेजने के मामले में मानव अधिकार आयोग के निर्देश पर आईजी स्तर से जांच शुरू हो गई है। गुरुवार को एसपी कार्यालय में पुरोहित के बयान दर्ज किए गए। गौरतलब है कि आयोग ने पत्रिका की खबर पर संज्ञान लेते हुए संभाग के राजस्व आयुक्त और जबलपुर रेंज के आईजी को तीन सप्ताह में जांच कर रिपोर्ट पेश करने के निर्देश दिए थे।

पुरोहित को एसपी कार्यालय से फोन पर सूचना देकर गुरुवार को अपने बयान दर्ज कराने के लिए एसपी कार्यालय बुलाया गया था जहां उन्होंने अपने बयान दर्ज कराए। पुलिस ने उनसे घटना के बारे में विस्तृत जानकारी ली । पुलिस ने उनसे जन सुनवाई में कलेक्ट्रेट आने, कलेक्टर द्वारा पुलिस को सौंपने, उन्हें थाने ले जाने और थाने से एसडीएम कोर्ट भेजने व एसडीएम कोर्ट से जेल भेजने व जेल से रिहा होने तक के घटनाक्रम के बारे में सूक्ष्म जानकारी प्राप्त की व उनके बयान कलमबद्ध किए।

जानकारी के अनुसार पुरोहित ने खुल कर बयान दिए और घटना के समय के सीसीटीवी फुटेज जब्त करने की मांग दोहराई। पुरोहित ने यह भी कहा कलेक्टर ने उन पर शराब पीकर जन सुनवाई में आतंक फैलाने का झूठा आरोप लगाया। यदि मैं शराब के नशे में था तो मेरी मेडिकल जांच क्यों नहीं कराई गई। शराब पीकर आतंक फैलाने का झूठा आरोप लगाकर ब्राह्मण समाज सहित सभी समाजों के बीच सार्वजनिक रूप से मेरी सामाजिक प्रतिष्ठा को कलंकति करने का प्रयास किया। पुरोहित ने कहा कि वे इस मामले की जांच आईजी से कराने की मांग करते हैं।
-------
वर्जन
मैंने संपूर्ण घटनाक्रम की पूरी जानकारी दी है और अपने बयान में घटना के समय के सीसीटीवी फुटेज जब्त करने व आईजी से जांच की मांग की है। कलेक्टर ने शराब पीकर आतंक फैलाने का झूठा आरोप लगाकर समाज में मेरी प्रतिष्ठा को भारी क्षति पहुंचाई है।
पीके पुरोहित
---------
वर्जन
मानव अधिकार आयोग के निर्देश पर आईजी स्तर से जांच शुरू हो गई है। सीनियर सिटीजन पीके पुरोहित को बयान दर्ज कराने के लिए बुलाया गया था।
डीएस भदौरिया, एसपी
--------------------

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned