सारा ध्यान कोरोना पर, कैंसर, स्ट्रोक व पीलिया के मरीजों की हालत गंभीर, इलाज के अभाव में हो रही मौत

-लॉकडाउन और लापरवाही बड़ा रही मरीजों व तीमारदारों की फजीहत

By: Ajay Chaturvedi

Published: 10 May 2020, 01:58 PM IST

नरसिंहपुर. जैसा कि पहले ही अंदेशा जताया जा रहा था कि लॉकडाउन में कोरोना से इतर अन्य गंभीर मरीजो की जान पर बन सकती है। उनकी हालत बिगड़ सकती है। अब वो सामने दिखने लगा है। आलम यह है कि कैंसर, लकवा (स्ट्रोक), पीलिया जैसे गंभीर मरीजों की उपेक्षा के चलते उनकी दशा दिन-ब-दिन बिगड़ने लगी है। ऊपर से स्वास्थ्य विभाग की लापरवही ने गंभीर मरीजों के परिवारजनों की मुसीबत कहीं ज्यादा ही बढ़ा दी है.

अब अगर मध्य प्रदेश के नरसिंहपुर की बात करें तो यहां अन्य जिलों से कहीं ज्यादा सख्ती है। इसे लेकर पिछले दिनों राज्यसभा सांसद और डीएम के बीच खींचतान भी हो गई चुकी है। राज्यसभा सांसद डीएम की सख्ती से खासे नाराज भी हुए थे। उनका कहना था कि कोरोना से बचाव के उपाय अपनी जगह ठीक हैं पर इतनी भी सख्ती नही होनी चाहिए कि अन्य गंभीर मरीजों की उपेक्षा हो। उन्होंने 3 मई के बाद बढ़े लॉकडाउन के दौरान ही जिले के एक कैंसर पीड़ित व लकवाग्रस्त मरीज का उदाहरण देते हुए ऐसे रोगियों के उपचार में तनिक भी ढिलाई न बरतने को कहा था। लेकिन उसका कोई असर नहीं हुआ।
अब परिणाम सामने है जब शुक्रवार को मेहरा गांव निवासी एक वृद्ध जो पीलिया से ग्रसित था का समय से इलाज न होने के कारण मौत हो गई। इस मौत के पीछे स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही भी खुल कर सामने आई है। बताया जा रहा है कि 62 वर्षीय रमेश नामदेव कुछ दिनों से पीलिया से पीड़ित थे।

लॉकडाउन से वह शहर जा कर इलाज नहीं करा पा रहे थे। ऐसे में रोग बढ़ता गया। गत शुक्रवार को तबीयत ज्यादा खराब हुई तो परिवार के लोगों ने स्वास्थ्य विभाग के फोन घनघनाने शुरू किया पर ज्यादातर फोन या तो रिसीव नहीं हुए या जो हुए उन्होंने दूसरों पर टाल दिया। यहां तक कि समय से एंबुलेंस तक नहीं मिली। नतीजा रमेश की मौत हो गई। मौत के बाद शव को घर तक ले जाने में तमाम फजीहत उठानी पड़ी। अब उनका पूरा परिवार सदमें में है। वह पेशे से दर्जी थे। अब उनकी मौत के बाद घर की माली हालत बिगड़ गई है।

ऐसे ही संदूक गांव के कैंसर पीड़ित और उनका परिवार परेशान है। लॉकडाउन की सख्ती के चलते उन्हें भी समुचित इलाज नहीं मिल पा रहा है। कहीं आने-जाने की अनुमति न मिलने से वह भी जिंदगी और मौत से संघर्ष कर रहे हैं। उधर दीतपौन गांव निवासी की समय से सही इलाज न मिल पाने के कारण असमय ही मौत हो चुकी है।

Corona virus
Ajay Chaturvedi
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned