लॉक डाउन में धीमी पड़ी किलकारी, जिला अस्पताल में कम हुए प्रसव

लॉक डाउन के चलते २१ मार्च के बाद से 31 मई तक जिला अस्पताल में प्रसव की संख्या में पहले दो माह की तुलना में कमी दर्ज की गई। खास बात यह रही कि इस दौरान जहां सामान्य प्रसव कम हुए वहीं सीजर की संख्या बढ़ी।

By: ajay khare

Updated: 07 Jun 2020, 07:43 PM IST

अजय खरे. नरसिंहपुर. लॉक डाउन के चलते 21 मार्च के बाद से 31 मई तक जिला अस्पताल में प्रसव की संख्या में पहले दो माह की तुलना में कमी दर्ज की गई। खास बात यह रही कि इस दौरान जहां सामान्य प्रसव कम हुए वहीं सीजर की संख्या बढ़ी। मार्च में 308 सामान्य प्रसव कराए गए थे जबकि मई में सामान्य प्रसव 236 कराए गए। दूसरी ओर मार्च में सीजर 106 हुए जबकि मई में इनकी संख्या 127 रही। लॉक डाउन शुरू होने तक मार्च में जिला अस्पताल में 414 प्रसव हुए थे जबकि अप्रेल में 389 और मई में 363 प्रसव कराए गए। आंकड़ों के हिसाब से देखा जाए तो जिला अस्पताल में प्रसव की संख्या सामान्य दिनों की तुलना में कुछ कम रही। अस्पताल प्रशासन की मानें तो लॉक डाउन के दौरान जिले भर के शासकीय अस्पतालों से प्रसव के मामले जिला अस्पताल भेजे गए । कोरोना संक्रमण के खतरे की वजह से गाडरवारा, करेली व अन्य स्थानों पर शासकीय अस्पतालों में प्रसव नहीं कराए गए मरीजों को जिला अस्पताल रेफर किया गया। जिसकी वजह से लॉक डाउन के बावजूद जिला अस्पताल में प्रसूताएं आती रहीं।

वर्जन
लॉक डाउन के दौरान जिले भर से प्रसूताओं को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। जिसकी वजह से यहां प्रसव के केस आते रहे यथा संभव नार्मल प्रसव कराए गए । जरूरत होने पर ऑपरेशन किया गया।
डॉ.अनीता अग्रवाल, सिविल सर्जन
-----------
सामान्य प्रसव- सीजर- कुल प्रसव-मेल बेबी- फीमेल बेबी- कुल
Jan-336-1337-85-253-215-7
Feb-307-107 -1515-223-162 -405
March - 30 - 10 - 7 - 16 - 20 - 2008 - 200 - 604
April-26-12-34 -19 -19 -38
May - 236 - 128 - 343 - 171 - 173 - 356

ajay khare Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned