416 टोकनधारी किसानों की सूची चस्पा

narendra shrivastava

Publish: Jun, 14 2018 11:55:02 PM (IST)

Narsinghpur, Madhya Pradesh, India
416 टोकनधारी किसानों की सूची चस्पा

प्रभारी कलेक्टर और एसपी ने किया मंडी का दौरा, एसडीएम व एसडीओपी की देखरेख में हो रही तौल, कम्प्यूटर में दर्ज होने के बाद दिए विक्रय पत्र

गोटेगांव। टोकन मिलने के बाद जो किसान दलहन की तुलाई नहीं करवा पाए थे ऐसे किसानों के लिए शासन ने दलहन की खरीदी बंद करने के बाद दो दिन का वक्त दिया है। १४ एवं १५ जून को टोकनधारी किसानों का अनाज तौलने का कार्य प्रारम्भ किया गया है।


एसडीएम शाहिद खान एवं एसडीओपी पीएस बालरे की देख रेख में मंडी में दो दिन के लिए तुलाई का कार्य चालू किया गया। जिन किसानों का अनाज मंडी में पहले से ही रखा हुआ था और उनके पास टोकन मौजूद थे ऐसे किसानों के अनाज का सैंपिल पास कराने के बाद केन्द्र पर तौलने का कार्य किया गया। वहीं जिन किसानों के अनाज की तुलाई टोकन प्राप्त करने के बाद हो गई थी मगर उनकी खरीदी को कम्प्यूटर में दर्ज नहीं हो सकी थी ऐसे किसानों द्वारा कागजात जमा करने के बाद उनकी खरीदी कम्प्यूटर में दर्ज करने के बाद उनको विक्रय खरीदी पत्र प्रदान किए गए हैं।
एसडीएम शाहिद खान ने बताया कि खरीदी बंद हो जाने से तुलाई करने वालों के कांटे और सिलाई मशीन मंडी के द्वारा जमा करा ली गई थी उसको दो दिन के खरीदी प्रारम्भ होने पर तुलाई वालों को प्रदान किए गए हैं। उन्होंने बताया कि ४१६ किसानों की ऐसी सूची थी जिनको टोकन जारी किए गए थे। जिन किसानों का अनाज तुलाई नहीं हो पाया है। ऐसे किसानों को समिति प्रबंधकों द्वारा फोन पर जानकारी देकर अनाज लाने के लिए कहा गया है। जो किसान टोकन लेकर अनाज विक्रय करने के लिए मंडी में आ रहे हैं उनके अनाज की तुलाई कर तत्काल कम्प्यूटर में उनकी खरीदी को दर्ज की जा रही है ताकि किसी किसान का अनाज कम्प्यूटर में दर्ज होने से नहीं रह जाए।


जानकारी के अनुसार टोकन धारी सिर्फ 200 किसान ही मौजूद हैं जो अपना अनाज का विक्रय नहीं कर पाए हैं। प्रंबधकों ने टोकन धारी किसानों को फोन किया तो उनमें से अधिकांश ने जबाव में कहा है कि उनके पास अनाज शेष बचा ही नहीं है वह अपने अनाज का विक्रय कर चुके हैं। दो दिन के लिए फिर से खरीदी प्रारम्भ होने पर प्रभारी कलेक्टर जे लकरा एवं पुलिस अधीक्षक मोनिका शुक्ला गोटेगांव मंडी पहुंचे। व्यवस्था का अवलोकन करने के बाद चले गए। उन्होंने परिवहन के संबंध में भी एसडीएम से समुचित जानकारी प्राप्त करके इसमें गति लाने के लिए संबंधित अधिकारियों से बातचीत की है।


फिर से खरीदी प्रारम्भ होने पर मंडी प्रांगण में चस्पा की गई सूची का किसान अवलोकन करते रहे और जिनके नाम सूची में दर्ज थे ऐसे किसान अपने टोकन के साथ अनाज लेकर मंडी में आए हैं।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Ad Block is Banned