खेतों में रखी फसल भीगी, खड़ी फसल गिर गई

खेतों में रखी फसल भीगी, खड़ी फसल गिर गई

Abi Shankar Nagaich | Publish: Apr, 17 2019 10:18:29 PM (IST) Narsinghpur, Narsinghpur, Madhya Pradesh, India

हवा के साथ हुई तेज बारिश और ओलावृष्टि ने किसानों की मेहनत पर पानी फेरा, कटाई के इस सीजन में मुसीबत बनकर आई बारिश

नरसिंहपुर. भीषण गर्मी के बीच दो दिन से बदले मौसम ने एक बार फिर अन्नदाता की उम्मीदों पर पानी फेर दिया। खेतों में कटने के लिए खड़ी फसल हवा और बारिश से आड़ी हो गई। कटकर रखी फसल गीली हो गई। रातभर किसान खेतों में अपनी मेहनत को बारिश के कहर से बचाने के लिए तिरपाल डालकर तकवारी करते रहे, लेकिन फसलें नहीं बचा सके। इस मंजर को देख अन्नदाता की आंखों से आंसू छलक गए। मंगलवार व बुधवार को असमय हुई बारिश और ओलावृष्टि ने जिला मुख्यालय सहित करेली, गाडरवारा व तेंदूखेड़ा तहसील के दो दर्जन से अधिक गांवों किसानों की फसलों को प्रभावित किया। किसानों को अब चिंता यह है कि बारिश में भीगकर खराब हुए गेहूं की गुणवत्ता बिगड़ गई है। ऐसे में अब प्रशासन ही इस उपज को नहीं खरीदेगा। मजबूरीवश उन्हें कम दामों में फसल का विक्रय बिचौलियों को करना होगा। इधर, खराब हुई फसलों का आकलन करने के लिए जिला प्रशासन की टीम भी बुधवार से सक्रिय हो गई। जिले के सभी एसडीएम, तहसीलदार व पटवारियों को कलेक्टर दीपक सक्सेना जल्द से जल्द नुकसानी की रिपोर्ट प्रस्तुत करने के आदेश दिए। दूसरी ओर मौसम विभाग द्वारा आगामी दो दिनों में और बारिश होने की संभावना जताई गई है। ऐसी स्थिति में किसानों को और परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। इधर बारिश का असर आमजन की दिनचर्या पर भी पड़ा। लोगों को गर्मी से राहत मिली और घर के बाहर ठंडक का अहसास हुआ। शहर में जहां कच्ची सड़कें है वहां कीचड़ की स्थिति निर्मित हो गई है। बुधवार सुबह से ही रूक-रूककर बारिश हुई। दोपहर करीब ३ बजे तेज धूप भी खिल गई। तेज धूप के बीच भी बारिश होती रही। कृषि उपज मंडी में जगह-जगह पानी जमा हो गया है। शेड के नीचे रखी उपज को बचाने के लिए तिरपाल से ढंककर रखा गया है। बुधवार को जिले का अधिकतम तापमान २९ एवं बीती रात न्यूूनतम 1६ डिग्री रहा। जबकि बीते साल आज ही दिन का तापमान क्रमश: 4२ एवं न्यूनतम तापमान 2५ डिग्री रहा।


गीला गेहूं काला पड़ सकता है
बारिश से गीली हुई फसल खराब होने की आशंका बनी हुई है। उपसंचालक कृषि ने बताया कि गेहूं की पकी हुई खड़ी फसल में लगातार वर्षा होने से दाने में चमक कम होने की संभावना रहती है। इसी प्रकार खलिहान में रखी गेहूं की फसल जो गीली हो गई है वह काली पड़ सकती है।


ये करें किसान
- खेतों में रखी गेहूं की फसल को ढंककर न रखें, इससे वह काली पड़ सकती है।
- खालिहान की गीली फसल को धूप में सुखाकर तुरंत थ्रेसिंग करें।
- खड़ी फसल की सूखने पर ही कटाई करें।
- खरीदी केंद्र में बिक्री के लिए लाई गई फसल को ढंककर रखें।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned