कोरोना की जांच रिपोर्ट को लेकर निजी अस्पतालों व जांच घरों पर सवालिया निशान

- नियमानुसार जिला कंट्रोल रूम को रोजाना दी जानी चाहिए रिपोर्ट

By: Ajay Chaturvedi

Published: 30 Sep 2020, 03:23 PM IST

नरसिंहपुर. कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए अपने स्तर से स्वैच्छिक लॉकडाउन तक का पालन करने वाले नरसिंहपुर निवासी अब निजी अस्पतालों व जांच घरों पर सवाल खड़ा करने लगे हैं। लोगों का कहना है कि निजी अस्पतालों व जांच घरों में रोजाना होने वाली जांच की रिपोर्ट सार्वजनिक नहीं की जा रही है। ऐसे में लोगों को पता ही नहीं चल पा रहा है कि कहां कौन संक्रमित है। उन्होंने मांग की है कि ऐसी व्यवस्था होनी चाहिए कि निजी अस्पताल व जांच घर रोज की रोज अपने यहां होने वाली कोरोना की रिपोर्ट जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग को भेजें ताकि उसके अनुसार आवश्यक निषेधात्मक कार्रवाई की जा सके।

लोगों का कहना है कि जिले के निजी अस्पताल व जांच घर से रोजाना सैकड़ों लोग कोरोना जांच के लिए सीटी स्कैन करा रहे हैं। बताया जाता है कि इसमें रोजाना एक दर्जन से अधिक लोग संक्रमित मिल रहे हैं। लेकिन इन कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या सरकारी स्तर पर जारी होने वाली गणना में शामिल ही नहीं होती, जबकि कायदे से इन संस्थानों को जिला चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय को संक्रमितों की जानकारी उपलब्ध करानी चाहिए।

ऐसे में लोगों का कहना है कि कोरोना संक्रमितों की स्पष्ट जानकारी न होने से यह पता ही नहीं चल पा रहा कि किस मोहल्ले, गांव अथवा पुरवा में कौन कोरोना संक्रमित है। वो अंदेशा जता रहे हैं कि संक्रमितों पर निगाह न होने से वो भी घूम रहे हो सकते हैं। ऐसे में संक्रमण का खतरा बढ रहा है जिससे लोग बेहद डरे हैं।

Ajay Chaturvedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned