scriptRope made of grass falls heavily on bamboo, tremendous demand across t | घास से बनी रस्सी बांस पर पडती है भारी, प्रदेशभर में जबरदस्त मांग | Patrika News

घास से बनी रस्सी बांस पर पडती है भारी, प्रदेशभर में जबरदस्त मांग

भारिया आदिवासी बनाते हैं सावई घास बावेर की रस्सियां

नरसिंहपुर

Published: February 20, 2022 06:27:27 pm

नरसिंहपुर. प्रदेश के जंगलों में उगने वाली घास से बनी रस्सी इतनी मजबूत होती है कि बांस पर भारी पडती है। इस रस्सी की प्रदेशभर में जबरदस्त मांग है। इस रस्सी को वन अमला ही खरीद लेता है।

patrika_mp_4.png

सावई अर्थात बावेर घास से बनी रस्सी काफी मजबूत मानी जाती है जो बांस बांधने के कार्य में सबसे उपयुक्त मानी जाती है। वन विभाग के जरिए यह रस्सी प्रदेश के बैतूल, होशंगाबाद, खंडवा, बालाघाट, सिवनी, रीवा,छिंदवाड़ा, हरदा के अलावा अन्य जिलों में भेजी जाती है।

गोटीटोरिया का जो वनक्षेत्र है उससे लगे छिंदवाड़ा और होशंगाबाद के भी कुछ वन ग्राम है जहां के ग्रामीण इसी केंद्र पर घास-रस्सी लाते हैं। वन विभाग के अनुसार हर वर्ष करीब एक हजार क़िंटल से ज्यादा मात्रा में रस्सी की सप्लाई की जाती है। जिले के आदिवासी क्षेत्र गोटेटोरिया की रस्सी अपने बल के लिए ही जानी जाती है। इसका बल इतना ज्यादा होता है कि प्रदेश के कई जिलों में भारी भरकम बांसों कोबांधने केलिए सप्लाई की जाती है।

भरिया आदिवासी समाज के लोग यहां के जंगल में उगने वाली सावई घास बावेर की रस्सियां बनाकर वनविभाग को उपलब्ध कराते हैं जिससे उन्हें अपनी जिंदगी की गाड़ी चलाने के लिए पर्याप्त आय होती है। वन विभाग के सतपुड़ा बावेर रस्सी केंद्र में तो रस्सियां बनाई जाती हैं इसके अलावा अपनी निजी 75 मशीनों से भी यह काम कर रहे हैं | ये आदिवासी रस्सी बनाने का यह हुनर अपने बच्चों को भी सिखा रहे हैं ताकि वे भी आत्मनिर्भर बन सकें। वन विभाग ने वर्ष 2003 में यहां सतपुड़ा बावेर रस्सी केंद्र की शुरुआत की थी। घास से रस्सी निर्माण के लिए 41 मशीनों रखी गईं थीं। जिससे शुरु में 155 आदिवासी परिवार जुड़े।

इस केंद्र से ग्राम बड़ागांव, भातौर, भेंसा, पटकना, भिलमाढाना, ग्वारी, भटिया, रातेर जैसे कई गांव जुड़े है। इस केंद्र में करीब 50 परिवार नियमित रूप से रस्सी का निर्माण कर रहे हैं। एक दिन में एक व्यक्ति करीब 10 किलो तक रस्सी बना लेता है। केंद्र के गोदाम में जो घास स्टाक की जाती है वह ग्रामीणों को बिना कोई दाम लिए करीब 100 क्विंटल तक दी जाती है। अक्टूबर से मई-जून तक घास आती है और रस्सी का कार्य चलता रहता है, घास का स्टाक भी रहता है। इस काम से ग्रामीणों को पर्याप्त आय हुई और उन्होंने 75 मशीनें अपने रुपयों से खरीद ली हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

भारत में पेट्रोल अमेरिका, चीन, पाकिस्तान और श्रीलंका से भी महंगामुस्लिम पक्षकार क्यों चाहते हैं 1991 एक्ट को लागू कराना, क्या कनेक्शन है काशी की ज्ञानवापी मस्जिद और शिवलिंग...योगी की राह पर दक्षिण के बोम्मई, इस कानून को लागू करने वाला नौवां राज्य बना कर्नाटकSri Lanka Crisis: राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे की बची कुर्सी, अविश्वास प्रस्ताव हुआ खारिज900 छक्के, IPL 2022 में रचा गया इतिहास, बल्लेबाजों ने 15वें सीजन में बनाया ऐतिहासिक रिकॉर्डIPL 2022 : 65वें मैच के बाद हुआ बड़ा उलटफेर ऑरेंज कैप पर बटलर नंबर- 1 पर कायम, पर्पल कैप में उमरान मलिक ने लगाई छलांगज्ञानवापी मामले में काशी से दिल्ली तक सुनवाई: शिवलिंग की जगह सुरक्षित की जाए, नमाज में कोई बाधा न होभाजपा के पूर्व सांसद व अजजा आयोग के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष के इस पोस्ट से मचा बवाल
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.