मारपीट पर न्यायालय उठने तक की सजा 1400-1400 रुपये का अर्थदण्ड

मारपीट पर न्यायालय उठने तक की सजा 1400-1400 रुपये का अर्थदण्ड
मारपीट पर न्यायालय उठने तक की सजा 1400-1400 रुपये का अर्थदण्ड

Ajay Khare | Updated: 22 Jul 2019, 05:20:51 PM (IST) Narsinghpur, Narsinghpur, Madhya Pradesh, India

मारपीट के एक प्रकरण में मुख्य न्यायिक दण्डाधिकारी ने दो आरोपियों को न्यायालय उठने तक की सजा सुनाई और 1400-1400 रुपये का अर्थदण्ड लगाया ।

नरसिंहपुर. मारपीट के एक प्रकरण में मुख्य न्यायिक दण्डाधिकारी ने दो आरोपियों को न्यायालय उठने तक की सजा सुनाई और 1400-1400 रुपये का अर्थदण्ड लगाया । अर्थदण्ड की राशि अदा न करने पर आरोपियों को 8-८ दिन का साधारण कारावास भुगतना पड़ेगा।अभियोजन के अनुसार लक्ष्मण कुशवाह 31 मई 2013 को सुबह 7 बजे अपने लडक़े गणेश के साथ खेत पर जा रहा था, तभी आरोपी दुर्गेश, अज्जू उर्फ अजय तथा धनीराम ने खेत में बाड़ी लगाने के विवाद को लेकर उन्हें मां-बहन की गंदी-गंदी गालियां दी व लाठी से मारपीट की। जिससे लक्ष्मण कुशवाह के दाहिने हाथ में चोट आई । झगड़े की आवाज सुनकर लक्ष्मण की पत्नी बीच-बचाव करने आई, जिस पर आरोपियों ने उसके साथ भी मारपीट की व जान से मारने की धमकी दी। घटना की प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज कराई गई, रिपोर्ट के आधार पर सम्पूर्ण अनुसंधान उपरांत आरोपियों के विरुद्ध अभियोग पत्र न्यायालय में प्रस्तुत किया गया। न्यायालय में विचारण के दौरान आरोपियों के विरुद्ध मामला साबित करने के लिये अभियोजन ने अपने साक्ष्य प्रस्तुत किये । अभियोजन ने न्यायालय में मामले को संदेह से परे साबित कर आरोपियों को दोषसिद्ध कराया । अभियोजन की ओर से पैरवी एडीपीओ राकेश रोशन द्वारा की गई। कोर्ट ने आरोपी दुर्गेश कुशवाह पिता धनीराम उम्र 25 वर्ष तथा धनीराम कुशवाह पिता कोदूलाल उम्र 45 वर्ष निवासी ग्राम श्रीनगर थाना गोटेगांव जिला नरसिंहपुर को धारा 324, 34 भादवि में न्यायालय उठने तक की सजा एवं 1400-1400 रुपए के अर्थदण्ड से दण्डित किया।

 

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned