कोरोना की रोकथाम को सख्ती, पुलिस वाले हों या रसूखदारों किसी को भी नहीं बख्शा

-शहरी सीमा पर कई तो बाइक छोड़ कर भाग खड़े हुए

By: Ajay Chaturvedi

Updated: 22 Nov 2020, 03:07 PM IST

नरसिंहपुर. जिले के वाशिंदों को कोरोना संक्रमण से बचाने के लिए प्रशासन ने सख्ती शुरू कर दी है। खास बात यह है कि इस बार की कार्रवाई से कोई भी बच नहीं पा रहा, चाहे वह पुलिस वाला हो या रसूखदार नेता ही क्यों न हो। सबके खिलाफ समान कार्रवाई हो रही। सबसे जुर्माना वसूला जा रहा है। प्रशासन की इस कार्रवाई का असर ये है कि टीम जिधर पहुंच जा रही है, भनक लगते ही लोग भाग खड़े हो रहे। शहरी सीमा पर कई युवा अपनी बाइक तक छोड़ कर भाग निकले।

कोरोना वायरस (प्रतीकात्मक फोटो)

ठंड बढने के साथ ही कोरोना संक्रमण में भी तेजी आ गई है। लेकिन इस बार प्रशासन ने पहले से पूरी तैयारी कर रखी है। कोरोना से बचाव को आईसीएमआर की ओर से जारी प्रोटोकॉल के पालन को लेकर प्रशासन बेहद सख्त हो गया है। लोगों को सतर्क करने के लिए प्रशासनिक अधिकारी पुलिस बल संग फ्लैग मार्च भी कर रहे हैं। इस दौरान बिना मास्क के सड़कों पर तफरी करने वालों से जुर्माना वसूला जा रहा है।

शनिवार को जिले की सभी नगरपालिकाओं, नगरपंचायतों, परिषदों के सीएमओ की बैठक लेने के बाद दोपहर करीब दो बजे कलेक्टर वेदप्रकाश व पुलिस अधीक्षक अजय सिंह के नेतृत्व में राजस्व, नगरपालिका और पुलिसकर्मियों ने संयुक्त रूप से शहर की मुख्य सड़कों पर पैदल मार्च किया। इस दौरान दल-बल ने दुकानों पर बिना मास्क खरीददारी को पहुंचे नागरिकों समेत दुकानदारों को लापरवाही का जिम्मेदार मानते हुए उन पर 100-100 रुपये का जुर्माना लगाया। दरअसल इन्होंने मास्क नहीं लगाए थे। 

प्रशासनिक व पुलिस अधिकारियों-कर्मचारियों के दल-बल ने शहर के सुभाष पार्क चौराहे से पुराना बस स्टैंड, गुरुद्वारा चौक, श्याम टॉकीज, सराफा, गुदरी, जैन मंदिर, पुत्री शाला होते हुए मुशरान पार्क से आजाद वार्ड, पटेल वार्ड, इतवारा बाजार से वापस सुभाष पार्क चौराहा तक पैदल भ्रमण किया। सांकल रोड के पास मस्जिद क्षेत्र की गलियों में भी गए। घरों के बाहर बिना मास्क लगाए घूमते मिले लोगों को चेतावनी दी। कई स्थानों पर बेसहारा, गरीब लोगों को निशुल्क मास्क वितरित किया। वहीं कहीं-कहीं निर्माण में लगे बिना मास्क पहने मजदूरों के मामले में ठेकेदार पर संख्या के हिसाब से जुर्माना ठोंका।

बिना मास्क लगाए घूमने वालों पर जारी कार्रवाई के बीच खासकर दोपहिया वाहनों पर सवार लोगों में हड़कंप की स्थिति रही। बाहरी रोड पर कई ऐसे नजारे देखने को मिले बिना मास्क लगाए वाहन चालक व सवार बाइक छोड़कर इधर-उधर भागते रहे। हालांकि कुछेक लोग पुलिस की पकड़ में आ गए। इनसे जुर्माना राशि वसूलने के बाद इन्हें छोड़ा गया।

कार में बिना मास्क पहने लोग भी कार्रवाई से अछूते नहीं रहे। संयुक्त टीमों ने सुनका चौरहा से सांकल रोड के बीच कई चारपहिया वाहनों में असुरक्षित बैठे लोगों से जुर्माना वसूला। सबसे अधिक चर्चित कार्रवाई जिला कांग्रेस के दिग्गज नेता व पार्टी के कार्यवाहक अध्यक्ष लाखन सिंह पटेल के वाहन को लेकर रही। दरअसल इनकी कार में छह लोग सवार थे, जो मास्क नहीं लगाए हुए थे। संयुक्त टीम ने जब चालक समेत अन्य सवारों से छह सौ रुपये जुर्माना मांगा तो इनके पास जोड़-तोड़कर कुल 200 रुपये ही निकले। ऐसे में जुर्माने की पूरी राशि न होने के कारण सभी को कार सहित कोतवाली थाने ले गए। देर शाम को जुर्माने की राशि जमा करने पर सभी को कार सहित छोड़ा गया। यह कार्रवाई प्रभारी उमेश दुबे के नेतृत्व में की गई।

यहां तक कि बिना मास्क पहने लोगों पर कार्रवाई की जद में पुलिसकर्मी भी आए। जानकारी के मुताबिक एक पुलिसकर्मी की निजी कार में सवार तीन लोगों से जुर्माना वसूला गया। ये कार पुलिसलाइन मुशरान वार्ड में रहने वाले सतीश कुमार विश्वकर्मा के नाम पंजीकृत बताई गई है। कार के रजिस्ट्रेशन नंबर पर पुलिस लिखा होने पर अधिकारियों ने इन्हें भी आगे से सावधानी बरतने की चेतावनी दी। इस साझा टीम ने कुल 67 लोगों का चालान काटते हुए 6700 रुपये जुर्माना वसूला।

कार्रवाई में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार शिवहरे, जिला पंचायत सीईओ कमलेश कुमार भार्गव, एसडीओपी कौशल सिंह, एसडीएम आरएस बघेल, कोतवाली थाना प्रभारी उमेश दुबे, स्टेशनगंज थाना प्रभारी अमित दाणी, तहसीलदार नितिन राय आदि शामिल रहे।

Show More
Ajay Chaturvedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned