लाइन में तन्हाई काट रहे अनुभवी निरीक्षक, नए नवेले एसआई संभाल रहे थाने

लाइन में तन्हाई काट रहे अनुभवी निरीक्षक, नए नवेले एसआई संभाल रहे थाने
police

Ajay Khare | Publish: Apr, 07 2018 08:56:35 PM (IST) Narsinghpur, Madhya Pradesh, India

वरिष्ठ पुलिस अफसरों की उपेक्षा कर कनिष्ठ पुलिस अफसरों को थाने की कमान देने से सामने आ रहे नए नए विवाद

नरसिंहपुर। हाल ही में जिला मुख्यालय पर दो थानों के प्रभारियों के बीच जुए के फड़ों को लेकर मची खींचतान और फिर जुआरियों द्वारा एक थाना प्रभारी पर हाथ उठाए जाने की घटना से जहां पुलिस की साख पर बट्टा लगा वहीं विभाग के बीच यह बात भी सामने आई है कि अनुभवी निरीक्षकों की बजाय कम अनुभव वाले नए उप निरीक्षकों को थानों का प्रभारी बनाने के कारण ऐसी परिस्थितियां निर्मित हो रही हैं जिनसे पुलिस की किरकिरी हो रही है। न तो ये ठीक से अपराधों पर नियंत्रण कर पा रहे हैं और न ही पुलिस की छवि को चमका पा रहे हैं। पुलिस लाइन में आधा दर्जन टीआई काफी समय से हाथ पर हाथ धरे बैठे हैं जबकि दूसरी ओर कई थानों में उप निरीक्षक प्रभारी बने बैठे हैं। नवागत एसपी ने इस बारे में उचित निर्णय लेने की बात कही है।

जानकारी के अनुसार पुलिस लाइन में करीब ६ माह से लाइन में जो टीआई तन्हाई काट रहे हैं उनमें आरके गौतम, नंदलाल धुर्वे, शंकरलाल झारिया, अशोक दाहिया, सुरेंद्र मेहरा और रामफल गौड़ शामिल हैं। ये सभी अनुभवी और वरिष्ठ निरीक्षक हैं जिनमें से कुछ निरीक्षकों का सेवाकाल सिर्फ ५ साल बचा है। दूसरी ओर कानून व्यवस्था की दृष्टि से महत्वपूर्ण माने जाने वाले जिला मुख्यालय के दो थानों कोतवाली थाना और स्टेशनगंज थाना सहित जिले के कुछ अन्य थानों का प्रभार पिछले एक साल से उप निरीक्षकों के पास है। इसके अलावा कुछ थानों में तो वरिष्ठ निरीक्षकों को ऐसे थानों का प्रभारी बना दिया गया है जो उप निरीक्षक स्तर के थाने हैं। शबाना परवेज को तीन माह लाइन में रखने के बाद साईंखेड़ा थाना प्रभारी बनाया गया।

वर्जन
मैंने इसी सप्ताह पद भार संभाला है, अनुभवी वरिष्ठ निरीक्षकों को लाइन में रखे जाने और उप निरीक्षकों को थाना प्रभारी बनाए जाने की बात मेरी जानकारी में आई है। इस बारे में उचित निर्णय लिया जाएगा।

यांग चेंन डी भूटिया, पुलिस अधीक्षक

----------------------------------------
नहीं हो रहा अपराधों का खुलासा
जिला मुख्यालय पर कई गंभीर मामलों का पुलिस एक साल बाद भी खुलासा नहीं कर सकी है। मंदिर पर पाकिस्तानी ध्वज फहराने का मामला अभी भी अंधकार के पर्दे में है। पुलिस ने घटना के समय जल्द इसका खुलासा करने का दावा किया था पर आज तक कोई सुराग नहीं जुटा सकी है। इसके अलावा अवैध शराब, ड्रग्स जैसे अनैतिक कारोबार भी पुलिस के लिए सवाल खड़े कर रहे हैं।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned