पिता और जीजा ने की थी मासूम के कातिल को भागने में मदद पुलिस ने किया गिरफ्तार

तेंदूखेड़ा में8 साल की मासूम के अपहरण, दुष्कृत्य और हत्या के आरोपी नितिन पटैल को शहर से भागने में उसके पिता केदार और जीजा ने मदद की थी। इस बात का खुलासा आरोपी ने रिमांड के दौरान पुलिस की पूछताछ में किया। आरोपी को जब पिता और जीजा के सामने बैठा कर पूछताछ की गई तो पिता और जीजा ने भी अपना अपना जुर्म कबूल कर लिया।

By: ajay khare

Published: 12 Jun 2021, 11:35 PM IST

नरसिंहपुर. तेंदूखेड़ा में8 साल की मासूम के अपहरण, दुष्कृत्य और हत्या के आरोपी नितिन पटैल को शहर से भागने में उसके पिता केदार और जीजा ने मदद की थी। इस बात का खुलासा आरोपी ने रिमांड के दौरान पुलिस की पूछताछ में किया। आरोपी को जब पिता और जीजा के सामने बैठा कर पूछताछ की गई तो पिता और जीजा ने भी अपना अपना जुर्म कबूल कर लिया। जिसके बाद पुलिस ने इन दोनों को भी गिरफ्तार कर लिया। आरोपी नितिन की रिमांड अवधि पूरी हो जाने पर उसे जेल भेज दिया गया है।
जीजा ने कहा था सिम तोड़ दो और बाहर जाकर फोन करना हम मदद करेंगे
आरोपी नितिन को रिमांड पर लेने के बाद जब पुलिस ने उससे यहां से भागने में मदद करने वालों के बारे में पूछताछ की तो उसने बताया कि घटना के बाद उसने अपने पिता और जीजा को सारी बात बताई थी। दोनों ने उसे भागने में मदद की, जीजा ने उसे सलाह दी कि सिम तोड़ देना और बाहर जाकर कहीं से फोन कर संपर्क करना वे उसे रुपए भेज देंगे और उसे इस मामले से बचाने की पूरी कोशिश करेंगे। बताया गया है कि उसे यहां से भागने में जीजा और पिता ने पूरी मदद की। घटना के बाद जब आरोपी नितिन को पुलिस तलाश कर रही थी तो पिता और जीजा ने उसे पुलिस के हवाले करने की बजाय यह जानकारी पुुलिस से छिपाई थी जबकि इन दोनों को यह पता था कि नितिन ने मासूम से दुराचार कर उसकी हत्या कर शव भूसे के कमरे में छिपाया है।
पुलिस की हिरासत में थे पिता और जीजा
घटना के बाद नितिन के फरार होने के तुरंत बाद पुलिस ने आरोपी के पिता और जीजा को थाने मेें बैठा लिया था। पुलिस को इन दोनों की भूमिका पर शुरू से ही संदेह था। पुलिस की यह कार्रवाई अंतत: आरोपी को पकडऩे और मामले का पर्दाफाश करने में कारगर हुई। जीजा के बताए अनुसार जब आरोपी नितिन ने गुजरात में एक फैक्टरी में काम पर लगने के बाद ९ जून को जब थाने में बैठे अपने पिता को फोन किया तो वह पकड़ा गया। पिता और जीजा दोनों ही घटना के बाद से ही पुलिस के कब्जे में थे। रिमांड के दौरान आरोपी से पूछताछ में उसके भागने की कहानी भी सामने आ गई और अंतत: पिता और जीजा भी सलाखों के पीछे कर दिए गए।
वर्जन
आरोपी को रिमांड पर लेकर की गई पूछताछ में उसने बताया कि उसके पिता और जीजा ने उसे भागने में मदद की थी। जीजा ने उसे सिम तोडऩे की सलाह दी थी। तीनों को आमने सामने बैठाकर पूछताछ की गई तो पिता और जीजा ने अपना जुर्म कबूल कर लिया। इन दोनों को भी गिरफ्तार कर लिया गया है। इनके विरुद्ध प्रकरण दर्ज किया जा रहा है।
विपुल श्रीवास्तव,एसपी
5 जून को की थी मासूम की हत्या
तेंदूखेड़ा में 5 जून को मासूम अपने घर के बाहर खेलते समय अचानक गायब हो गई थी। उसकी मां वैक्सीन लगवाने गई थी और पिता अपने काम पर गया था। थाना तेन्दूखेडा में अपराध क्रमांक 218/2021 धारा 363 भादवि कायम किया गया था। पूछताछ के दौरान जानकारी प्राप्त हुई कि संदेही नितिन पटैल ने बालिका को गायब किया है। पुलिस एवं उसके परिजनों द्वारा बुलाने पर वह मोबाईल बंद कर फरार हो गया था। ६ जून को उसके पिता केदार सिंह पटैल के बंद पड़े मकान की तलाशी ली गयी तो भूसे के ढेर में अपहृत बालिका का शव बरामद हुआ था।

ajay khare
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned