यहां नहीं थम रहा अमानक जिंसों को भंडारित करने का खेल

यहां नहीं थम रहा अमानक जिंसों को भंडारित करने का खेल
The game does not stop here to store non-standard commodities

Narendra Shrivastava | Publish: Jun, 25 2019 07:19:32 PM (IST) Narsinghpur, Narsinghpur, Madhya Pradesh, India

अधिकारियों की टीम ने वेयर हाउस से लिए उड़द के सेंपल, नाफेड के सर्वेयर ने मानक उड़द को भी अमानक घोषित कर दिया

गोटेगांव। जनवरी माह में श्रीनगर के वेयर हाउस पर उड़द और मूंग की जो खरीदी का कार्य हुआ था और उस उड़द को वेयर हाउस के अंदर भंडारित कराया गया। जिस तादाद में नाफेड ने विभिन्न समितियों की उड़द को अमानक घोषित कर खरीदने से इंकार किया उसकी पोल मंगलवार को खुली। कलेक्टर द्वारा गठित छह सदस्यीय टीम ने भंडारित स्थल से उड़द के बारदानों से सेंपल निकालने का कार्य किया और उनको जब्त करके अपने साथ ले गए हैं।
नाफेड ने जिन उड़द को पास किया उसके सेंपल निकाले गए और जिनको अमानक घोषित किया उसके भी सेंपल लिए गए। इन दोनों सेंपल में कुछ ही अंतर सामने आया है जिस तादाद में नाफेड ने उड़द को अपने ऑन लाइन फीडिंग में अमानक घोषित किया है उस हिसाब से अमानक उड़द वेयर हाउसों मेें प्राप्त नहीं हुई है। इसके पीछे कारण बताया जा रहा है कि जिन समिति वालों ने तुलाई हो जाने के बाद फिर से छनाई का कार्य करके कचरे को बाहर कर दिया और मानक स्तर का उड़द बना कर अंदर किया ऐसे समिति वालों के भी उड़द को अमानक घोषित कर दिया गया। उसमें थोड़ी बहुत मिट्टी अवश्य मौजूद रही मगर उतनी तादाद मेें नहीं रही जितनी बताई जा रही थी।
नाफेड के सेंपल जांचने वाले सर्वेयर खरीदी के समय मौजूद रहते थे। इन सर्वेयरों की बुक अन्य लोगों के हाथ में रहती थी। खरीदी के समय जिन सर्वेयर ने उड़द को पास किया उसकी प्रति खरीदी केन्द्र वालों के रिकार्ड में लगी हुई है। मगर नाफेड के दूसरे सर्वेयर ने भंडारित हुए अनाज की मौके पर आकर चैकिंग करने की अपेक्षा उसको ऑन लाइन फीडिंग में ही रिजेक्ट कर दिया। नाफेड ने जिस तादाद में उड़द को अमानक घोषित किया है उस तादाद में जांच टीम को अमानक उड़द प्राप्त नहीं हुई है। कलेक्टर द्वारा गठित छह सदस्यीय अधिकारियों की टीम के समय किसान भी मौजूद थे उनके सामने बारदानों से उड़द के सेंपल निकालने का कार्य किया गया और उसको पैकेट में हस्ताक्षर करके जब्त करने की कार्रवाई की गई। श्रीनगर के छह वेयर हाउस में भंडारित उड़द के सेंपल लिए गए इसके बाद जमुनिया रोड पर मौजूद राजपूत वेयर हाउस गए जहां पर बरहटा समिति का उड़द भंडारित था।

कलेक्टर को सौपेंगे जांच रिपोर्ट
जांच टीम में शामिल अधिकारियों ने बताया कि जो सेंपल मानक और अमानक स्तर के उड़द के लिए गए हंै उनको ले जाकर कलेक्टर को सांैपा जाएगा और इसकी रिपोर्ट तैयार की जाएगी। नाफेड विभाग ने जो उड़द अमानक घोषित किया है वह कितना मानक है इसकी रिपोर्ट सांैपने की कार्रवाई की जाएगी।

कमोद ने १५ दिन बाद जमा किया
जांच टीम के सामने एक बात सामने आई है कि कमोद खरीदी केन्द्र ने भंडारित करने के १५ दिन बाद १८० बोरी उड़द की बाद में लाकर भंडारित करवाई है। अधिकारियों का कहना है कि ऐसा क्यों किया गया इसकी जांच बाद में की जाएगी। कमोद खरीदी केन्द्र से लेकर अन्य खरीदी केन्द्र के द्वारा एक लापरवाही मुख्य रूप से बरती गई है। उन्होंने उड़द खरीदी के समय बारदाने की सिलाई के समय अपनी संस्था के टैग नहीं लगवाए हैं बिना टैग के बारदानों को भंडारित कराने का कार्य संस्थाओं ने किया है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned