आयुष मंत्री के सरेंडर करने व गोटेगांव मामले में लगते रहे समझौते के कयास

आयुष मंत्री के सरेंडर करने व गोटेगांव मामले में लगते रहे समझौते के कयास

ajay khare | Publish: Sep, 16 2018 10:58:48 PM (IST) Narsinghpur, Madhya Pradesh, India

नरसिंहपुर। रविवार को अचानक एसआईटी के सक्रिय होने की वजह से जिले में तरह-तरह की चर्चाओं का सिलसिला चलता रहा। इस दौरान गोटेगांव में हुए मामले की जांच को लेकर आई टीम के सदस्य भी गोपनीय कार्रवाई कहने की बात करते हुए किनारा करते रहे। चर्चा रही कि आयुष मंत्री जालम सिंह पटैल सरेंडर कर रहे है, तो वहीं गोटेगांव में 2014 में हुई घटना के संबंध में समझौता होने की पर कार्रवाई का रूख बदलने की बात भी सूत्र कह रहे हैं।

नरसिंहपुर। रविवार को अचानक एसआईटी के सक्रिय होने की वजह से जिले में तरह-तरह की चर्चाओं का सिलसिला चलता रहा। इस दौरान गोटेगांव में हुए मामले की जांच को लेकर आई टीम के सदस्य भी गोपनीय कार्रवाई कहने की बात करते हुए किनारा करते रहे। चर्चा रही कि आयुष मंत्री जालम सिंह पटैल सरेंडर कर रहे है, तो वहीं गोटेगांव में 2014 में हुई घटना के संबंध में समझौता होने की पर कार्रवाई का रूख बदलने की बात भी सूत्र कह रहे हैं।
उल्लेखनीय है कि वर्ष 2014 में मुकेश चौकसे व जालम सिंह पटैल के मध्य हुए मारपीट के मामले में समझौता होने की बात सामने आ रही है। सूत्रों का दावा है कि गोटेगांव में इस संबंध में दो दिन पहले ही शपथ पत्र तैयार हुए हैं। हालांकि स्पष्ट रूप से कोई भी बात सामने नहीं आ रही है।
मामले के संबंध में एसआईटी का नेतृत्व कर रहे चौरई के एसडीओपी अशोक चौरसिया से भी संपर्क का प्रयास किया लेकिन बयान लिखे जाने के कारण वे स्वयं नहीं आए, मौजूद स्टाफ का कहना है कि वीडिया रिकार्डिंग की वजह से अंदर किसी को नहीं जाने देने के आदेश है। इस संबंध में एसडीओपी के दूरभाष क्रमांक 9479991590 पर संपर्क किया गया तो उन्होंने व्यस्त होने की बात कहते हुए बाद में जानकारी देने की बात कही।
मामले के संबंध मेें शिकायतकर्ता मुकेश चौकसे के दूरभाष क्रमांक 9424997550 पर संपर्क किया तो उनका कहना था कि रिश्तेदारी के संबंध में शहर से बाहर है। चौकसे ने समझौता होने के संदर्भ में कहा कि अभी चर्चा चल रही है, लेकिन एसआईटी द्वारा उन्हें कोई सूचना नहीं दी गई है।
यह है मामला
गोटेगांव थाना क्षेत्र के जागृति नगर में 18 नवम्बर 2014 को आरोपी जालम सिंह, मोनू पटैल एवं अन्य लोगों द्वारा घातक हथियारों से लैस होकर गोली चलाई गई एवं बम फेंके गए, जिससे अनेक लोग घायल हुए। जिसमें पुलिस ने मुकेश चौकसे की शिकायत के आधार पर जालम सिंह, मोनू पटैल व अन्य के विरूद्ध थाना गोटेगांव में अपराध क्रमांक 716-14, धारा 147, 148, 149, 294, 506, 307 भादंवि 25- 27 आम्र्स एक्ट का प्रकरण दर्ज किया था। इस संबंध में लंबा समय बीतने के कारण पार्षद दीनू छिरा ने कार्रवाई के संदर्भ में राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयेाग को शिकायत की थी। उस शिकायत के संदर्भ में भेजे गए प्रतिवेदन में तत्कालीन एसपी मुकेश श्रीवास्तव द्वारा एसआईटी द्वारा आरोपियों को दोषी पाए जाने की रिपोर्ट देने और दबिश देकर गिरफ्तारी के प्रयास की जानकारी दी । इस संबंध गोटेगांव थाने में अलग-अलग कुल 7 रिपोर्ट दर्ज की गई थी।

Ad Block is Banned