देशहित और मानवता के लिए यह अनूठा कफ्र्यु

अपने 76 साल के जीवन में कई बार कफ्र्यु या कफ्र्यु जैसे हालात का सामना करना पड़ा पर वह अलग परिस्थितियों में थे। ऐसा कफ्र्यु पहली बार देखा

By: ajay khare

Updated: 22 Mar 2020, 09:15 PM IST

देशहित और मानवता के लिए यह अनूठा कफ्र्यु
नरसिंहपुर. अपने 76 साल के जीवन में कई बार कफ्र्यु या कफ्र्यु जैसे हालात का सामना करना पड़ा पर वह अलग परिस्थितियों में थे। ऐसा कफ्र्यु पहली बार देखा जब लोगों ने मानवता के और देश हित में खुद को अपनी मर्जी से अपने घर में कैद कर लिया। न केवल अपने घर में कैद किया बल्कि कोरोना वायरस से लड़ रहे हमारे लोकसेवकों की हौसला अफजाई के लिए उनके प्रति कृतज्ञता ज्ञापित करने के लिए एक साथ शाम 5 बजे घंटा, थाली, शंख आदि बजाकर देश के पीएम की अपील पर उनका साथ दिया। डोंगरे ने बताया कि आपात काल में भी ऐसा अनुशासन देखने को नहीं मिला जैसा 22 मार्च को पीएम की अपील पर देखा गया। यह हमारे देश के लोगों में देश के लिए एक आवाज पर एक साथ खड़े होने और देश का साथ देने का सबसे बड़ा और शानदार उदाहरण है। यह तो गिनीज बुक के लिए भी एक रिकार्ड है।

ajay khare
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned