script11 lakh retailers 500 foreign investors pauperized due to Paytm share crash Vijay Shekhar Sharma met RBI officials | पेटीएम शेयर क्रैश होने से 11 लाख खुदरा, 500 विदेशी निवेशक ‘कंगाल’, RBI अधिकारियों से मिले विजय शेखर शर्मा | Patrika News

पेटीएम शेयर क्रैश होने से 11 लाख खुदरा, 500 विदेशी निवेशक ‘कंगाल’, RBI अधिकारियों से मिले विजय शेखर शर्मा

locationनई दिल्लीPublished: Feb 07, 2024 08:06:54 am

Submitted by:

Prashant Tiwari

Vijay Shekhar Sharma met RBI officials: पेटीएम के फाउंडर विजय शेखर शर्मा और कंपनी के अन्य बोर्ड मेंबर्स ने आरबीआइ अधिकारियों से मुलाकात तक 29 फरवरी से पेटीएम पेमेंट बैंक पर लगाई गई रोक की डेडलाइन को आगे बढऩे की विनती की है।

vss.jpg

आरबीआइ की ओर से 31 जनवरी को नियमों का पालन नहीं करने पर पेटीएम पेमेंट्स बैंक पर 29 फरवरी से नए डिपॉजिट लेने पर रोक लगाने के कारण एक तरफ जहां भीम, गूगल पे और फोन पे जैसे ऐप्स के डाउनलोड में 20 से 50 तक की बढ़ोतरी हुई है, वहीं पेटीएम के 11 लाख से अधिक खुदरा निवेशक, 500 से अधिक विदेशी निवेशकों को 97 म्यूचुअल फंड स्कीम्स में निवेश करने वाले निवेशकों को बड़ा घाटा हुआ है। दिसंबर तिमाही में म्यूचुअल फंड्स और विदेशी निवेशकों ने पेटीएम में हिस्सेदारी बढ़ाई थी। पिछले 4 दिन में पेटीएम के शेयर 40 प्रतिशत से अधिक टूट चुके हैं। हालांकि मंगलवार को ब्लॉत डील के कारण पेटीएम के शेयर में 3.26त्न की तेजी आई।

आरबीआइ से मांगी क्लैरिटी

सूत्रों के मुताबिक, पेटीएम के फाउंडर विजय शेखर शर्मा और कंपनी के अन्य बोर्ड मेंबर्स ने आरबीआइ अधिकारियों से मुलाकात तक 29 फरवरी से पेटीएम पेमेंट बैंक पर लगाई गई रोक की डेडलाइन को आगे बढऩे की विनती की है। साथ ही कंपनी ने वॉलेट बिजनेस और फास्टैग में लाइसेंस ट्रांसफर की स्थिति को लेकर आरबीआइ से क्लैरिटी मांगी है। 29 के बाद पेटीएम पेमेंट बैंक के ग्राहक पेटीएम बैंक अकाउंट, प्रीपेड इंस्ट्रूमेंट, वॉलेट, फास्टैग और नेशनल मोबिलिटी काड्र्स में पैसा नहीं डाल पाएंगे। हालांकि यूजर्स पहले की तरह ही पेटीएम की यूपीआइ सेवाओं का इस्तेमाल बिना किसी रोकटोक के कर सकेंगे।

wallet.jpg

 

पेटीएम वॉलेट पर क्या होगा असर?

आरबीआइ ने कहा है कि पेटीएम पेमेंट्स बैंक के ग्राहक बिना किसी रोकटोक के पेटीएम बैंक से किसी भी तिथि तक अपना पूरा पैसा निकाल सकते हैं या पेमेंट कर सकते हैं। सिर्फ नए जमा पर रोक है। अपर पेटीएम वॉलेट का इस्तेमाल कर रहे यूजर्स का बैंक अकाउंट भी पेटीएम बैंक में ही है, तो वे अपने वॉलेट में पैसे नहीं डाल पाएंगे। वहीं अकाउंट अगर दूसरे बैंक में है तो पेटीएम ऐप से यूपीआइ के जरिए डिजिटल पेमेंट कर सकते हैं, लेकिन इसके वॉलेट में पैसे नहीं डाल सकते। वॉलेट में पड़े पैसे को खर्च कर सकते हैं।

पेटीएम फास्टटैग का क्या होगा?

29 फरवरी के बाद पेटीएम फास्टैग सेवा बंद हो जाएगी और 01 मार्च से इसे रिचार्ज नहीं कर पाएंगे। यानी पेटीएम ऐप का उपयोग करके टोल प्लाजा पर भुगतान नहीं कर पाएंगे। हालांकि फास्टैग में पड़े बैलेंस का उपयोग कर पाएंगे। पेटीएम फास्टैग का इस्तेमाल करने वालों को किसी अन्य फास्टैग प्रदाता से इसे खरीदना होगा। ग्राहक अपने बैंक के मोबाइल बैंकिंग, इंटरनेट बैंकिंग या गूगल पे और फोनपे जैसे तीसरे पक्ष के ऐप से फास्टैग को रिचार्ज कर सकते हैं।


इन्होंने बढ़ाई थी पेटीएम में हिस्सेदारी (हिस्सेदारी फीसदी में)

निवेशक सितंबर तिमाही दिसंबर तिमाही
विदेशी निवेशक 60.92 63.72
म्यूचुअल फंड्स 4.05 6.07
खुदरा निवेशक 8.01 12.85
एचएनआइ /अन्य 27.01 17.37

इन फंड्स का पेटीएम में सबसे अधिक निवेश
स्कीम निवेश राशि
मिरे एसेट लार्जकैप फंड्स 430
मिरे एसेट फोकस्ड फंड 269
क्वांट मिडकैप फंड 134
निप्पॉन लार्जकैप फंड 127
मिले एसेट ईएलएसएस 105
(06 म्यूचुअल फंड स्कीम का 100 करोड़ तो 40 का 10 करोड़ से कम निवेश)

ये भी पढ़ें: ज्ञानवापी: मुस्लिम पक्ष ने कोर्ट में उठाए सवाल, पूछा- तत्काल कैसे हुई सफाई और पूजा?

ट्रेंडिंग वीडियो