त्रिपुरा में हत्या के आरोपी 12 माकपा कार्यकर्ताओं को उम्रकैद

पश्चिमी त्रिपुरा की एक अदालत ने कांग्रेस के पूर्व विधायक परिमल साहा की हत्या के मामले में मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के 12 कार्यकर्ताओं को उम्रकैद की सजा सुनाई है।

By:

Published: 30 Apr 2016, 11:44 PM IST

पश्चिमी त्रिपुरा की एक अदालत ने कांग्रेस के पूर्व विधायक परिमल साहा की हत्या के मामले में मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के 12 कार्यकर्ताओं को उम्रकैद की सजा सुनाई है। अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश एस बी दत्ता ने परिमल साहा की हत्या के मामले में शुक्रवार को 17 आरोपियों में से 12 को दोषी करार दिया था तथा शनिवार को सभी को उम्रकैद की सजा सुनाई गई। 



कांग्रेस के पूर्व विधायक साहा की सात अप्रैल 1983 को बिशालगढ़ में हत्या कर दी गई थी। विशेष सरकारी वकील सम्राट भौमिक ने कहा, 'मैं व्यक्तिगत रूप से फांसी की सजा के पक्ष में नहीं हूं, लेेकिन मृत्यु तक दोषियों को अवश्य जेल में ही रहना चाहिए।' अदालत ने इस हत्या में सीधे तौर पर शामिल होने के सबूत नहीं मिलने के कारण पांच आरोपियों को बरी कर दिया। सभी दोषी बिशालगढ़ में माकपा के प्रमुख नेता से जुड़े हुए हैं। इनमें से चिन्मय घोष यूको बैंक के वरिष्ठ प्रबंधक तथा एक अन्य सजल कुमार सरकार स्कूल शिक्षक हैं। 



अदालत के फैसले के बाद साहा के भाई मतिलाल साहा ने कहा, 'हमें इस दिन का इंतजार था। त्रिपुरा के मुख्य न्यायाधीश दीपक गुप्ता का धन्यवाद, जिनकी वजह से हमें न्याय मिला है। हम लोग पिछले 33 साल से दोषियों को सजा दिलाने के लिए प्रयास कर रहे थे। राज्य में 23 वर्षों तक वाम मोर्चे की सरकार रहने के कारण न्याय नहीं मिल पाया था।'

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned