scriptजम्मू-कश्मीर की निगरानी करेगा अमरीकी मरीन जैसा बल, अब पलक छपकते ही मारे जाएंगे आतंकी | A force like the US Marines monitoring Jammu and Kashmir, terrorists will be killed in the blink of an eye | Patrika News
राष्ट्रीय

जम्मू-कश्मीर की निगरानी करेगा अमरीकी मरीन जैसा बल, अब पलक छपकते ही मारे जाएंगे आतंकी

आतंक से निपटने के लिए जम्मू कमश्मीर पुलिस ने एक बड़ा कदम उठाया है। जम्मू-कश्मीर के सीमावर्ती इलाकों की निगरानी अमरीकी मरीन की तरफ ट्रेंड विशेष बल के 960 जवानों को तैनात किया है। इन सभी को विशेष ट्रेनिंग दी गई है।

जम्मूJul 05, 2024 / 06:57 am

Anand Mani Tripathi

आतंकवाद और घुसपैठ की घटनाओं से निपटने के लिए जम्मू-कश्मीर के सीमावर्ती इलाकों में पुलिस की विशेष टुकड़ी तैनात की गई है। इसमें शामिल 960 जवानों को अमरीका की मरीन कॉप्र्स की तरह प्रशिक्षित किया गया। सूत्रों के मुताबिक पाकिस्तान से भारी हथियारों से लैस आतंकियों की घुसपैठ में बढ़ोतरी को देखते हुए यह टुकड़ी तैयार की गई। इसके करीब 560 पुलिसकर्मियों को जम्मू संभाग के सीमावर्ती इलाकों में और बाकी को कश्मीर घाटी में तैनात किया गया।
यह जम्मू-कश्मीर पुलिस का पहला ऐसा बल है, जिसके कर्मियों को किसी दूसरी ड्यूटी में तैनात नहीं किया जाएगा। जम्मू-कश्मीर के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) आर.आर. स्वैन ने बताया कि टुकड़ी के जवान सिर्फ घुसपैठ और आतंकवाद विरोधी मोर्चों पर काम करेंगे। उन्हें पीएसओ (निजी सुरक्षा अधिकारी) या कोई दूसरी जिम्मेदारी नहीं दी जाएगी। इस बारे में इन्हें सुपरवाइज करने वाले अफसरों को सख्त निर्देश दिए गए हैं। स्वैन ने कहा कि सीमावर्ती इलाकों में घुसपैठ और आतंकवाद रोधी सुरक्षा व्यवस्था को मजबूत किया जा रहा है। इसी के तहत विशेष टुकड़ी तैनात की गई।
यह है मकसद…
डीजीपी ने बताया कि ये जवान जम्मू-कश्मीर पुलिस प्रशिक्षण स्कूल से पासआउट हुए हैं। ये सीमावर्ती गांवों से हैं, इसलिए क्षेत्र को अ‘छी तरह जानते हैं। दुश्मन की रणनीति भी समझते हैं। इन्हें इनकी संबंधित सीमावर्ती तहसीलों में तैनात करने का मकसद खुफिया तंत्र को मजबूत करना है। इन्हें क्षेत्र में किसी भी असामान्य गतिविधि के बारे में जानकारी हासिल करने में आसानी होगी।

Hindi News/ National News / जम्मू-कश्मीर की निगरानी करेगा अमरीकी मरीन जैसा बल, अब पलक छपकते ही मारे जाएंगे आतंकी

ट्रेंडिंग वीडियो