scriptApril 3, 1984: when the first Indian went to space | राकेश शर्मा ने जब ब्रह्मांड में किया योगासन, दुनिया ने किया शीर्षासन | Patrika News

राकेश शर्मा ने जब ब्रह्मांड में किया योगासन, दुनिया ने किया शीर्षासन

3 अप्रैल, 1984...ये वो तारीख है जिसने दुनिया को बता दिया कि अंतरिक्ष की दौड़ में हम पीछे नहीं बल्कि हम अभिन्न अंग हैं।

जयपुर

Updated: April 03, 2022 12:34:13 pm

3 अप्रैल, 1984...शाम के 6 बजकर 38 मिनट हो रहे थे...कि रूस का हिस्सा रहे कजाकिस्तान के बैकानूर अंतरिक्ष स्टेशन के लांच पैड नंबर 31 पर तैयार राकेट में एक रौशनी कौंधी और यह तवारीख बन गई। भारत रूस के दोस्ती के और दुनिया के साथ भारत के अंतरिक्ष में दबदबे की। ये वो तारीख है जो इतिहास में नहीं अंतरिक्ष में दर्ज है। ये वो तारीख है जिसने दुनिया को बता दिया कि अंतरिक्ष की दौड़ में हम पीछे नहीं बल्कि हम अभिन्न अंग हैं।

rakesh_sharma1_1.png

आज के ही दिन स्कवाड्रन लीडर राकेश शर्मा भारत के पहले अंतरिक्ष यात्री के रूप में स्पेश स्टेशन पहुंचे। यूं तो पटियाला राजघराने, शूट और पैग लिए मशहूर रहा है लेकिन यह वो दिन है जिस दिन कुछ अलग ही स्वैग था। पटियाला बॉय अब अंतरिक्ष का किंग बन चुका था। चारो तरफ जश्न ही जश्न का माहौल था। इस जश्न के बीच सीधे अंतरिक्ष से बात चल रही थी।

प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी, रूसी अधिकारी और अंतरिक्ष में पहुंचे दल से संयुक्त कांफ्रेंस में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने अंतरिक्ष यात्री राकेश शर्मा से पूछा, "अंतरिक्ष से भारत कैसा दिखता है". जिसके जवाब में शर्मा ने कहा...सारे जहां से अच्छा हिंदुस्तान हमारा'. यह वही शब्द हैं जिनसे आज भी हर भारतीय का सीना गर्व से फूल जाता है। इस बातचीत को बेहद ही ऐतिहासिक माना जाता है।

राकेश शर्मा का जन्म 13 जनवरी 1949 को पटियाला में हुआ था। वह आज भी अंतरिक्ष में कदम रखने वाले एकमात्र भारतीय हैं। 20 सितंबर 1982 को इसरो ने उन्हें अंतरिक्ष में भेजने के लिए चुना था। 2 अप्रैल के दिन शर्मा ने सोवियत संघ के बैकानूर से सोयूज टी-11 अंतरिक्ष यान से उड़ान भरकर इतिहास रच दिया था। उन्होंने अपनी अंतरिक्ष यात्रा में 7 दिन, 21 घंटे और 40 मिनट स्पेस स्टेशन में बिताए। उनकी इस यात्रा के साथ ही भारत अपने शख्स को अंतरिक्ष में भेजने वाला 14 वां राष्ट्र बन गया था।

3 अप्रैल से 11 अप्रैल 1984 तक राकेश शर्मा अंतरिक्ष में रहे। शर्मा की अंतरिक्ष यात्रा के बाद भारत में उन्हें अशोक चक्र से सम्मानित किया गया तो वहीं सोवियत यूनियन ने उन्हें 'हीरो ऑफ सोवियत यूनियन' पुरस्कार से सम्मानित किया था। इसके बाद राकेश शर्मा के साथ 'हीरो' शब्द चिपक गया।

योगासन करने वाला एकमात्र अंतरिक्ष यात्री
अंतरिक्ष में उन्होंने विभिन्न प्रकार के 43 प्रयोग किए लेकिन सबसे अनूठा प्रयोग योग को लेकर रहा। वह पहले अंतरिक्ष यात्री थे जिन्होंने योग को अंतरिक्ष में पहुंचाया। अंतरिक्ष के लिए उन्होंने कई आसान की साधना की लेकिन इसमें से अंतरिक्ष में करने के लिए पांच योगासन को अनुमति दी गई। अंतरिक्ष में वजन कम हो जाता है ऐसे में उन्होंने अंतरिक्ष स्टेशन में खुद को बेल्ट से बांध कर इन योगासन को अंजाम दिया। उन्होंने योगाभ्यास करके यह जानने की कोशिश की इससे गुरुत्व के असर को कम करने में मदद मिल सकती है क्या।

अंतरिक्ष में खाया था मैसूर का हलवा
राकेश शर्मा रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) की मैसूर स्थित डिफेंस फूड रिसर्च लैब की मदद से भारतीय भोजन को अंतरिक्ष में ले गए थे। उन्होंने सूजी का हलवा, आलू छोले और वेज पुलाव था। इसे उन्होंने अपने साथी अंतरिक्ष यात्रियों के साथ खाया था। राकेश शर्मा को 50 फाइटर पायलटों में टेस्ट के बाद चुना गया था। शर्मा के अलावा रवीश मल्होत्रा को भी इस टेस्ट में चुना गया था।

1971 में मिग से मारा
स्‍क्‍वाड्रन लीडर राकेश शर्मा का चयन स्पेश मिशन के लिए यूं ही नहीं हुआ था। उन्होंने अपनी बहादुरी और साहस से पहले ही भारत को सराबोर कर दिया था। 1971 की जंग में पाकिस्तान को मिग की मार से ऐसा दहला दिया था कि दुश्मन सिर उठाने की जुर्रत तक नहीं कर पाया। युद्ध में उनके कौशल और साहस को सराहा गया और पूरे देश में उनकी दिलेरी की चर्चा होने लगी थी। उन्होंने 21 बार उड़ान भरी थी। अंतरिक्ष यात्रा से लौटने के बाद उन्होंने जगुआर और तेजस भी उड़ाए हैं।

चांद वाले अंकल को नहीं मिले भगवान
अंतरिक्ष लौटने के बाद भारत में अक्सर लोग राकेश शर्मा से पूछा करते थे कि क्या वो भगवान से मिले हैं। वह कहते थे—नहीं। मुझे वहां भगवान नहीं मिले। इस यात्रा को अब चार दशक हो गए हैं लेकिन वह अब भी भारत के एकमात्र अंतरिक्ष यात्री हैं। वह बताते हैं कि अब भी कई लोग, महिलाएं, अपने बच्चों से मेरा परिचय यह कह कर कराती है कि ये अंकल चांद पर गए थे। उन्होंने अंतरिक्ष में 35 बार चहल कदमी की थी।

newsletter

Anand Mani Tripathi

आनंद मणि त्रिपाठी (@aanandmani) राजनीति, अपराध, विदेश, रक्षा एवं सामरिक मामलों के पत्रकार हैं। पत्रकारिता के तीनों माध्यम प्रिंट, टीवी और आनलाइन में गहरा और अपनी तेज तर्रार रिपोर्टिंग के लिए जाने जाते हैं। पश्चिम बंगाल के कलकत्ता में जन्म हुआ। प्रारंभिक शिक्षा उत्तर प्रदेश के कानपुर और बस्ती में हुई। माध्यमिक शिक्षा नवोदय विद्यालय बस्ती, फैजाबाद और पूर्वोत्तर त्रिपुरा के धलाई जिले में हुई। अयोध्या के साकेत महाविद्यालय से स्नातक और 2009 में जेआईआईएमसी,दिल्ली से पत्रकारिता का डिप्लोमा किया। हरियाणा से पत्रकारिता आरंभ की। शिक्षा, विज्ञान, मौसम, रेलवे, प्रशासन, कृषि विभाग और मंत्रालय की रिपोर्टिंग की। इंवेस्टिगेटिव रिपोर्टिंग से शिक्षा और रेलवे विभाग के कई भ्रष्टाचार का खुलासा किया। रक्षा मंत्रालय के रक्षा संवाददाता पाठयक्रम-2016 पूरा किया। इसके बाद रक्षा मामलों की पत्रकारिता शुरू कर दी। चीन, पाकिस्तान और कश्मीर मामलों पर तीक्ष्ण नजर रहती है। लेफ्टिनेंट उमर फैयाज की हत्या 2017, राइफलमैन औरंगजेब की हत्या 2018, जम्मू—कश्मीर में बदले 2018 में बदले राजनीतिक समीकरण, पुलवामा हमला 2019, कश्मीर से 370 का हटना, गलवान घाटी मुठभेड़ 2020 को बेहद करीब से जम्मू और कश्मीर में रहकर ही कवर किया। कोरोना काल 2020 में भी लददाख से नेपाल तक की यात्रा चीन के बदलते समीकरण को लेकर की। इसके साथ ही लोकसभा चुनाव 2019 में जम्मू कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा और पंजाब की रिपोर्टिंग की। 9 नवंबर 2019 को श्रीराम जन्म भूमि अयोध्या मामले में आए फैसले की अयोध्या से कवर किया। 2022 उत्तरप्रदेश् चुनाव को सहारनपुर से सोनभद्र तक मोटर साइकिल के माध्यम से कवर किया। पत्रकारिता से इतर आनंद मणि त्रिपाठी को संगीत और पर्यटन का जबरदस्त शौक है। इन्हें किसी भी कार्य में असंभव शब्द न प्रयोग करने के लिए जाना जाता है...

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather. राजस्थान में आज 18 जिलों में होगी बरसात, येलो अलर्ट जारीसंस्कारी बहू साबित होती हैं इन राशियों की लड़कियां, ससुराल वालों का तुरंत जीत लेती हैं दिलशुक्र ग्रह जल्द मिथुन राशि में करेगा प्रवेश, इन राशि वालों का चमकेगा करियरउदयपुर से निकले कन्हैया के हत्या आरोपी तो प्रशासन ने शहर को दी ये खुश खबरी... झूम उठी झीलों की नगरीजयपुर संभाग के तीन जिलों मे बंद रहेगा इंटरनेट, यहां हुआ शुरूज्योतिष: धन और करियर की हर समस्या को दूर कर सकते हैं रोटी के ये 4 आसान उपायछात्र बनकर कक्षा में बैठ गए कलक्टर, शिक्षक से कहा- अब आप मुझे कोई भी एक विषय पढ़ाइएUdaipur Murder: जयपुर में एक लाख से ज्यादा हिन्दू करेंगे प्रदर्शन, यह रहेगा जुलूस का रूट

बड़ी खबरें

Eknath Shinde Property: मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे से 12 गुना ज्यादा अमीर हैं शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे, जानें किसके पास कितनी संपत्तिपश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री के आवास में घुसने वाले शख्स ने परिसर को समझ लिया था कोलकाता पुलिस का मुख्यालयबीजेपी नेता कपिल मिश्रा को मिली जान से मारने की धमकी, ईमेल में लिखा - 'हम तुम्हें जीने नहीं देंगे'हैदराबाद के एक कार्यक्रम में भाग लेने पहुंचे RCP सिंह तो BJP में शामिल होने की लगने लगी अटकलें, भाजपा ने कही ये बातप्रदेश के भोपाल, इंदौर समेत 11 नगर निगमों में मतदान 6 को, चुनावी शोर थमाकानपुर मेट्रो: टनल बनाने का काम शुरू, देश को समर्पित करने के विषय में मिली ये जानकारीउदयपुर कन्हैया हत्याकांड का वीडियो सोशल मीडिया पर पोस्ट करने पर युवक गिरफ्तारवरिष्ठता क्रम सही करने आरक्षकों की याचिका पर विभाग को 21 दिन में निर्णय लेने का आदेश
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.