scriptbefore floor test left mla mehboob alam met jitan ram manjhi Will there be a big political upheaval again in Bihar | बिहार में फिर होगा बड़ा उलटफेर! फ्लोर टेस्ट से पहले पूर्व सीएम से मिले लेफ्ट के विधायक | Patrika News

बिहार में फिर होगा बड़ा उलटफेर! फ्लोर टेस्ट से पहले पूर्व सीएम से मिले लेफ्ट के विधायक

locationनई दिल्लीPublished: Feb 10, 2024 02:03:10 pm

Submitted by:

Paritosh Shahi

बिहार में 12 फरवरी को होने वाले फ्लोर टेस्ट से पहले फिर एक बड़ा सियासी उलटफेर देखने को मिल सकता है। आज पूर्व सीएम जीतन राम मांझी ने लेफ्ट विधायक से मुलाकात की।

jitan_manjhi_left.jpg

बिहार में सोमवार, 12 फरवरी को होने वाले फ्लोर टेस्ट से पहले भाकपा माले के एमएलए महबूब आलम जीतनराम मांझी से मुलाकत की। इस मुलाकात ने बिहार की राजनीति में भूचाल ला दिया है। विपक्षी दलों के नेता फ्लोर टेस्ट से पहले खेला करने की बात कर रहे हैं। तेजश्वी यादव ने भी महागठबंधन की सरकार गिरने के बाद कहा था कि अभी तो खेला शुरू हुआ है। उनकी पत्नी राजश्री यादव भी जदयू के 17 विधायक के गायब होने का दावा कर चुकी हैं। इसी बीच आज जीतनराम मांझी और महबूब की यह मुलाकात काफी अहम मानी जा रही है। दोनों विपक्षी नेताओं की यह मुलाकात इस लिहाज भी महत्वपूर्ण हो जाता है क्योंकि 'हम' के पास फिलहाल 4 विधायक हैं। नए मंत्रिमंडल में उनके पार्टी को सिर्फ एक विभाग मिला जिसके बाद उन्होंने बयान दिया था था कि एक रोटी से पेट भरता है क्या?

कल किया था ऐलान

बिहार में एनडीए सरकार के बहुमत साबित करने को लेकर मचे सियासी घमासान के बीच हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (हम) ने एनडीए के साथ ही रहने की घोषणा की थी। हम के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने शुक्रवार को कहा कि हम मोदी के साथ थे, हैं और रहेंगे। मांझी ने अपने एक्स हैंडल पर लिखा कि मेरे लिए कोई सत्ता की कुर्सी मायने नहीं रखती। बस ग़रीबों, मज़लूमों, दबे-कुचलों के हक़ और हकूक की आवाज उठती रहे, उनका काम हो, यही काफी है। उन्होंने आगे लिखा कि मैं ग़रीब ज़रूर हूं पर कुर्सी के लालच में किसी को धोखा नहीं दे सकता। 'हम' मोदी जी के साथ था, मोदी के साथ है और मोदी के साथ रहेगा।

बता दें कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने 28 जनवरी को महागठबंधन का साथ छोड़कर एनडीए में शामिल होकर बिहार में सरकार बना ली। इस सरकार को मांझी की पार्टी हम का भी समर्थन प्राप्त है। मांझी के पुत्र संतोष कुमार सुमन को सरकार में मंत्री बनाया गया। इसी बीच, मांझी ने दो मंत्री पद की मांग करते हुए यहां तक कह दिया कि ऐसा नहीं करना अन्याय होगा। इसके बाद प्रदेश का सियासी पारा गर्म हो गया। हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के चार विधायक हैं।

ट्रेंडिंग वीडियो