scriptBihar Panchayat Election: fraud with biometric machine in Munger | बिहार पंचायत चुनाव में वोट डाल रहे थे मतदाता, तभी अकाउंट से पैसे हुए गायब | Patrika News

बिहार पंचायत चुनाव में वोट डाल रहे थे मतदाता, तभी अकाउंट से पैसे हुए गायब

बिहार में पंचायत चुनाव चल रहे हैं। यहां मुंगेर सदर प्रखण्ड के एक बूथ पर मतदान केंद्र पर बायोमेट्रिक मशीन की आड़ में एक दर्जन मतदाताओं के खाते से पैसे उड़ा लिए गए। इनमें अधिकांश महिलायें पीड़ित हैं।

नई दिल्ली

Published: November 30, 2021 04:18:28 pm

बिहार में पंचायत चुनाव चल रहे हैं। ये चुनाव कुल 11 चरणों में होने है और 29 नवंबर को पंचायत चुनाव के 9 वें चरण का मतदान हुआ। इस दौरान मुंगेर सदर प्रखण्ड के एक बूथ पर अजीबो गरीब स्थिति देखने को मिली। कई मतदाताओं ने शिकायत की कि जब वो वोट डालकर घर लौटे तो उनके बैंक खाते से पैसे निकाल लिए गए। इस मामले की जांच में चौंकाने वाला खुलासा हुआ।
biometric.jpg
दरअसल, मुंगेर जिले के सदर प्रखंड की नौवागढ़ी उत्तरी पंचायत के बूथ संख्या-145 पर वोट डालने के गए मतदाताओं के साथ बड़ा फर्जीवाड़ा हो गया। मतदाताओं ने बताया कि जैसे ही उन्होंने बायोमेट्रिक मशीन पर फिंगरप्रिन्ट दिए उनके खाते से पैसे निकाल लिए गए। इस बात की जानकारी सभी ने सदर की एसडीओ खुशबू गुप्ता को दी जिन्होंने मतदान केंद्र पहुँच कर मामले की पूरी जानकारी ली। खुशबू गुप्ता ने बताया कि हवेल खड़गपुर के निवासी रवि कुमार सिंह के पास से चुनाव आयोग द्वारा दी गई मशीन के अलावा एक और मशीन मिली है। इसी मशीन के जरिए रवि ने मतदाताओं के बैंक खाते से पैसे निकाले हैं। फिलहाल, आरोपी को पकड़ लिया गया है और जांच शुरू कर दी गई है।
सोमवार को मुंगेर सदर प्रखण्ड के चौड़ान बूथ सांख्य 145 पर पहली घटना सुबह 8 बजे घटी, परंतु सभी का ध्यान इस घटना पर देर से पहुंचा। दरअसल, मतदान केंद्र पर बायोमेट्रिक मशीन की आड़ में एक दर्जन मतदाताओं के खाते से पैसे उड़ा लिए गए। इनमें अधिकांश महिलायें पीड़ित हैं जिनका खाता नौवागढ़ी ग्रामीण बैंक में है। किसी के अकाउंट से 2 हजार तो किसी के अकाउंट से 10000 और कुछ के अकाउंट से चार से पाँच हजार रुपये निकाले गए हैं। इस मामले पर पीड़ित लोगों ने बताया कि फिंगर प्रिन्ट लेने वाले कर्मचारी ने उन सभी से दो बार फिंगरप्रिंट लिए थे। इसपर जब मतदाताओं ने सवाल किया तो उसने कहा कि सही से अंगूठा नहीं लगा है तभी दोबारा लगवा रहा। लोग जब मतदान के बाद घर पहुंचे तो उनके मोबाइल पर पैसे निकालने का मैसेज आया जिससे वो घबरा गए। इसके बाद मतदाता फिर से बूथ सेंटर पहुंचे तो उन्हें भगा दिया गया, परंतु जब सभी ने हंगामा किया तो पुलिस ने युवक को हिरासत में ले लिया।
इस मामले पर SDM खुशबू गुप्ता ने कहा कि 'जितने भी मतदाताओं के खाते से पैसे निकाले गए हैं उन सभी को जांच के बाद लौटा दिया जाएगा। इस गिरोह में कई जिले के लोग शामिल हैं उन्हें भी जल्द से जल्द पकड़ा जाएगा। इसके साथ ही मामले की पूरी जांच की जाएगी कि कितने लोगों के साथ ये फर्जीवाड़ा हुआ है और इस तरह के नेटवर्क का प्रसार कहाँ तक है।'
फिलहाल, आरोप बायोमेट्रिक संचालक रवि कुमार पुलिस की गिरफ्त में है और उसने ठगी की बात कबूल की है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.