scriptपति-पत्नी के बीच क्या आ सकता है ‘रोबोट’, जानिए क्या कहता है विज्ञान | Can robot come between husband and wife? Know what science says | Patrika News
राष्ट्रीय

पति-पत्नी के बीच क्या आ सकता है ‘रोबोट’, जानिए क्या कहता है विज्ञान

20 साल में लोग अपनी पसंद के महिला या पुरुष रोबोट से शादी ख्वाब देखने लगेंगे। 2050 तक अमरीका का मैसाचुसेट्स इंसान-रोबोट के विवाह को मान्यता दे सकता है। पढ़िए अरुण कुमार की विशेष रिपोर्ट…

नई दिल्लीJun 16, 2024 / 01:31 pm

Shaitan Prajapat

यह सवाल कि क्या ह्यूमनॉइड्स रोबोट रोमांटिक रिश्तों, मानवीय संवेदनाओं या फिर पति-पत्नी का स्थान ले लेंगे। व्यावहारिक रूप से इसे नकारने के हजार कारण हैं लेकिन, वैज्ञानिक इस बात को सच साबित करने में जुटे हैं। उनका कहना है कि आगामी 20 साल में लोग अपनी पसंद की महिला या पुरुष रोबोट से अंतरंग संबंध बनाएंगे और शादी भी करेंगे।
नीदरलैंड में मास्ट्रिच विश्वविद्यालय में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) शोधकर्ता डॉ डेविड लेवी ने अपने शोध में कहा है कि वर्ष 2050 तक मैसाचुसेट्स इंसान और रोबोट के विवाह को वैधता देने वाला पहला राज्य होगा। अपनी थीसिस ‘कृत्रिम सहभागियों के साथ अंतरंग संबंध’ में लेवी ने लिखा है कि रोबोट दिखने, कार्य और व्यक्तित्व में इतने मानव जैसे हो जाएंगे कि लोगों को उनके प्यार होने लगेगा, लोग उनके साथ आत्मिक और शारीरिक संबंधों से भी परहेज नहीं करेंगे।
लेवी के अनुसार सुंदर शरीर, ज्ञान और व्यक्तित्व की ओर इंसान तेजी से आकर्षित होता है और यह सब ह्यूमनॉइड्स रोबोट में प्रोग्राम किया जा सकता है। मनोवैज्ञानिकों ने करीब एक दर्जन ऐसे बुनियादी कारणों की पहचान की है जिन्हें इंसान और रोबोट के संबंधों पर लागू किया जा सकता है।

इंसान असामान्य प्राणी… कुछ भी संभव

अटलांटा में जॉर्जिया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में रोबोटिस्ट रोनाल्ड आर्किन कहते हैं कि हमें नहीं लगता कि 2050 तक मानव-रोबोट विवाह कहीं भी वैध होगा। हालांकि उनका कहना है कि ‘मनुष्य बेहद असामान्य प्राणी हैं, कभी भी कुछ भी कर सकता है। दो-चार पढ़े लिखे और ओहदे वाले लोगों के ऐसा करते ही महिला या पुरुष रोबोट से शादी का सिलसिला शुरू हो सकता है।’

अमरीका-जापान में रोबोट पर बढ़ी निर्भरता

ह्यूमनॉइड्स एआइ रोबोट खेती-किसानी, कारखानों में काम, जानवरों को चराने, मकान बनाने, होटलों और रेस्टोरेंट में खाना बनाने और परोसने, घरों में झाड़ू, पोंछा, बर्तन, बच्चों की पढ़ाई और देखभाल, हर तरह की बातचीत से लेकर मनोरंजन तक करा रहे हैं। चीन और जापान में अस्पतालों में महिला नर्स रोबोट मरीजों का पूरा ध्यान रखते हैं। मानवीय संबंधों में जिस तरह रोबोट का दखल बढ़ रहा है, कुछ भी असंभव नहीं है।

महिला रोबोट में कृत्रिम गर्भ पर हो रहा काम

बोस्टन डायनेमिक्स नामक कंपनी सबसे बेहतरीन और प्रखर मेधा वाले ह्यूमनॉइड्स रोबोट डिजाइन कर रही है। कंपनी में सैकड़ों वैज्ञानिक महिला रोबोट में आइवीएफ की तरह कृत्रिम गर्भ विकसित करने में जुटे हैं। वे वास्तविक यूट्रस (बच्चेदानी) की तरह कृत्रिम बच्चेदानी को डेवलप कर रहे हैं। इसमें बॉडी टेंपरेचर के साथ कई तरह के हार्मोंस पर प्रयोग किया जा रहा है।

इंसान-रोबोट संबंधों के पक्ष मे तर्क

वैज्ञानिकों के अनुसार महिला या पुरुष रोबोट बिना छुट्टी 24/7 सेवा में उपलब्ध रहेगा। लोग अपने सपनों की लड़की (ड्रीमगर्ल) का चेहरा, शरीर, आवाज, अंदाज, शरारत, शर्माहट, मसखरापन, अपनी जरूरत के हिसाब से प्रोग्राम कर सकते हैं। रोबोट पति या पत्नी कभी बीमार और बूढ़े नहीं होंगे। आप जब प्रेमी-प्रेमिका, पति या पत्नी के रूप में रोबोट से ऊब जाएं तो दूसरा चेहरा डिजाइन करवा कर आदतें भी रिसेट कर सकते हैं।

इंसान-रोबोट संबंधों के खिलाफ तर्क

सामाजशास्त्री रोबोट और इंसान के संबंधों के पक्ष में नहीं हैं। उनका कहना है कि मशीन कभी मानवीय नहीं हो सकती। परिवार में पति-पत्नी, बच्चों के साथ जो आत्मीयता होती है वो रोबोट से कहां आएगी? जिनकी शादी नहीं हुई रोबोट भले ही उनका जीवन कुछ आसान कर सकता है। रोबोट शारीरिक सुख भी दे सकता है लेकिन परिवारिक सुख शायद ही दे पाए। विज्ञान हर बार सृष्टि को चुनौती देता और बार-बार धोखा खाता है।

Hindi News/ National News / पति-पत्नी के बीच क्या आ सकता है ‘रोबोट’, जानिए क्या कहता है विज्ञान

ट्रेंडिंग वीडियो