scriptCentre working on mechanism to resolve GST disputes with states | GST को लेकर राज्य और केंद्र के बीच क्या है विवाद? अब इसे सुलझाने के तरीके ढूंढ रही सरकार | Patrika News

GST को लेकर राज्य और केंद्र के बीच क्या है विवाद? अब इसे सुलझाने के तरीके ढूंढ रही सरकार

GST disputes: वित्त मंत्रालय अब जिएसती GST से जुड़े विवादों के समाधान पर काम कर रहा है। इसके लिए मंत्रालय एक मैकेनिज्म लाने जा रहा है जिससे राज्यों की शिकायतों को दूर किया जा सके।

Updated: June 07, 2022 01:10:57 pm

जीएसटी लागू होने के बाद से राज्य व केंद्र सरकार के बीच कई बिंदुओं पर सहमति नहीं बन पाई है। जीएसटी विवाद को सुलझाने के लिए केंद्र सरकार एक मैकेनिज्म लाने पर विचार कर रही है जिसपर जीएसटी काउंसिल की बैठक के दौरान चर्चा की जाएगी। एक रिपोर्ट के अनुसार इसपर चर्चा के लिए राज्यों, केंद्र सरकार और स्वतंत्र कानूनी विशेषज्ञों के प्रतिनिधियों के साथ एक पैनल का गठन किया जाएगा। चर्चा से पहले ही मुद्दों की सूची बना ली जाएगी कि किस पर पहले चर्चा होनी चाहिए और किसपर बाद में। इसके साथ ही सभी विवादों की डिटेल्स भी इकट्ठी कर ली जाएगी और उसी आधार पर मामले पैनल को भेजे जाएंगे।

Centre working on mechanism to resolve GST disputes with states
Centre working on mechanism to resolve GST disputes with states
केंद्र का नया मैकेनिज्म?
चूंकि कुछ राज्य मांग कर रहे हैं कि एक बार ड्राफ्ट तैयार हो जाए फिर से इसे काउंसिल की बैठक में लाया जाए इसलिए मंत्रालय विवाद के समाधान के लिए मैकेनिज्म के प्रोसीजर पर काम कर रहा है। नियमों के मुताबिक GST कानून में इस तरह के विवादों को सुलझाने के लिए वोटिंग का प्रावधान है। इसमें केंद्र का एक तिहाई वोट होता है जबकि बाकी दो-तिहाई राज्यों का होता है। इसके बाद कम से कम तीन-चौथाई बहुमत से निर्णय पारित या अस्वीकार किया जाता है।

इससे पहले, काउंसिल ने राज्यों के बीच मतभेदों को दूर करने के लिए मंत्रियों के समूह स्थापित किए थे। इस समूह ने पिछले पांच वर्षों में, एक को छोड़कर बाकी विवादों को आम सहमति से हल किया गया है, जिसे परिषद ने वोट से तय किया था।
यह भी पढ़ें

जीएसटी फार्म 2 बी का सिस्टम फेल, रिटर्न भरने और क्रेडिट लेने पर सीबीआइसी ने किया यह ट्वीट

राजस्व का कम होना
दरअसल, GST जबसे लागू हुआ है तबसे इसके कुल राजस्व के दो बराबर हिस्से होते हैं। एक हिस्सा केंद्र तो दूसरा राज्यों के पास जाता है। जीएसटी की कुल राजस्व में से 71 फीसदी हिस्सा राज्यों के पास जाता है।

अब माना जा रहा है कि 1 जुलाई से केंद्र के सामने विवादों की लिस्ट और बढ़ने वाली है क्योंकि केंद्र किसी भी प्रकार की कमी की भरपाई के लिए मुआवजा देना बंद कर देगी। सरकार को उम्मीद थी कि GST से उसे हर महीने कम से कम 1 लाख करोड़ रुपये की होगी लेकिन ये अपेक्षा से कम ही रहा और कोरोना ने इसे ओर नीचे गिरा दिया। इसके पीछे का कारण GDP की ग्रोथ अपेक्षा से कम होना भी रहा।

मुआवजे को लेकर राज्यों की चिंता
केंद्र सरकार ने राज्य सरकारों से वादा किया था कि वो अगले पाँच सालों तक कलेक्शन में किसी भी प्रकार की कमी की भरपाई करेगी। तबसे सरकार हर साल राज्य सरकारों को मुआवजा दे रही है। इस वर्ष भी सरकार ने 31 मई 2022 तक राज्यों कों GST मुआवजे की बाकी राशि का भुगतान कर दिया है। ये समय सीमा इस साल जून में खत्म हो जाएगी। इसका अर्थ ये है कि अब किसी भी प्रकार की कमी होने पर केंद्र राज्य को भुगतान नहीं करेगी जबकि राज्य इसे समय को बढ़ाने की मांग कर रहे हैं।

केंद्र सरकार को भी इन मुआवजों के भुगतान में काफी नुकसान झेलना पड़ा है। इस वर्ष भी जीएसटी मुआवजा कोष में केवल 25,000 करोड़ रुपये ही थे लेकिन बाकी रकम सरकार ने अपने संसाधनों से जारी किये।
जीएसटी चोरी भी बना सरदर्द
इसके अलावा जीएसटी चोरी से जुड़े मामलों ने भी राज्य और केंद्र सरकार की परेशानियों को बढ़ाने का काम किया है। जिस GST को कर एकत्रीकरण को बढ़ाने और पारदर्शिता लाने के लिए लाया गया था उससे जुड़े चोरी के मामलों ने केंद्र की चिंताओं को बढ़ाया है। उदाहरण के लिए नोएडा जोन में ही हाल ही में 18.56 करोड़ की जीएसटी चोरी पकड़ी गई है।

अब जून के बाद से सरकार राज्यों को टैक्स कलेक्शन में किसी भी प्रकार की कमी की भरपाई के लिए मुआवजा बंद करेगी जिसको लेकर

यह भी पढ़ें

टैक्स चोरी के साथ जासूसी में भी लिप्त हैं चीनी कंपनियाँ: जांच में खुलासा



सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान में 26 से फिर होगी झमाझम बारिश, यहां बरसेगी मेहरबुध ने रोहिणी नक्षत्र में किया प्रवेश, 4 राशि वालों के लिए धन और उन्नति मिलने के बने योगबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयपनीर, चिकन और मटन से भी महंगी बिक रही प्रोटीन से भरपूर ये सब्जी, बढ़ाती है इम्यूनिटीबेहद शार्प माइंड के होते हैं इन राशियों के बच्चे, सीखने की होती है अद्भुत क्षमतानोएडा में पूर्व IPS के घर इनकम टैक्स की छापेमारी, बेसमेंट में मिले 600 लॉकर से इतनी रकम बरामदझगड़ते हुए नहर पर पहुंचा परिवार, पहले पिता और उसके बाद बेटा नहर में कूदा3 हजार करोड़ रुपए से जबलपुर बनेगा महानगर, ये हो रही तैयारी

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: उद्धव ठाकरे ने शिंदे खेमे को फटकारा, बोले- मेरे गर्दन और सिर में दर्द था, मैं अपनी आंखें नहीं खोल पा रहा था...Maharashtra Politics: बीजेपी नेता ने राज्यपाल को लिखा पत्र, कहा- उद्धव सरकार 2 दिन से अंधाधुंध ले रही फैसले, डिप्टी CM ने दिया जवाबMaharashtra Political Crisis: नासिक में एकनाथ शिंदे का भारी विरोध, शिवसैनिकों ने पोस्टर पर कालिख पोती, शिंदे ने टाला मुंबई आने का प्लान2-3 जुलाई को हैदराबाद में BJP की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक, पास वालों को ही मिलेगी इंट्री, सुरक्षा के कड़े इंतजामनीति आयोग के नए CEO होंगे परमेश्वरन अय्यर, 30 जून को अमिताभ कांत का खत्म हो रहा है कार्यकालG7 Summit 2022: पीएम मोदी कल जी7 शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेने जर्मनी जाएंगे, जानिए किन मुद्दों पर होगी चर्चाMumbai News Live Updates: उद्धव ठाकरे के भाषण के बाद शिवसेना नेताओं में उत्साह, कहा- MLA भले न हों लेकिन पार्टी बरकरार हैPresidential Election: NDA प्रत्याशी द्रौपदी मुर्मू ने सोनिया गांधी, ममता बनर्जी व शरद पवार से की बात, सपा का यशवंत सिन्हा को सर्मथन का ऐलान
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.