scriptChandrababu Naidu and Jaganmohan Reddy want to ally with BJP in Lok Sabha elections in andhra pradesh | एक राज्य... दो दल, BJP से गठबंधन करने के लिए पूर्व व वर्तमान CM बेताब, किसके साथ जाएंगे पार्टी | Patrika News

एक राज्य... दो दल, BJP से गठबंधन करने के लिए पूर्व व वर्तमान CM बेताब, किसके साथ जाएंगे पार्टी

locationनई दिल्लीPublished: Feb 10, 2024 12:11:33 pm

Submitted by:

Prashant Tiwari

Loksabha 2024: सूत्रों के मुताबिक, रेड्डी की भाजपा नेताओं से मुलाकात पर चंद्रबाबू नायडू की करीबी नजर जरूर बनी होगी। वह बीते कुछ दिनों से राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में डेरा जमाए हुए हैं।

 Chandrababu Naidu and Jaganmohan Reddy want to ally with BJP in Lok Sabha elections


केंद्र की सत्ता में करीब 10 साल से काबिज भारतीय जनता पार्टी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जादू अभी भी लोगों पर सवार है। अब तक कई टीवी चैनलों की तरफ से लाए गए सर्वे के मुताबिक, प्रधानमंत्री मोदी रिकॉर्ड तीसरी बार सत्ता में वापसी करने जा रहे है। ऐसे में INDIA गठबंधन के इतर दूसरे दल लगातार प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात करने के साथ ही NDA में या तो शामिल होना चाहते हैं या फिर वापसी करना चाहते है।

वहीं, कुछ राज्य ऐसे भी है जहां सत्ता पक्ष और विपक्ष दोनों ही भाजपा के साथ मिलकर लोकसभा चुनाव लड़ना चाहते हैं। दरअसल, आंध्र प्रदेश में सत्तारूढ़ वाईएसआर कांग्रेस पार्टी और मुख्य विपक्षी तेलगू देशम पार्टी दोनों ही भाजपा के साथ दोस्ती के लिए बेताब है। पिछले तीन दिनों के भीतर ही दोनों पार्टियों के नेता ने प्रधानमंत्री मोदी, गृहमंत्री अमित शाह और भाजपा अध्यक्ष के साथ मुलाकात कर चुके हैं।


भाजपा के साथ जाना दोनों के लिए फायदे का सौदा

बता दें कि आंध्र प्रदेश में लोकसभा और विधानसभा चुनाव साथ-साथ होते है। ऐसे में सूबे के दोनों दल भाजपा के साथ गठबंधन करना चाहते हैं। इसके पीछे कारण है प्रधानमंत्री मोदी की लोकप्रियता। 2019 में सत्ता वापसी के बाद पीएम मोदी ने धारा 370, राम मंदिर, तीन तलाक जैसे अपने वादे को पूरा करके लोगों में भरोसा जताया। ऐसे में भाजपा के साथ जाने में दोनों दलो को किसी भी तरह का नुकसान नहीं दिख रहा है। बता दें कि 2019 के चुनाव से पहले चंद्रबाबू नायडू ने NDA से अपना नाता तोड़ लिया था। वहीं, जगन मोहन रेड्डी लगभग हर कठिन मौके पर भाजपा के साथ समर्थन में खड़े रहे हैं।

cn.jpg

 

नायडू ने दिल्ली में जमाया डेरा

सूत्रों के मुताबिक, रेड्डी की भाजपा नेताओं से मुलाकात पर चंद्रबाबू नायडू की करीबी नजर जरूर बनी होगी। वह बीते कुछ दिनों से राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में डेरा जमाए हुए हैं। इससे पहले उन्होंने अमित शाह से मुलाकात की थी। सूत्रों संकेत दिया था कि भाजपा ने आंध्र प्रदेश में एक साथ होने वाले विधानसभा और लोकसभा चुनावों के लिए टीडीपी और उसकी सहयोगी जन सेना पार्टी (जेएसपी) के साथ एक समझौता किया है। वहीं, नायडू को उम्मीद है कि वह NDA के पुराने साथी है इसलिए भाजपा को उनके साथ जाने में किसी भी तरह की कठिनाई का सामना नहीं करना पड़ेगा।

jagan.jpg

 

जगनमोहन रेड्डी को PM मोदी से भरोसा

हालांकि, अब जगनमोहन रेड्डी की मुलाकात ने अटकलों को जन्म दे दिया है। आपको बता दें कि वाईएसआरसीपी ने लगभग हर महत्वपूर्ण अवसर पर केंद्र में भाजपा को संसद में समर्थन दिया है। माना जाता है कि वाईएसआरसीपी को राज्य में अल्पसंख्यकों का समर्थन प्राप्त है। इसलिए वह इस बात से सावधान है कि गठबंधन राज्य और राष्ट्रीय चुनावों में उसकी संभावनाओं को प्रभावित कर सकता है।

भाजपा को अपनी जीत का भरोसा

भाजपा का केंद्रीय नेतृत्व इसमें सिर्फ अपनी जीत देख रहा है, क्योंकि वाईएसआरसीपी के साथ मैत्रीपूर्ण संबंध और टीडीपी-जेएसपी के साथ आधिकारिक गठबंधन आंध्र प्रदेश की 25 लोकसभा सीटों में से कम से कम कुछ सीटों पर भगवा पार्टी के लिए जीत सुनिश्चित करेगा। 2019 के लोकसभा चुनाव में वाईएसआरसीपी ने 22 सीटें और टीडीपी ने 3 सीटें जीती थीं। हालांकि प्रदेश भाजपा को गठबंधन को लेकर आपत्ति है। राज्य के कई नेताओं का मानना है कि भाजपा के लिए अपने कैडर को मजबूत करने और दक्षिणी राज्य में अपनी जड़ें फैलाने के लिए अकेले चुनाव लड़ना बेहतर है।

ट्रेंडिंग वीडियो