दुनियाभर में हर रोज मर रहीं 60 से अधिक लड़कियां, रिपोर्ट में हुआ वजह का खुलासा !

एक रिपोर्ट के मुताबिक बाल विवाह के चलते दुनियाभर में हर रोज 60 से अधिक लड़कियों की मौत हो रही है। वहीं कोरोना महामारी के चलते बाल विवाह के मामले और बढ़ गए हैं।

By: Nitin Singh

Published: 11 Oct 2021, 09:20 PM IST

नई दिल्ली। बाल अधिकार संस्था ‘सेव द चिल्ड्रेन’ द्वारा जारी रिपोर्ट में कई चौंका देने वाले खुलासे हुए हैं। दरअसल, रिपोर्ट में बताया गया कि दुनियाभर में हर रोज 60 से अधिक लड़कियों की मौत हो रही है और इसका कारण बाल विवाह है। अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस के मौके पर जारी इस रिपोर्ट में बताया गया है कि मां-बाप कम उम्र में बेटियों की शादी कर देते हैं। वहीं कम उम्र में मां बनने की वजह से हर साल करीब 22,000 लड़कियों की मौत हो रही है।

दक्षिण एशिया में सबसे अधिक मौतें

रिपोर्ट में बताया गया कि दक्षिण एशिया में हालात सबसे अधिक चिंताजनक है। यहां रोज 6 लड़कियों की मौत होती है। इसके बाद पूर्वी एशिया और प्रशांत क्षेत्र में हर साल 650 मौतें होती हैं। वहीं लैटिन अमेरिका और कैरेबियन क्षेत्र में हर साल 560 लड़कियों की मौतें हो जाती है।

कोरोना में बढ़े बाल विवाद
बता दें कि बाल विवाह के दुष्परिणामों को देखते हुए दुनिया भर में पिछले 25 सालों में करीब 8 करोड़ बाल विवाहों को रोका गया है, लेकिन कोरोना महामारी के चलते एक बार फिर से बाल विवाह के मामले में इजाफा देखने को मिल रहा है। रिपोर्ट के मुताबिक कोरोना के चलते काम-धंधे बंद हो गए हैं। वहीं स्कूल बंद होने से बच्चे भी घर पर हैं। यही वजह है कि इस दौरान बाल विवाह के मामलों में इजाफा देखने को मिला है।

यह भी पढ़ें: कोयले की कमीं को लेकर भूपेश बघेल का केंद्र पर हमला, कहा- झूठे दावे बंद करो

रिपोर्ट में बताया गया कि कोरोना महामारी के दौरान बाल विवाह के अलावा महिलाओं के प्रति हिंसा के मामले भी बढ़ गए हैं। अगर हालात ऐसे ही बने रह तो साल 2030 तक 1 करोड़ और बाल विवाह होने का अनुमान है। गौरतलब है कि पिछले महीने नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो (NCRB) के जारी आंकड़ों के अनुसार 2020 में बाल विवाह के मामलों में पिछले साल की तुलना में करीब 50 फीसदी का इजाफा हुआ है। सामाजिक कार्यकर्ताओं का कहना है कि यह किशोरियों के मानवाधिकार का उल्लंघन है।

Nitin Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned