जेटली के खिलाफ आरोप लगाने पर आजाद BJP से सस्पेंड, कांग्रेस ने साधा निशाना

दिल्ली एवं जिला क्रिकेट संघ (डीडीसीए) में वित्तीय अनियमितताओं को लेकर वित्त मंत्री अरुण जेटली को कटघरे में खड़े करने वाले पार्टी सांसद कीर्ति आजाद को भाजपा ने सस्पेंड कर दिया है।

दिल्ली एवं जिला क्रिकेट संघ (डीडीसीए) में वित्तीय अनियमितताओं को लेकर वित्त मंत्री अरुण जेटली को कटघरे में खड़े करने वाले पार्टी सांसद कीर्ति आजाद को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने सस्पेंड कर दिया है।

कीर्ति आजाद को सस्पेंड किए जाने के बाद बीजेपी की ओर से जारी किए गए बयान में बताया गया है कि अरुण जेटली पर हमलावर होने और पार्टी लाइन के खिलाफ जाने पर कीर्ति आजाद के खिलाफ कार्रवाई की गई है।

कांग्रेस ने साधा निशाना

आजाद के सस्पेंशन की खबर लगते ही विपक्ष को सरकार को घेरने का एक और मौका मिल  गया है। कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव दिग्विजय सिंह ने कहा- कीर्ति आजाद को बीजेपी से सस्पेंड कर दिया गया, उनका अपराध यह है कि उन्होंने तथ्यों के साथ डीजीसीए के भ्रष्टाचार का मुद्दा उठाया।

कीर्ति आजाद ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में लगाए थे ये गंभीर आरोप

- कई कंपनियों के पते जांच में फर्जी पाए गए। 14 कंपनियों के फर्जी होने का दावा किया गया। कंपनियों को बिना जांच भुगतान किया गया।

- लैपटॉप, प्रिंटर की खरीद-फरोख्त में धांधली का दावा। एक लैपटॉप का किराया 16900 रुपए दिखाया गया।

- डीडीसीए में भ्रष्टाचार के बारे में केन्द्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) को जांच करनी है। यह सीबीआई पर निर्भर करता है कि वह अपनी जांच में किसे पकड़ती है।

- डीडीसीए के अधिकारियों ने जाली कंपनियां तैयार कर और जाली बिलों से करोड़ों रुपए की हेराफेरी की है। आजाद ने तो डीडीसीए को लीगल इंस्टीट्यूट ऑफ करप्शन का नाम तक दे दिया।

- डीडीसीए को बीसीसीआई से सालाना 25 करोड़ रुपये मिलते हैं, उसका भ्रष्टाचार तो और अलग है।

- वीडियो में जेनेसिस नेट लैब प्रा. लि. नाम की कंपनी का पता मधु विहार, दिल्ली में बताया गया लेकिन जांच करने पर ऐसी कोई भी कंपनी नहीं पाई गई।

- डीडीसीए की एजीएम पर 11 मिनट की सीडी दिखाई गई, जिसमें कीर्ति आजाद और एनसीटी क्रिकेट के सचिव समीर बहादुर तत्कालीन डीडीसीए अध्यक्ष जेटली से डीडीसीए में भ्रष्टाचार को लेकर जिरह कर रहे थे।

पार्टी अध्यक्ष शाह की बात को किया नजरअंदाज
बिहार के दरभंगा से सांसद आजाद पिछले कई सालों से डीडीसीए में अनियमितताओं की बात करते रहे हैं लेकिन हाल में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल द्वारा जेटली पर इस मामले में आरोप लगाए जाने के बाद उन्होंने फिर से यह मुद्दा उठाया और पार्टी नेतृत्व की मनाही के बावजूद गत रविवार को एक प्रेस कांफ्रेंस कर वित्त मंत्री से कई सवाल पूछे। पहले भाजपा के संगठन मंत्री रामलाल और फिर पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने उन्हें मामले को आगे न बढ़ाने की सलाह दी थी लेकिन वह नहीं माने और उसके बावजूद प्रेस कांफ्रेस की।

एसआईटी जांच की थी मांग
उन्होंने संसद में भी इस मामले में जांच के लिए उच्च न्यायालय की देखरेख में एसआईटी के गठन की मांग की थी। इसके बाद ऐसी अटकलें लग रही थीं कि पार्टी उनके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई करेगी। आज संसद का शीतकालीन सत्र अनिश्चितकाल के लिये स्थगित होने के बाद पार्टी ने उन्हें निलंबित कर दिया।




BJP Amit Shah Arvind Kejriwal
Show More
kamlesh Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned