पाकिस्तानी बाॅर्डर से शुरू हुआ बाल काटने की खबरों का सिलसिला पहुंचा दिल्ली तक, बड़ा सवाल- कौन है इसके पीछे

पाकिस्तानी बाॅर्डर से शुरू हुआ बाल काटने की खबरों का सिलसिला पहुंचा दिल्ली तक, बड़ा सवाल- कौन है इसके पीछे

Abhishek Pareek | Publish: Aug, 02 2017 07:51:00 AM (IST) राष्ट्रीय

रदेश के बाड़मेर, जैसलमेर जैसे पाकिस्तान से लगते सरहदी जिलों से निकलीं बाल काटने की खबरें अब अन्य जिलों से होती हुर्इ हरियाणा होते हुए दिल्ली तक पहुंच चुकी है।

राजस्थान में महिलाआें के बाल काटे जाने की खबरें लगातार आ रही हैं। प्रदेश के बाड़मेर, जैसलमेर जैसे पाकिस्तान से लगते सरहदी जिलों से निकलीं बाल काटने की खबरें अब अन्य जिलों से होती हुर्इ हरियाणा होते हुए दिल्ली तक पहुंच चुकी है। महिलाआें के बाल काटने की खबरों ने दहशत फैला दी है। किसी ने इसे तंत्र मंत्र से जोड़कर देखा तो कोर्इ इस तरह की घटनाआें को अदृश्य शक्तियों का काम मान रहा है। वहीं कर्इ लोग इसे पाकिस्तान की साजिश भी करार दे रहे हैं।




राजस्थान में इस तरह की खबरें आना भी बंद नहीं हुर्इ थी कि अब देश के अलग-अलग हिस्सों से एेसी खबरें आने लगी हैं। राजस्थान के बाद अब हरियाणा, दिल्ली, उत्तर प्रदेश आैर मध्यप्रदेश  जैसे राज्यों में भी इस तरह की एक-दो नहीं बल्कि कर्इ घटनाएं सामने आर्इ हैं।




यहां तक की साइबर सिटी के नाम से मशहूर गुड़गांव में भी चोटी काटने के कर्इ मामले सामने आ चुके हैं। हालांकि अभी तक गुड़गांव में सिर्फ एक महिला ने थाने में शिकायत दर्ज करार्इ है। इस तरह की घटनाआें ने पुलिस को भी परेशान कर दिया है आैर पुलिस इसे असामाजिक तत्वों का हाथ मानकर आगे बढ़ रही है।




उधर, हरियाणा के ही मेवात क्षेत्र में पिछले दो सप्ताह में एेसी एक-दो नहीं बल्कि कम से कम 15 मामले सामने आ चुके हैं। जहां पर महिलाआें की चोटी काटी गर्इ हैं। इसके चलते लोगों में दहशत है आैर महिलाएं घर के बाहर खाट डालकर साेने की बजाय अंदर कमरों में सो रही हैं। यहां पर महिलाआें की चोटी काटने के साथ ही उनके शरीर पर त्रिशूल आैर सिंदूर के निशान होने की बात भी सामने आ रही हैं।




मध्यप्रदेश के पहाड़गढ़ अौर कैलारस में भी इस तरह के तीन मामले सामने आ चुके हैं, जिनके चलते लोग झाड़-फूंक में जुटे हैं। यहां पर भी किसी ने भी पुलिस में शिकायत दर्ज नहीं करार्इ है।




अब लोगों में इस कदर दहशत है कि महिलाएं घर के आगे मेंहदी आैर सिंदूर के छापे लगाकर इस आफत से बचने का तरीका ढूंढ रही है। साथ ही महिलाआें को खुले बाल या चोटी की बजाय जूड़ा बनाकर सोने की भी सलाह दी जा रही है। इस तरह की घटनाआें के सामने आने के बाद हर कोर्इ ये पूछ रहा है कि इन घटनाआें के पीछे कौन है आैर एेसी घटनाआें की बाढ़ कैसे आ गर्इ है।




महिलाआें की चोटी काटने को लेकर वायरल हो रहे मैसेजेज में इसे पाकिस्तानी साजिश भी करार दिया जा रहा है। कर्इ मैसेज में इसके लिए अलग-अलग कारण बताए जा रहे हैं।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned