scriptFarmers Protest Today In Delhi: सुबह 11 बजे किसानों का दिल्ली कूच, हरियाणा-पंजाब में नेट बंद, बॉर्डर पर बढ़ाई गई सुरक्षा | Farmers Protest Update Farmers Rejected PM Modi Government 5-Year MSP Contract Offer Farmers Delhi March From 11 Am Today | Patrika News

Farmers Protest Today In Delhi: सुबह 11 बजे किसानों का दिल्ली कूच, हरियाणा-पंजाब में नेट बंद, बॉर्डर पर बढ़ाई गई सुरक्षा

locationनई दिल्लीPublished: Feb 21, 2024 06:36:39 am

Submitted by:

Anand Mani Tripathi

Farmers Protest Latest News Update: किसानों की मांग के आगे सरकार की दाल नहीं गली है। ऐसे में किसानों (Farmers) ने एक बार फिर से MSP पर दंगल का एलान कर कर दिया है। इस आंदोलन के किसान (Farmer) नेताओं ने मोदी सरकार (Modi Government) को अपनी मांगे मानने की बात दोहराई है।

farmers_delhi_chalo_protest_march_to_resume_from_21st_february_11_am.png

Farmers Protest Latest Update: केंद्र सरकार की दाल नहीं गली। किसानों ने केंद्र सरकार के प्रस्ताव को नामंजूर करते हुए सुबह 11 बजे से दिल्ली कूच का ऐलान कर दिया है। किसानों ने 18 फरवरी को केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल, अर्जुन मुंडा से बातचीत के बाद सरकार से मिले प्रस्ताव का मंथन करने के लिए दो दिनों के लिए आंदोलन रोकने का ऐलान किया था। किसानों ने मंथन के बाद केंद्र सरकार के मसूर, उड़द, अरहर (तूर), मक्की और कपास की फसल पर MSP अनुबंध की शर्त पर गारंटी प्रस्ताव काू नामंजूर कर दिया है। किसान नेता सरवन सिंह पंधेर ने इसके साथ ही कहा है कि सरकार के साथ वार्ता जारी रहेगी और हम 21 फरवरी की सुबह 11 बजे से दिल्ली के लिए कूच करेंगे।

 

 

शंभू और खनौरी बॉर्डर पर सोमवार को खराब मौसम के बीच भी डटे रहे। कुछ महिलाएं छोटे-छोटे बच्चों को भी साथ लेकर आईं हैं। वहीं, बॉर्डर पर मोबाइल व नेट बंद होने का भी किसानों ने समाधान निकाल लिया है। किसान नेताओं को अपने जत्थेबंदियों के लोगों से बात करने व उन्हें ढूंढ़ने में काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है, जिसके चलते सभी युवा जत्थेबंदियों के नेताओं को वॉकी-टॉकी से लैस किया गया है।

 

farmers_delhi_chalo_protest_march_to_resume_from_21st_february_police_welcome.png

 

 

किसान आंदोलन किसी तरह से भटकने न पाए और अनियंत्रित न हो इसका समूचा प्रबंधन किया गया है। खानपान से लेकर अन्य सेवाओं के लिए भी इसका प्रयोग किया जा रहा है। आंदोलन में शामिल एक युवा कहा कहना है कि सरकार ने संदेश भेजने से रोकने के लिए मोबाइल और नेट की सेवा बंद कर दी है। इसके कारण समस्याओं और बैठकों का संदेश एक साथ भेजने के लिए इसका प्रयोग किया जा रहा है।

farmers_delhi_chalo_protest_march_to_resume_from_21st_february.png

 

 

 

शंभू बाॅर्डर पर किसानों का जत्था दूसरे प्रदेशों से भी पहुंच रहा है। चार दिन से बॉर्डर पर जमे हिमाचल प्रदेश के मंडी से पहुंचे किसान जगदीश ठाकुर ने बताया कि वह अपने पांच साथियों के आए हैं। किसानों की मांग का पूरा समर्थन कर रहे हैं। केंद्र सरकार कर रवैया किसानों के प्रति ठीक नहीं है। उन्हें दूसरे दर्जे का नागरिक समझकर उनसे दुश्मनों जैसा व्यवहार कर रही है।

 

 

हरियाणा में चल रहे किसान आंदोलन के बीच शंभू बॉर्डर पर तैनात एएसआई कौशल कुमार की प्राकृतिक मौत हो गई है। वह हरियाणा पुलिस के एसपी कार्यालय के एकाउंट ब्रांच में तैनात था। कौशल कुमार का घर यमुनानगर के मुस्तफाबाद के पास के गांव का रहने वाला था। किसानों के आंदोलन में उसे तैनात किया गया था।

 

farmers_delhi_chalo_protest_march_to_resume_from_21st_february_police.png

 

 

किसानों के कूच के ऐलान के बाद सुरक्षाबलों ने एक बार फिर से अपनी कमर कस ली है। अब किसान दिल्ली के लिए सुबह 11 बजे फिर से कूच करेंगे। उन्हें कूच और अप्रिय घटना से रोकने के लिए सुरक्षाबलों ने अपनी मशीनों का परीक्षण कर लिया है। सुबह से उनकी सक्रियता फिर से देखने को मिल जाएगी। वहीं किसान भी इनकी तोड़ के लिए तमाम तकनीकों का प्रयोग करें।

ट्रेंडिंग वीडियो