Ganesh Chaturthi 2021 गणेश चतुर्थी पूजा सामग्री : गणेश पूजन सफल बनाने के लिए करें इन सामग्रियों का उपयोग

Ganesh Chaturthi 2021 Puja Samagri : पंचांग के अनुसार, भाद्रपद मास के शुल्क पक्ष की चतुर्थी को गणेश चतुर्थी है। आज देशभर में बड़ी धूमधाम से इस त्यौहार को मनाया जा रहा है।

By: Shaitan Prajapat

Updated: 10 Sep 2021, 06:36 AM IST

Ganesh Chaturthi 2021 Puja Samagri : हिंदी पंचांग के अनुसार, हर महीने में दो चतुर्थी तिथि एक कृष्ण पक्ष में और एक शुक्ल पक्ष में पड़ती है। हिंदू धर्म में इस तिथि की गणेश चतुर्थी के रूप में पूजा जाती है। पंचांग के अनुसार, भाद्रपद मास के शुल्क पक्ष की चतुर्थी को गणेश चतुर्थी है। आज देशभर में बड़ी धूमधाम से इस त्यौहार को मनाया जा रहा है। इस दिन गणपति पूजन के दौरान बप्पा को भक्त प्रसन्न करने के लिए अलग अलग तरह के भोग प्रसाद में चढ़ाते है।

हर घर में होती गणपति बप्पा की पूजा
देशभर में गणेश चतुर्थी का त्‍योहार काफी धूमधाम से मनाया जाता है। गणपति बप्‍पा का आज हम सभी के घर में आगमन हो रहा है। इस दिन घर-घर गणपति की स्‍थापना की जाती है और विधि विधान से उनकी पूजा की जाती है। गणेशजी को कुछ चीजें बेहद प्रिय मानी जाती हैं और कहते हैं कि इन चीजों को पूजा में शामिल करने से बप्‍पा प्रसन्‍न होकर आपकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण करते हैं।


विनायक चतुर्थी की पूजा सामग्री:—
गणेशोत्सव के दौरान भगवान श्री गणेश की विधि पूर्वक पूजा करने के लिए विभिन प्रकार की सामग्रियों की जरूरत पड़ती है। इन पूजन सामग्रियों के अभाव में गणपति बप्पा की पूजा अधूरी रह जायेगी। गणेश चतुर्थी के दिन नीचे बताई गई सामग्री के साथ भगवान गणेश की पूजा की जाती है। गणेश पूजा के पहले इन सभी पूजन सामग्री को एकत्रित कर लेना चाहिए। ताकि एन वक्त किसी प्रकार की पूजा में देरी या परेशानी नहीं हो।

 



— पूजा के लिए लकड़ी की चौकी
— गणेश भगवान की प्रतिमा
— लाल कपड़ा
— जनेऊ
— कलश
— नारियल
— पंचामृत
— पंचमेवा
— गंगाजल
— रोली
— मौली लाल
— चंदन
— अक्षत्
— दूर्वा
— कलावा
— घी
— कपूर
— मोदक
— चांदी का वर्क
— इलाइची
— लौंग
— सुपारी

यह भी पढ़ें:— Ganesh Chaturthi 2021: इस दिन चंद्रमा को न देखें, जानिए इसके पीछे की कहानी

गणेश चतुर्थी पूजा विधि:—
गणेश चतुर्थी के दिन सुबह जल्द उठकर स्नान-ध्यान करके गणपति के व्रत का संकल्प लें। इसके बाद दोपहर के समय गणपति की मूर्ति या फिर उनका चित्र लाल कपड़े के ऊपर रखें। गंगाजल छिड़कने के बाद भगवान गणेश का आह्वान करें। भगवान गणेश को पुष्प, सिंदूर, जनेऊ और दूर्वा (घास) चढ़ाए। इसके बाद गणपति को मोदक लड्डू चढ़ाएं, मंत्रोच्चार से उनका पूजन करें।

Shaitan Prajapat
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned