संघ की नजर में समलैंगिकता अपराध नहीं

संघ की नजर में समलैंगिकता अपराध नहीं

आरएसएस के समलैंगिकता वाले इस बयान से भी एक वर्ग में गरमाहट आ सकती है जिसमें उसने कहा है कि समलैंगिकता अपराध नहीं है।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के 'रुढि़वादी विचार' हमेशा ही चर्चा में रहे हैं और इन विचारों पर खुलकर विवाद की स्थिति भी बनती रही है। आरएसएस के समलैंगिकता वाले इस बयान से भी एक वर्ग में गरमाहट आ सकती है जिसमें उसने कहा है कि समलैंगिकता अपराध नहीं है। संघ के इस बयान से समलैंगिकता को गैर आपराधिक ठहराने की बहस और तेज हो सकती है।

एक मैगजीन के कार्यक्रम में भाषण देते हुए संघ के संयुक्त महासचिव दत्तात्रेय होसाबले ने कहा है कि किसी का भी सेक्स चुनाव अपराध नहीं है जब तक कि वह दूसरों के जीवन पर असर नहीं डालता। सेक्स चुनाव किसी का भी निजी मामला है। उल्ल्खनीय है कि भाजपा के एक वर्ग में भी समलैंगिकता को अपराध की श्रेणी से बाहर रखने पर बल दिया जाता रहा है।

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने भी कहा था कि जब लाखों लोग इसे अहमियत देते हैं तो उनकी अनदेखी नहीं की जा सकती। दूसरी ओर समलैंगिकता को गैरआपराधिक बनाने के लिए कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने जो प्रस्ताव लोकसभा में पेश किया था, उसे भाजपा सांसदों के विरोध के कारण ही स्वीकार नहीं किया जा सका था।
खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned