scriptHimalayan lakes will no longer become cause of destruction, sensor recorders being installed in lakes, glaciers in Uttarakhand | हिमालय की झीलें अब नहीं बनेंगी तबाही का कारण, उत्तराखंड में झीलों व ग्लेशियर में लगाए जा रहे सेंसर रिकॉर्डर | Patrika News

हिमालय की झीलें अब नहीं बनेंगी तबाही का कारण, उत्तराखंड में झीलों व ग्लेशियर में लगाए जा रहे सेंसर रिकॉर्डर

अब हिमालय की झीलें तबाही का कारण नहीं बनेंगी। वाडिया हिमालय भू-विज्ञान संस्थान उत्तराखंड में झीलों व ग्लेशियर में सेंसर रिकॉर्डर लगा रहा है, जिसके जरिए बादल फटने पर या किसी और कारण से झील के जलस्तर बढ़ने पर कंट्रोल रूम को सिंग्नल मिल जाएगा।

Published: August 03, 2022 01:37:18 pm

साल 2013 में केदारनाथ में देश-विदेश से आए हुए श्रद्धालुओं ने आपदा का वो मंजर देखा था, जो आज भी उनके रौंगेटे खड़ा कर देता है। ग्लेशियर टूटने और बादल फटने से ऊफनाई मंदाकिनी नदी ने हर जगह तबाही मचाई थी। इस आपदा के कारण कई श्रद्धालुओं को जान से हाथ धोना पड़ा। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार इस आपदा में 4 हजार के अधिक श्रद्धालु व तीर्थ यात्री लापता हो गए। इस आपदा को 9 साल बीच जाने के बाद भी आज वहां इस आपदा के सबूत मौजूद हैं। हालांकि सरकार ने मास्ट प्लान बनाते हुए काफी हद तक केदारनाथ का पुनर्निर्माण कर दिया है।
himalayan-lakes-will-no-longer-become-cause-of-destruction-sensor-recorders-being-installed-in-lakes-glaciers-in-uttarakhand.jpg
Himalayan lakes will no longer become the cause of destruction, sensor recorders being installed in lakes and glaciers in Uttarakhand
इस आपदा को ध्यान में रखते हुए भविष्य में ऐसी आपदा आने के पहले ही सतर्क होने के लिए वाडिया हिमालय भू-विज्ञान संस्थान तैयारियों में जुटा हुआ है। इसके लिए वह झीलों व ग्लेशियर में सेंसर रिकॉर्डर लगा रहा है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार अब तक 329 झीलों में 70% सेंसर लगाने का काम पूरा कर लिया गया है।

जलस्तर बढ़ते ही मिलेगा सिग्नल

डॉ. कलाचंद ने बताया कि बादल फटने या हिमस्खलन होने के कारण जैसे ही झीलों में जलस्तर बढ़ेगा संस्थान के कंट्रोल रूम में सिग्नल आ जाएगा, जिसके बाद तुरंत वैज्ञानिक झील को ‘पंक्चर’ करने की कार्रवाई शुरू कर देंगे। झील को ‘पंक्चर’ करने के लिए विशेष वाटर पंप से ऊपरी सतह से पानी को निकाला जाता है। इसके साथ ही झील के एक तरफ खुदाई कर छोटा आउटलेट बनाया जाता है, जिससे धीरे-धीरे पानी निकलते हुए फैल जाए।

नेपाल और सिक्कम के झीलों को अक्सर किया जाता है पंक्चर
मीडिया रिपोर्ट के अनुसार नेपाल और सिक्कम की झीलों को अक्सर वैज्ञानिक पंचर करते हैं, जिससे पानी धीरे-धीरे अलग-अलग तरफ फैल जाता है। पूरे हिमालयी क्षेत्र में 9 हजार झीलें से अधिक और 15 हजार से अधिक ग्लेशियर हैं।
 

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

बिहारः कांग्रेस ने बुलाई विधायकों की बैठक, नीतीश कुमार के साथ जाने पर बन सकती है सहमति!Maharashtra Cabinet Expansion: कल 15 मंत्री लेंगे शपथ, देवेंद्र फडणवीस को मिलेगा गृह विभाग? जानें शिंदे कैबिनेट के संभावित मंत्रियों के नाम'इनकी पुरानी आदत है पूरे सिस्टम पर हमला करने की', कपिल सिब्बल के बयान पर बोले कानून मंत्री किरेण रिजिजूअरविंद केजरीवाल ने कहा- देश की राजनीति में परिवारवाद और दोस्तवाद खत्म कर भारतवाद लाएंगेAmit Shah Visit To Odisha: अमित शाह बोले- ओडिशा में अच्छे दिन अनुभव कर रहे लोग, सीएम नवीन पटनायक की तारीफ भी की'नीतीश BJP का साथ छोड़े तो हम गले लगाने को तैयार', बिहार में मचे सियासी घमासान पर बोले RJD नेता शिवानंद तिवारीगालीबाज भाजपा नेता पर रखा गया 25 हजार का इनाम, 40 टीमें तलाश में जुटीTET घोटाले में हुआ बड़ा खुलासा, शिंदे गुट के विधायक अब्दुल सत्तार की बेटियों के नाम आए सामने, शिवसेना ने बोला हमला
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.