कैसे पकड़ा गया पाकिस्तानी आतंकी कासिम, जानें- दो बहादुरों की जुबानी 

कैसे पकड़ा गया पाकिस्तानी आतंकी कासिम, जानें- दो बहादुरों की जुबानी 

pawan kumar pandey | Publish: Aug, 05 2015 05:04:00 PM (IST) राष्ट्रीय

पाकिस्तानी आतंकी कासिम को पुलिस या सुरक्षा बलों ने नहीं बल्कि आम नागरिकों ने पकड़ा है। बंधक बनाए गए लोगों में दो ने बहादुरी दिखाते हुए कासिम को धर दबोचा। 

(कासिम को पकड़ने वाले- विक्रमजीत और राकेश)

जम्मू-कश्मीर के उधमपुर में बुधवार सुबह बीएसएफ के काफिले पर हमला करने वाले तीन आतंकियों में से एक कासिम खान पुलिस हिरासत में हैं। उसके दोनों साथियों को को मार गिराया गया है। पकड़ा गया आंतकी पाकिस्तान का रहने वाला है।

पकड़े गए आतंकी कासिम खान ने बताया कि वह पाकिस्तान के फैसलाबाद का रहने वाला है। पाकिस्तानी आतंकी कासिम को पुलिस या सुरक्षा बलों ने नहीं बल्कि आम नागरिकों ने पकड़ा है। बंधक बनाए गए लोगों में दो ने बहादुरी दिखाते हुए कासिम को धर दबोचा।    

pakistani terrorist kasim

रास्ता बता दो... नहीं तो जान से मार देंगे
कासिम की गिरफ्तारी में सबसे अहम भूमिका रही विक्रमजीत और राकेश की। बंधक बनाए गए विक्रमजीत ने बताया कि आंतकी कासिम ने हमें बंधक बना लिया। विक्रमजीत ने बताया कि आतंकी ने हमसे कहा कि अगर हम उसे भागने का रास्ता बता दें तो वह हमें नुकसान नहीं पहुंचाएगा। उसने हमें धमकी दी, कि रास्ता बता दो नहीं तो जान से मार देंगे। फिर हमने उसे पकड़वाने का फैसला किया।

pakistani terrorist kasim

भूखे आतंकी को खिलाया खाना  
विक्रमजीत ने बताया कि जब आतंकी को पता चला है कि उसका साथी मारा जा चुका है, तो वह धमकाने लगा और रास्ता पूछने लगा। उसके बाद हम चल पड़े। सुबह साढ़े सात बडे की बात है, वो भूखा था। हमने उसे खाना खिलाया। रास्ते में हमें राकेश मिला।

pakistani terrorist kasim

ऐसी जगह जाना चाहता था, जहां कोई उसे देख न सके
दूसरे बंधक राकेश ने बताया कि वह हमें धमकी देने लगा कि रास्ता बताओ। हमारे पास दूसरा कोई विकल्प नहीं था, तो हमने उसे गलत रास्ते पर ले जाने का फैसला किया। उसने मुझे गन प्वाइंट पर रखा हुआ था और सुरक्षित स्थान पर ले जाने के लिए बोल रहा था, जहां कोई उसे देख ना सके।

(फोटो- विक्रमजीत)

vikramjit

राकेश ने पकड़ी गर्दन, विक्रमजीत ने छीनी बंदूक
विक्रमजीत ने बताया कि कासिम ने देखा की पुलिस उसकी तरफ आ रही है, तो वह हमें धमकी देने लगा। उसी समय राकेश ने उसकी गर्दन पकड़ी और मैंने उसकी बंदूक ले ली, उसने गोली भी चलाई। मेरे हाथ में लगी। विक्रमजीत ने बताया कि जब कासिम को उसने साथियों के साथ दबोच लिया तो वह अपने दोस्तों के बारे में पूछने लगा।  

READ:
कसाब के बाद पहली बार जिंदा पकड़ा गया PAK आतंकी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned